tte-will-never-trouble-anyone-who-knows-these-rules

Travel Rules For Indian Railways : बस रख लें इन सभी नियमों की जानकारी, ट्रेन में कभी TTE नहीं कर सकेगा परेशान

भारतीय रेलवे ने यात्र‍ियों के लिए बहुत सारे नए नियम बनाए हैं। इनमें से ज्यादातर नियम रात में सफर करने वाले यात्रियों के लिए है।

Edited By: , November 29, 2022 / 08:57 PM IST

Travel Rules For Indian Railways : यदि आप भी ट्रेन से लंबे सफर की यात्रा करते हैं तो ये खबर आपके लिए बहुत ज्यादा महत्वपूर्ण है। भारतीय रेलवे ने यात्र‍ियों के लिए बहुत सारे नए नियम बनाए हैं। इनमें से ज्यादातर नियम रात में सफर करने वाले यात्रियों के लिए है। अगर आप भी ट्रेन से सफर करते हैं तो आपको रेलवे से जुड़ा हर नियम पता होना चाहिए रेलवे बोर्ड ने रात्र‍ि सफर के नियमों को अपडेट कर दिया है। आखिर क्या है रेलवे से जुड़े नियम (Railway Rules), जिनका हवाला देकर आप अपने सफर को बेहतर बना सकते हैं।>>*IBC24 News Channel के WhatsApp  ग्रुप से जुड़ने के लिए  यहां Click करें*<<

Read More: ‘रायसीना’ की रेस.. चुनावी शोर में डूबा प्रदेश, 18 जुलाई को कौन किसके पक्ष में वोट करेगा वोट? 

ये होती है परेशानी

रेलवे के थ्री-टियर कोच (Three-Tier Coach) में सफर करते समय मिडिल बर्थ (Middle Berth)को लेकर सबसे ज्‍यादा प्रॉब्‍लम होती है। सामान्य तौर पर देखा गया है कि लोअर बर्थ (lower berth) वाला यात्री देर रात तक सीट पर बैठे रहते है। जिसके कारण मिडिल बर्थ वाला यात्री आराम नहीं कर पाता है। कभी-कभी ऐसा भी होता है कि मिडिल बर्थ वाले यात्री देर रात तक लोअर बर्थ पर बैठते हैं तो लोअर बर्थ वाले को सोने में परेशानी होती है।

Read More: छत्तीसगढ़ में 17 जुलाई से ‘मानसून फूड फेस्टिवल’ का आयोजन, एक ही जगह पर मिलेगा देश भर के व्यंजनों का जायका 

क्या है Middle Berth का समय

आप रेलवे नियमों को जानने के बाद ही इसका हवाला दे सकते हैं। रेलवे नियमानुसार रात 10:00 से सुबह 6:00 बजे तक मिडिल बर्थ को खोला जा सकता है। अगर यदि आपकी लोअर बर्थ है तो रात 10:00 बजे के बाद मिडिल बर्थ या अपर बर्थ वाला यात्री आपकी सीट पर नहीं बैठ सकता। आप उसे रेलवे नियम का हवाला देकर अपनी सीट पर जाने के लिए बोल सकते हैं। यदि दिन में मिडिल बर्थ वाला यात्री अपनी सीट खोलता है तब भी आप उसे नियम बताकर ऐसा करने से मना कर सकते हैं।

TTE भी नहीं कर सकता चेक

यात्री को शिकायत रहती हैं कि सोने के बाद TTE (Travelling Ticket Examiner) कोच में टिकट चेक करने के लिए उन्हें जगा देते हैं। जिससे उनकी नींद खराब हो जाती है. यात्रियों की इस परेशानी को दूर करने और सफर को सुविधाजनक बनाने के लिए नियमानुसार टीटीई रात 10:00 बजे से सुबह 6:00 बजे तक टिकट चेक नहीं कर सकता।

शोर करने पर पाबंदी

अक्‍सर रात के समय यात्र‍ियों की तरफ से सहयात्री के मोबाइल पर तेज आवाज में गाना सुनने या बातें करने की शिकायतें रेलवे बोर्ड के पास आती हैं। यात्र‍ियों का कोई ग्रुप रात में तेज आवाज में बात करता है। रेलवे ने 10:00 बजे के बाद बिना ईयर फोन के गाने सुनने, वीडियो देखने या तेज आवाज में बात करने पर भी पाबंदी लगा रखी है।

Read More: टला बड़ा हादसा: एयरपोर्ट पर लैंड करते वक्त फ्लाइट में आई खराबी, 222 यात्री थे सवार

रेलवे स्‍टॉफ स्‍वतंत्र

यदि आपका सहयात्री आपकी बात नहीं मानता तो इसके लिए आप ट्रेन में मौजूद रेलवे स्‍टॉफ से शिकायत कर सकते हैं। रेलवे बोर्ड ने अपने स्‍टॉफ की जिम्मेदारी सौंपी है कठिन वह आपकी समस्‍या का समाधान करे। यदि सहयात्री फिर भी नहीं माने तो कार्रवाई की जाएगी।

और भी लेटेस्ट और बड़ी खबरों के लिए यहां पर क्लिक करें…