Bhupesh cabinet has taken a big decision on the issue of tribal reservation.

आरक्षण का नया दांव.. जिताएगा चुनाव? आखिर कौन है आदिवासियों का सबसे बड़ा हितैषी?

Bhupesh cabinet has taken a big decision on the issue of tribal reservation.

Edited By: , November 25, 2022 / 12:03 AM IST

रायपुरः छत्तीसगढ़ के आदिवासियों के लिए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कैबिनेट की बैठक में बड़ा फैसला लिया है। सरकार को उम्मीद है कि इससे आदिवासियों की नाराजगी दूर हो जाएगी। इस फैसले को आने वाले चुनावों के लिहाज से बड़ा दांव माना जा रहा है।

Read More : ‘चुनाव आयोग ने हमारी पार्टी का नाम ही खत्म कर दिया, यह राजनीतिक फैसले लेता है’, संजय राउत ने चुनाव आयोग पर लगाया आरोप 

छत्तीसगढ़ सरकार विपक्षी दलों के पास कोई मुद्दा नहीं छोड़ रही। जिस भी मुद्दे पर सियासी शोर शुरू होता है। कांग्रेस सरकार तुरंत उसकी काट ढूंढ लेती है। ऐसे ही अब आदिवासी आरक्षण के मुद्दे पर भूपेश कैबिनेट ने बड़ा फैसला लिया है। अनुसूचित जनजाति वर्ग के लिए 32 फीसदी, अनुसूचित जाति के लिए 13 फीसदी, ओबीसी वर्ग के लिए 27 फीसदी और ईडब्ल्यूएस के लिए 4 फीसदी आरक्षण के प्रस्ताव पर कैबिनेट ने अपनी मुहर लगाई है।

Read More : पर्स पर हमेशा रखें ये चीज, कभी पैसों की नहीं होगी कमी, बन सकतें हैं करोड़पति 

छत्तीसगढ़ सरकार ने आरक्षण के फैसले को अमलीजामा पहनाने के लिए विधानसभा का विशेष सत्र भी बुलाया है। भाजपा आदिवासियों के मुद्दे को हाथ से नहीं जाने देना चाहती, लिहाजा बीजेपी नेता कैबिनेट के फैसले को भाजपा के विरोध प्रदर्शनों का नतीजा बता रहे हैं।

Read More : यात्रीगण कृपया दें! एक दिसंबर से तीन महीनों के लिए निरस्त रहेंगी 32 प्रमुख ट्रेनें, इन गाड़ियों के समय में बदलाव, यहां देखें पूरी सूची 

छत्तीसगढ़ में आदिवासियों के लिए 29 सीटें आरक्षित हैं। इसके साथ ही बस्तर और सरगुजा की आधी से ज्यादा आबादी आदिवासियों की है। जाहिर है कि आदिवासी वोटरों का साथ सत्ता में वापसी के लिए जरूरी है। यही वजह है कि कांग्रेस, भाजपा सहित सभी दल खुद को आदिवासियों का हितैषी बता रहे हैं।