सैनिकों के सम्मान से आने वाली पीढ़ियों को मिलेगी देशभक्ति के लिए प्रेरणा: गृह मंत्री ताम्रध्वज साहू

स्वर्णिम विजय मशाल यात्रा के रायपुर छत्तीसगढ़ पहुंचने पर राजधानी स्थित साइंस कॉलेज ऑडोटोरियम में उनका सम्मान किया गया।

Edited By: , October 16, 2021 / 08:20 PM IST

रायपुर। भारत-पाकिस्तान युद्ध 1971 में पाकिस्तान के खिलाफ युद्ध में शामिल भारतीय सैनिकों के प्रति सम्मान प्रदर्शित करने और नागरिकों में गर्व की भावना जागृत करने के उद्देश्य से स्वर्णिम विजय मशाल यात्रा निकाली गई है। इसी तारतम्य में सैनिकों की स्वर्णिम विजय मशाल यात्रा के रायपुर छत्तीसगढ़ पहुंचने पर राजधानी स्थित साइंस कॉलेज ऑडोटोरियम में उनका सम्मान किया गया। इस युद्ध में छत्तीसगढ़ के भी 100 से अधिक सैनिकों ने हिस्सा लिया था।

ये भी पढ़ें:  साथ रह रहे अलग-अलग धर्मों के युवक-युवतियों को लेकर जरुरी खबर, कोर्ट ने पुलिस को दिए ये अहम निर्देश

कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू शामिल हुए। गृह मंत्री साहू ने सम्मान कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि भारत पाक युद्ध 1971 में भाग लेने वाले सैनिकों के सम्मान के लिए स्वर्णिम विजय मशाल यात्रा का छत्तीसगढ़ पहुंचना गौरव की बात है। इससे आने वाली पीढ़ी को प्रेरणा मिलेगी। साथ ही देश की रक्षा के लिए तत्पर सैनिकों के प्रति सम्मान की भावना बढ़ेगी।

ये भी पढ़ें: वैक्सीन लगाया तो डसवा दूंगी सांप से’ टीका लगाने पहुंची मेडिकल टीम के सामने महिला ने रखा कोबरा

उल्लेखनीय है कि प्रधानमंत्री के आह्वान पर भारत-पाक युद्ध 1971 में पाकिस्तान पर पूर्ण विजय होने की 50वीं वर्षगांठ को स्वर्णिम विजय यात्रा के रूप में मना रहे हैं। इस परिप्रेक्ष्य में सैनिकों द्वारा पूरे देश मे मशाल यात्रा निकाली जा रही है, 1971 के इस युद्ध मे भाग लेने वाले सैनिकों और शहीद हो चुके सैनिकों के परिवारों को सम्मानित किया जा रहा है। इसका मुख्य उद्देश्य युवाओं एवं आने वाली पीढ़ियों में सैनिको के प्रति सम्मान तथा देश भक्ति की भावना को जागृत करना है। कार्यक्रम में प्रमुख रूप से सम्मान समिति के प्रदेशाध्यक्ष महेंद्र प्रताप राणा, उपाध्यक्ष संतोष साहू सहित युद्ध में भाग लेने वाले पूर्व सैनिक तथा शहीद सैनिकों के परिजन बड़ी संख्या में उपस्थित थे।

ये भी पढ़ें: रामलीला के दौरान कलाकार की हार्ट अटैक से मौत, निभा रहे थे राजा दशरथ का किरदार