गुरू घासीदास केंद्रीय विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर चक्रवाल आईयूसीटीई के सदस्य नामित |

गुरू घासीदास केंद्रीय विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर चक्रवाल आईयूसीटीई के सदस्य नामित

Professor Chakrawal nominated as member of IUCTE : कुलपति प्रो. चक्रवाल का मनोनयन आईयूसीटीई के गवर्निंग बॉडी के अध्यक्ष द्वारा किया गया है। इनका कार्यकाल मनोनयन से तीन वर्ष का होगा।

Edited By :   June 6, 2023 / 09:24 PM IST

Professor Chakrawal nominated as member of IUCTE  बिलासपुर। गुरू घासीदास विश्वविद्यालय (केन्द्रीय विश्वविद्यालय) के कुलपति प्रोफेसर आलोक कुमार चक्रवाल को इंटर यूनिवर्सिटी सेंटर फॉर टीचर एजुकेशन (आईयूसीटीई) बनारस हिंदू विश्वविद्यालय वाराणसी की शोध सलाहकार समिति का सदस्य नामित किया गया है। कुलपति प्रो. चक्रवाल का मनोनयन आईयूसीटीई के गवर्निंग बॉडी के अध्यक्ष द्वारा किया गया है। इनका कार्यकाल मनोनयन से तीन वर्ष का होगा।

इंटर यूनिवर्सिटी सेंटर फॉर टीचर एजुकेशन (आईयूसीटीई) की स्थापना माननीय प्रधानमंत्री मोदी के द्वारा 2014 में हुई थी जो शिक्षकों के शैक्षिक और तकनीकी मार्गदर्शन, सलाहकार और नीति निर्माण, वैश्विक सहयोग और अनुसंधान व नवाचार के क्षेत्र में आवश्यकता अनुरूप सहयोग प्रदान करती है। इसके अतंर्गत शिक्षा की तेजी से बदलती दुनिया में, उच्च शिक्षा संस्थानों (एचईआई) में संकाय सशक्तिकरण और शैक्षिक उन्नयन करने के तरीके सुझाना शामिल है।

Professor Chakrawal nominated as member of IUCTE  राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 में शिक्षकों के विकास एवं शैक्षिक सशक्तिकरण पर विशेष बल दिया गया है। इंटर यूनिवर्सिटी सेंटर फॉर टीचर एजुकेशन (आईयूसीटीई) विश्वविद्यालय अनुदान आयोग का विशिष्ट केन्द्र है जो विश्वविद्यालयों और उच्च शिक्षण संस्थानों के लिए सेवाएं तथा कार्यक्रम उपलब्ध कराता है। इसके माध्यम से शिक्षा के विभिन्न आयामों को जिनमें शिक्षण विधियां, शैक्षणिक विकास, शिक्षण की समस्याएं और शिक्षण की चुनौतियां आदि शामिल है जिनका समेकित रूप में इंटर यूनिवर्सिटी सेंटर फॉर टीचर एजुकेशन (आईयूसीटीई) के द्वारा समाधान प्रदान किये जाते हैं।

read more: जरूर पूरी होगी संविदा-अनियमित कर्मचारियों की मांग! कांग्रेस विधायक ने कही ये बात, वादा खिलाफी की बात कहकर कर्मचारियों ने दी धमकी

read more:  इमरान खान की पत्नी बुशरा बीबी ने अपने खिलाफ दर्ज सभी मामलों में गिरफ्तारी से संरक्षण मांगा