शिक्षक पति की मौत के दो साल बाद भी पेंशन पाने दर दर भटक रही पत्नी, शिक्षा विभाग की कार्यप्रणाली पर उठ रहे सवाल

शिक्षक पति की मौत के दो साल बाद भी पेंशन पाने दर दर भटक रही पत्नी, शिक्षा विभाग की कार्यप्रणाली पर उठ रहे सवाल

Edited By: , October 20, 2021 / 08:58 PM IST

बिलासपुर। प्रदेश में शिक्षा विभाग की कार्यप्रणाली एक बार फिर सवालों के घेरे में है। पति की मौत के 2 साल बाद भी पेंशन पाने के लिए प्रधान पाठक की पत्नी को दर-दर भटकना पड़ रहा है। अब तक उसे पेंशन का लाभ नहीं मिला है। प्रदेश सर्व शिक्षक संघ ने अब मामले को गंभीर बताते हुए मामले की शिकायत संयुक्त सचिव स्कूल शिक्षा विभाग से की है।

ये भी पढ़ें: IBPS PO Recruitment 2021: यहां 4135 पीओ पदों पर नियुक्ति के लिए जारी हुआ नोटिफिकेशन,10 नवंबर तक करें ऑनलाइन आवेदन

दरअसल, बस्तर जिला व विकासखंड के शासकीय माध्यमिक शाला भोंड़ में पदस्थ प्रधान पाठक बंशीलाल सोनी की मृत्यु 24 अगस्त 2019 को हुई थी। नियमत: पति के मृत्यु के बाद पत्नी गीता सोनी को उनके हिस्से का पेंशन मिलना है। लेकिन विभाग को 35 साल से भी अधिक सेवा देने के बाद भी यह स्थिति है कि उन्हीं के विकासखंड शिक्षा अधिकारी कार्यालय से आज 2 साल से भी अधिक समय गुजर जाने के बाद भी उनकी पत्नी को पेंशन नहीं दिया गया है। उनकी पत्नी पेंशन के लिए दर-दर भटकने को मजबूर है।

ये भी पढ़ें: आंध्र प्रदेश में तेदेपा के बंद का खास असर नहीं, नायडू गुरुवार से करेंगे 36 घंटे का विरोध प्रदर्शन

इधर विभाग द्वारा पेंशन निर्धारण न हो पाने की स्थिति में अनुमानित पेंशन अनुमानित उपादान राशि देने का भी प्रावधान है, बावजूद इस नियम को भी अनदेखा कर विकासखंड शिक्षा अधिकारी कार्यालय के द्वारा आज तक उन्हें पेंशन राशि नहीं दी गई है। मृतक शिक्षक की पत्नी ने अब इस मामले की लिखित शिकायत सर्व शिक्षक संघ के प्रदेश अध्यक्ष विवेक दुबे से की है। जिसके बाद संघ ने संयुक्त सचिव स्कूल शिक्षा विभाग और बस्तर संभाग को पत्र लिख मामले के निराकरण और दोषी अधिकारी कर्मचारियों पर कार्रवाई की मांग की है।