मानसिक रूप से अस्वस्थ 7 साल की बच्ची से रेप के बाद हत्या, कोर्ट ने सुनाई फांसी की सजा

7-year-old girl murdered after rape : मानसिक रूप से अस्वस्थ 7 साल की बच्ची से रेप के बाद हत्या, कोर्ट ने सुनाई फांसी की सजा

Edited By: , June 24, 2022 / 02:09 PM IST

7-year-old girl murdered after rape : नई दिल्ली। उच्चतम न्यायालय ने मानसिक रूप से अस्वस्थ एवं दिव्यांग साढ़े सात साल की बच्ची के बलात्कार और उसकी हत्या के दोषी को दी गई मौत की सजा को बरकरार रखते हुए शुक्रवार को कहा कि यह अपराध अत्यंत निंदनीय है और अंतरात्मा को झकझोर देने वाला है। न्यायमूर्ति ए एम खानविलकर, न्यायमूर्ति दिनेश माहेश्वरी और न्यायमूर्ति सी टी रविकुमार की तीन सदस्यीय पीठ ने मृत्युदंड दिए जाने के राजस्थान उच्च न्यायालय के 29 मई, 2015 के आदेश को बरकरार रखा है।

Read More : ‘बच्चों के IAS बनने तक तेरहवीं मत करना…’, Whatsapp स्टेटस पर सुसाइड नोट लगाकर इंस्पेक्टर ने की आत्महत्या की कोशिश

पीठ ने कहा, ‘‘खासकर, जब पीड़िता (मानसिक रूप से अस्वस्थ और दिव्यांग साढ़े सात साल की बच्ची) को देखा जाए, जिस तरह से पीड़िता का सिर कुचल दिया गया, जिसके कारण उसके सिर की आगे की हड्डी टूट गई और उसे कई चोटें आईं, उसे देखते हुए यह अपराध अत्यंत निंदनीय और अंतरात्मा को झकझोर देता है।’’

Read More : हिम्मत है तो 24 घंटे में वापस आइए, MVA से बाहर निकलने की सोचेंगे… राउत के बयान से गरमाई महाराष्ट्र की सियासत

उच्च न्यायालय ने कहा था कि यह मामला अत्यंत दुर्लभ मामलों की श्रेणी में आता है और उसने सत्र अदालत द्वारा इस मामले में पारित आदेश को बरकरार रखा था। उसने कहा था कि सत्र अदालत के आदेश में कोई त्रुटि नहीं है। अपराधी ने 17 जनवरी, 2013 को बच्ची का अपहरण किया था, उसका बलात्कार किया था और उसकी हत्या कर दी थी।

Read More : Agnipath Scheme: आज से शुरू वायुसेना में अग्निवीरों का आवेदन, ऐसे करें अप्लाई