alvida juma ki namaaj will not be read on the streets for first time

इस बार सड़कों पर नहीं पढ़ी जाएगी अलविदा जुमे की नमाज, यहां के मुस्लिम धर्मगुरुओं ने इस वजह से लिया फैसला

इस बार सड़कों पर नहीं पढ़ी जाएगी अलविदा जुमे की नमाजः alvida juma ki namaaj will not be read on the streets for first time

Edited By: , April 28, 2022 / 07:15 PM IST

प्रयागराजः  alvida juma ki namaaj  कल रमजान माह का आखिरी शुक्रवार है। मुस्लिम धर्म में रमजान माह के आखिरी शुक्रवार के नमाज को अलविदा जुमा कहा जाता है। अलविदा जुमा को लेकर संगम नगरी प्रयागराज में खास इंतजाम किये जा रहे हैं। इस बार यहां अलविदा जुमा की नमाज सड़क पर नहीं बल्कि मस्जिदों के अंदर होगी। प्रयागराज के चौक में अलविदा की नमाज मस्जिद के बाहर सड़कों पर पढ़ने की पंरपरा चली आ रही है। मगर, अब ऐसा नहीं होगा। सड़क पर नमाज नहीं पढ़ने का फैसला खुद प्रयागराज के मुस्लिम धर्मगुरुओं ने लिया है। इसके लिए जामा मस्जिद के शाही इमाम और शहर काजी की तरफ से मस्जिदों के संचालकों और मुतवल्लियों को एडवाइजरी जारी की गई है।

Read more :  सरकारी कर्मचारियों के लिए खुशखबरी, डीए के बाद अब इन तीन भत्ते में हो सकती है बढ़ोत्तरी 

alvida juma ki namaaj  इस एडवाइजरी के मुताबिक अलविदा जुमे की नमाज किसी भी सूरत में सडकों पर नहीं होनी चाहिए। लोगों को भी सड़क पर नमाज अदा करने के बजाय इसे गली-मोहल्लों की मस्जिदों में ही पढ़ना चाहिए। अगर मस्जिदों में भीड़ ज्यादा आ जाए तो भी सड़क पर नमाज नहीं होगी। अगर बहुत जरूरी हो तो मस्जिदों में दो बार में नमाज अदा कर ली जाए। जामा मस्जिद से यह फैसला इसलिए लिया गया है ताकि गाइडलाइन का पालन हो और कहीं किसी तरह का विवाद न हो। धर्मगुरुओं की इस पहल से प्रशासन ने भी राहत की सांस ली है।

Read more :  छत्तीसगढ़ में खुलेंगे 50 नए एकलव्य आवासीय विद्यालय, एक- एक स्कूल में 420 बच्चों को मिलेगा प्रवेश 

दरअसल, अलविदा की नमाज के दिन प्रतिवर्ष शहर और आस-पास के लोग बड़ी संख्या में चौक के जामा मस्जिद में नमाज अदा करने के लिए पहुंचते थे। भीड़ ज्यादा होने की वजह से नमाजी पूरी तरह से सड़क पर बैठकर नमाज करते थे। इससे शहरवासियों को असुविधा होती थी। इस बार इस पर रोक लगा दी गई है।

 

#HarGharTiranga