आजाद को पद्म भूषण के लिए ‘जी23’ के कई नेताओं ने बधाई दी, रमेश ने कसा तंज

आजाद को पद्म भूषण के लिए ‘जी23’ के कई नेताओं ने बधाई दी, रमेश ने तंज कसा

: , January 26, 2022 / 04:01 PM IST

नई दिल्ली, 26 जनवरी (भाषा) कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद को पद्म भूषण से सम्मानित किए जाने की घोषणा के बाद पार्टी के ‘जी 23’ समूह में शामिल कई नेताओं ने बुधवार को उन्हें बधाई दी, हालांकि पूर्व केंद्रीय मंत्री जयराम रमेश ने आजाद पर कटाक्ष किया। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने अपनी ही पार्टी पर निशाना साधते हुए कहा कि यह विडंबना है कि कांग्रेस को आजाद की सेवाओं की जरूरत नहीं है, जबकि राष्ट्र उनके योगदान को स्वीकार कर रहा है।

पढ़ें- विराट कोहली ICC बल्लेबाजी रैंकिंग में दूसरे नंबर पर.. रोहित तीसरे स्थान पर कायम

सरकार की ओर से मंगलवार को पद्म सम्मानों की घोषणा की गई। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री आजाद को सार्वजनिक मामलों में उनके योगदान के लिए पद्म भूषण से नवाजा जाएगा। सिब्बल ने ट्वीट किया, ‘‘गुलाम नबी आजाद को पद्म भूषण से सम्मानित किया गया है। बधाई हो भाईजान। यह विडंबना है कि कांग्रेस को उनकी सेवाओं की जरूरत नहीं है जबकि राष्ट्र सार्वजनिक जीवन में उनके योगदान को स्वीकार करता है।’’

पढ़ें- ओमिक्रॉन की दस्तक के बावजूद, स्कूलों को यथासंभव सुरक्षा के साथ खुला रखना जरूरी

राज्यसभा में कांग्रेस के उप नेता आनंद शर्मा ने आजाद को बधाई देते हुए कहा, ‘‘जन सेवा और संसदीय लोकतंत्र में समृद्ध योगदान के लिए गुलाब नबी आजाद को यह सम्मान मिला है जिसके वह हकदार हैं। उन्हें बहुत बधाई।’’ कांग्रेस सांसद शशि थरूर ने भी आजाद को बधाई दी।

पढ़ें- राफेल से लेकर जैगुआर सहित 75 विमानों ने किया किया शौर्य का प्रदर्शन.. 60 मीटर से 300 मीटर तक फ्लाई पास्ट 

आजाद, सिब्बल, शर्मा और थरूर कांग्रेस के उस ‘जी 23’ का हिस्सा हैं जिसने साल 2020 में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को पत्र लिखकर कांग्रेस में आमूल-चूल परिवर्तन और जमीन पर सक्रिय संगठन की मांग की थी। बहरहाल, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता जयराम रमेश ने मंगलवार रात आजाद पर कटाक्ष किया।

पढ़ें- फिटनेस में हीरो को भी देते हैं मात.. जानिए देश के पुलिसकर्मी जो हैं बॉडी-बिल्डर

रमेश ने पश्चिम बंगाल के पूर्व मुख्यमंत्री बुद्धदेव भट्टाचार्य की ओर से पद्म भूषण सम्मान को अस्वीकार किए जाने को लेकर आजाद पर कटाक्ष करते हुए ट्वीट किया, ‘‘यही सही चीज थी करने के लिए। वह आजाद रहना चाहते हैं गुलाम नहीं।’’

पढ़ें- छत्तीसगढ़ की गोधन न्याय योजना की कामयाबी का साक्षी बना राजपथ..गणतंत्र दिवस पर निकली झांकी ने लाखों दर्शकों का मन मोहा

उधर, सिब्बल के ट्वीट को रिट्वीट करते हुए असम के मुख्यमंत्री और भाजपा नेता हिमंत बिस्व सरमा ने कहा, ‘‘मैं गुलाम नबी आजाद जी को कई वर्षों से जानता हूं। यह एक प्रतिष्ठित नेता, सज्जन व्यक्ति और घोर राष्ट्रवादी को दिया गया सम्मान है जिसके वह हकदार हैं। आजाद जी को पद्म भूषण प्रदान करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी का आभार।’’