Raju Srivastav Health Update: क्या गजोधर भैया को ठीक कर सकते हैं बिग-बी !

क्या गजोधर भैया को ठीक कर सकते हैं बिग-बी ! राजू श्रीवास्तव की सेहत को लेकर आया बड़ा अपडेट

Raju Srivastav Health Update: क्या गजोधर भैया को ठीक कर सकते हैं बिग-बी ! राजू श्रीवास्तव की सेहत को लेकर आया बड़ा अपडेट

Edited By: , November 29, 2022 / 07:56 PM IST

Raju Srivastav Health Update: दिल्ली। राजू श्रीवास्तव अपने फैंस के दिलों में बंसते हैं। उन्होंने अपने हर अंदाज से हमेशा फैंस को एंटरटेन किया है। कॉमेडियन होने के साथ राजू एक एक्टर भी हैं। वो कई फिल्मों में काम कर चुके हैं। अपने मजाकिया अंदाज से फैंस के चेहरे पर मुस्कान लाने वाले राजू श्रीवास्तव जिंदगी की मुश्किल जंग लड़ रहे हैं। अब कॉमेडियन की सेहत को लेकर नई अपडेट सामने आई है। दिल्ली AIIMS में राजू का इलाज चल रहा है। राजू श्रीवास्तव की स्थिति में थोड़ा सुधार हुआ है। >>*IBC24 News Channel के WHATSAPP  ग्रुप से जुड़ने के लिए  यहां CLICK करें*<<

ये भी पढ़ें- जिलाध्यक्ष पद से मुक्त हुए विधायक, कहा- प्रदेश अध्यक्ष का फार्मूला अपनाया

राजू की हो रही न्यूरोफिजियोथेरेपी

Raju Srivastav Health Update: ताजा जानकारी के मुताबिक, राजू श्रीवास्तव अभी भी कोमा में हैं। राजू के इलाज के लिए डॉक्टर अब न्यूरोफिजियोथेरेपी की मदद ले रहे हैं। डाक्टर्स ने बताया कि राजू के ब्रेन की तीन नसों में से एक नस अभी भी ब्लॉक है और इसका इलाज चल रहा है। इसके अलावा राजू श्रीवास्तव अभी भी वेंटिलेटर पर हैं। हालांकि, उनकी सेहत में हल्का सुधार आया है। यह भी बताया जा रहा है कि राजू श्रीवास्तव की मानसिक कंडीशन में सुधार लाने के लिए डॉक्टर्स उन्हें अमिताभ बच्चन के शोज और परफॉर्मेंस की वॉयसरिकॉर्डिंग राजू को सुनाई जा रही है।

ये भी पढ़ें-  क्या मेड इन इंडिया होने जा रहा है iPhone 14 ! इस महीने लांच हो सकता है नया मॉडल

क्या होती है न्यूरोफिजियोथेरेपी

Raju Srivastav Health Update: न्यूरोफिजियोथेरेपी, फिजियोथेरेपी की एक शाखा है जो उन लोगों के उपचार और प्रबंधन में माहिर हैं जिनके पास न्यूरोलॉजिकल स्थितियां हैं जो उनके मस्तिष्क, रीढ़ की हड्डी या नसों को नुकसान पहुंचाती हैं। न्यूरोथेरेपी में बिना दवा के रोगों का इलाज किया जाता है। शरीर पर लगभग 80 के करीब प्वाइंट हैं जिन पर सैकड़ों के हिसाब प्रेशर देकर ब्लड के बहाव को तेज किया जाता है। ऐसा कर आर्गन या ग्लैंड में ब्लड की सप्लाई को सुचारु किया जाता है।

IBC24 की अन्य बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करें