कांग्रेस सांसद का पार्टी विधायकों से अनुरोध, बेटों को मिले सरकारी नौकरी के प्रस्ताव को ठुकरा दें | Congress MP requests party MLAs to reject government job proposal for sons

कांग्रेस सांसद का पार्टी विधायकों से अनुरोध, बेटों को मिले सरकारी नौकरी के प्रस्ताव को ठुकरा दें

कांग्रेस सांसद का पार्टी विधायकों से अनुरोध, बेटों को मिले सरकारी नौकरी के प्रस्ताव को ठुकरा दें

: , June 21, 2021 / 12:58 PM IST

चंडीगढ़, 21 जून (भाषा) पंजाब में दो विधायकों के बेटों को सरकारी नौकरी दिये जाने के मामले पर कांग्रेस की राज्य इकाई में तकरार के बीच पार्टी के सांसद प्रताप सिंह बाजवा ने सोमवार को विधायकों से इस पेशकश को ठुकराने का आग्रह किया। बाजवा ने विधायकों फतेहजंग सिंह और राकेश पांडे से यह अपील की। सिंह के बेटे अर्जुन प्रताप बाजवा को ”अनुकंपा” के आधार पर पुलिस निरीक्षक जबकि पांडे के बेटे भीष्म पांडे को नायब तहसीलदार बनाया गया है। प्रताप सिंह बाजवा कादियान से विधायक फतेहजंग सिंह बाजवा के बड़े भाई भी हैं। राकेश पांडे लुधियाना से कांग्रेस के विधायक हैं।

read more: सांसद सिंधिया की सुरक्षा में बड़ी चूक, SP ने 14 पुलिसकर्मियों को किया सस्पेंड

सरकारी नौकरी के लाभार्थी अर्जुन बाजवा, पंजाब के पूर्व मंत्री सतनाम सिंह बाजवा के पोते हैं। अमरिंदर सिंह सरकार का कहना है कि सतनाम सिंह बाजवा ने 1987 में राज्य में शांति और सद्भाव के लिए अपनी जान कुर्बान कर दी थी। इसी तरह, भीष्म पांडे राज्य के पूर्व मंत्री जोगिंदर पाल पांडे के पोते हैं। सरकार के मुताबिक जोगिंदर की 1987 में आतंकवादियों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी।

read more: फेसबुक लाइव कर युवक ने पिस्टल से खुद को मार ली गोली, SDM और तहसीलदार पर प्रताड़ित करने के आरोप

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता प्रताप सिंह बाजवा ने सोमवार को कहा कि सतनाम सिंह बाजवा और जोगिंदर पाल पांडे ऐसे जन नेता थे, जिन्होंने कई दशकों तक जनता की सेवा की।बाजवा ने कहा कि उन्होंने पंजाब में आतंकवाद के अंधकारमय समय में देश की एकता और अखंडता की रक्षा करते हुए अपने प्राणों की आहुति दी।

read more: इस साल भी सरकार ने रद्द की अमरनाथ यात्रा, श्रद्धालु ऑनलाइन कर सकेंगे दर्शन

 बाजवा ने एक बयान में कहा, ”उनकी लंबी विरासत को देखते हुए मैं अपने छोटे भाई विधायक फतेहजंग सिंह बाजवा और मेरे सहयोगी विधायक राकेश पांडे से अपील करता हूं कि वे स्वेच्छा से, अनुकंपा के आधार पर अपने बेटों को नौकरी देने का प्रस्ताव ठुकरा दें। मुझे यकीन है कि दिवंगत नेताओं की याद को सम्मान देने का यह सबसे अच्छा तरीका होगा।” पंजाब सरकार के इस कदम से कांग्रेस की राज्य इकाई के प्रमुख सुनील जाखड़ समेत कई नेता नाराज हैं।

 

 

#HarGharTiranga