पानी-पानी.. उत्तराखंड.. बारिश के कहर से अब तक 40 की मौत, छत्तीसगढ़ के भी पर्यटक फंसे

Rain wreaks havoc in Uttarakhand, 40 killed so far, tourists from Chhattisgarh also stranded

Edited By: , October 20, 2021 / 10:51 AM IST

Uttarakhand Monsoon News Hindi : नई दिल्ली। उत्तराखंड के विभिन्न हिस्सों में लगातार बारिश के कारण 40 लोगों की जान चली गई। कई लोग मकान गिरने के बाद मलबे में ही दबे रहे। इसमें सबसे ज्‍यादा 25 मौतें नौनीताल में हुई हैं।

पढ़ें- बिजली कर्मचारी के अगवा बेटे को जिंदा जलाया, 50 लाख मांगी थी फिरौती, स्कूल संचालक सहित 2 गिरफ्तार

नैनीताल में 25 लोगों की मौत
स्टेट इमरजेंसी ऑपरेशन सेंटर के मुताबिक, सोमवार को कुमाऊं में पांच लोगों की मौत हुई. SEOC ने कहा कि मंगलवार को नैनीताल से 25, अल्मोड़ा से 3 और चंपावत और उधम सिंह नगर जिलों में एक-एक व्यक्ति की मौत हुई।

पढ़ें- सरकारी कर्मचारी की पत्नी से 1 करोड़ की ठगी, आरोपी महिला पुलिसकर्मी और उसका पति गिरफ्तार

भू-स्खलन के कारण नैनीताल जाने वाले रास्ते ब्लॉक हो गए हैं. नैनीताल राज्य के बाकी हिस्सों से दूसरे दिन भी कटा रहा. नैनीताल के माल रोड और नैनी झील के किनारे स्थित नैना देवी मंदिर में पानी भर गया, जबकि भूस्खलन के कारण एक हॉस्टल की इमारत क्षतिग्रस्त हो गई।

पढ़ें- क्यों नाराज हैं शेडो MLA…इनकी नाराजगी 2023 में कांग्रेस की तैयारियों पर भारी पड़ेगी?

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने बाढ़ पीड़ितों के लिए मुआवजे का ऐलान किया है। पुष्कर सिंह धामी ने उधमसिंह नगर में बाढ़ पीड़ितों से मुलाकात के बाद कहा, “राज्य में आई आपदा में 40 लोगों की मौत हुई है. मृतकों के परिजनों को 4 लाख रुपए और जिनके घर टूटे हैं उन्हें 1 लाख 9 हजार रुपए दिए जाएंगे. जिन्हें पशु हानि हुई है उनकी भी सहायता की जाएगी.”

पढ़ें- ईद मिलाद उन-नबी के जुलूस के दौरान पुलिस पर पथराव, हुड़दंगियों पर किया लाठीचार्ज

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने बाढ़ क्षेत्रों का हवाई सर्वेक्षण किया. बाजपुर, रामनगर, किच्छा और सितारगंज में बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का हवाई सर्वेक्षण कर उन्होंने बाढ़ का जायजा लिया. इस दौरान उनके साथ राज्य के मंत्री धन सिंह रावत और राज्य के DGP अशोक कुमार भी मौज़ूद रहे।