udaipur-murder-kanhaiya-murder case accused-riyaz-attari

Udaipur murder case: अगर भीड़ खूंखार हत्यारों को पकड़ लेती, तो आरोपियों ने इस तरह से छुड़ाने की कर रखी थी तैयारी

udaipur-murder case : राजस्थान के उदयपुर में टेलर कन्हैयालाल की नृशंस हत्या से लोगों में भारी आक्रोश है। लोग इस घटना से आरोपियों पर बेहद

Edited By: , July 2, 2022 / 09:33 PM IST

udaipur-murder case : राजस्थान के उदयपुर में टेलर कन्हैयालाल की नृशंस हत्या से लोगों में भारी आक्रोश है। लोग इस घटना से आरोपियों पर बेहद गुस्से में हैं। इस हत्याकांड से जुड़े 4 आरोपियों को सुरक्षा व्यवस्था के बीच आज एनआईए कोर्ट के सामने पेश किया गया था। कोर्ट में पेशी के दौरान आक्रोशित लोगों ने आरोपियों पर हमला कर दिया। दूसरी ओर उदयपुर के कन्हैयालाल हत्याकांड में नया खुलासा हुआ है।

पुलिस ने जिन दो अन्य आरोपी मोहसिन और आसिफ़ को गिरफ़्तार किया है वे मुख्य आरोपी गौस और रियाज़ के साथ साज़िश और वारदात में शामिल थे। ये घटना के दिन मौक़े पर दो बाइक लेकर मौजूद थे ताकि अगर पकड़े जाते हैं तो भीड़ से छुड़ा कर उन्हें ले जाएं। या उनकी बाइक स्टार्ट नहीं होती तो अपने बाइक पर ले भागें। इन्हें इस पूरी घटना की प्लानिंग की जानकारी थी। अगर कन्हैया लाल दुकान नहीं खोलता तो कन्हैया लाल को घर में घुसकर मारने की प्लानिंग कर रहे थे। एनआईए ने मुख्य आरोपियों के साथ इन्हें भी 12 जुलाई तक अपनी कस्टडी में ले लिया है।

Read More: नूपुर शर्मा के समर्थन में टिप्पणी करने वाले केमिस्ट की हत्या, 6 आरोपी चढ़े पुलिस के हत्थे, गृह मंत्रालय ने दिए NIA जांच के निर्देश

बता दें कि कन्हैयालाल की हत्या से पहले कई बार मीटिंग हुई थी। मीटिंग में रियाज़, मोहम्मद गौस, आसिफ और मोहसिन शामिल थे। रियाज ने आसिफ और मोहसिन को रेडक्लाइज करके इस वारदात में साथ देने के लिए तैयार किया था। आसिफ और मोहसिन कन्हैया लाल की हत्या की प्लानिंग से लेकर हथियार बनाने तक में शामिल रहे। कन्हैया लाल की दुकान जिस गली में थी उस गली में पहले से रियाज और मोहम्मद गौस का आना जाना था। उदयपुर में जब विवादित बयान पर कुछ लोग समर्थन करने लगे तभी रियाज और मोहमद गौस ने तय कर लिया था की कुछ बड़ा करना है। कन्हैया आसान शिकार लगे और चूंकि पहले से रियाज और मोहम्मद गौस कन्हैया की दुकान के पास आते जाते रहते थे और उस गली से वाकिफ थे तो हत्याकांड को अंजाम दिया।

Read More: अब आधार से पेन लिंक करने के लिए जेब करनी होगी ढीली

किया जा रहा गिरफ्तार

उधर कन्हैया लाल की हत्या के बाद नूपुर शर्मा मामले में हत्या की धमकी देनेवाले सभी लोगों की धड़पकड़ राजस्थान में शुरू हो गई है। पुलिस की मौजूदगी में बूंदी में धमकी देनेवाले दोनों मौलानाओ मुफ्ती नदीम अख़्तर और मोहम्मद आलम राजा गौर को गिरफ़्तार किया गया, जिसे 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है। अजमेर दरगाह के बाहर 17 जून को भड़काऊ नारे लगाने के मामले में 13 दिन बाद 4 लोगों को गुरूवार को गिरफ़्तार किया गया था। जिसमें दो लोगों को पूछताछ के लिए पुलिस रिमांड पर लिया गया। मुख्य आरोपी फ़रार है।

Read More: प्रदेश की जनता को जाम से मिलेगा छुटकार, इन 10 शहरों में बनने जा रहे 21 फ्लाई ओवर 

 

#HarGharTiranga