protest of electricians: बिजली कर्मचारियों को मंत्री जी वादा निभाओं प्रदर्शन

दीपावली पर ब्लैकआउट की चेतावनी, बिजली कर्मचारियों ने किया ‘मंत्री जी वादा निभाओं’ प्रदर्शन

protest of electricians: बिजली कर्मचारियों को मंत्री जी वादा निभाओं प्रदर्शन, मांगे पूरी नहीं होने पर ब्लैकआउट की चेतावनी

Edited By: , September 23, 2022 / 01:17 PM IST

protest of electricians: भोपाल। राजधानी भोपाल में बिजली कर्मचारियों ने सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। अपनी मांगो को लेकर कर्मचारी जल्द ही बड़े प्रदर्शन की राह पकड़ने जा रहे है। दरअसल आज बिजली कर्मचारियों ने मंत्री जी वादा निभाओ प्रदर्शन किया। इस दौरान करमचारियों ने नियमीतीकरण, अनुकंपा नियुक्ति समेत 18 मांगों को पूरी करने की सराकर से मांग की जा रही है। ऊर्जा मंत्री ने मांगों पूरी करने का आश्वासन दिया था। लेकिन आज तक कर्मचारियों की एक भी मांग पूरी नहीं हुई जिस वजह से अब उन्होंने आंदोलन की राह पकड़ ली है। आज के प्रदर्शन में कर्मचारियों ने मांग करते हुए कहा कि 2 अक्टूबर तक सुनवाई नहीं होने पर वे बड़ा आंदोलन करेंगे। इतना ही नहीं उन्होंने दीपावली पर ब्लैकआउट की चेतावनी भी दी है।

ये भी पढ़ें- बुलेट बाइक को लेकर छिड़ा विवाद, जानें ऐसा क्या हुआ जिससे हुई ताबड़तोड़ फायरिंग

वादा दिलाया याद

protest of electricians: मध्यप्रदेश के बिजली कर्मचारी दिवाली के पहले बड़े आंदोलन की तैयारी में है। जिसकी शुरुवात आज सांकेतिक प्रदर्शन के रूप में कर्मचारियों ने कर दी है। 18 सूत्रीय मांगों को लेकर बिजली कर्मचारियों ने सांकेतिक प्रदर्शन किया गया और ऊर्जा मंत्री प्रद्धुम्न सिंह तोमर को उनका वह वादा याद दिलाया, जो उन्होंने एक साल पहले मांगों को लेकर किया था। एमपी नगर विद्युत सब स्टेशन के सामने यूनाइटेड फोरम फॉर पावर एंप्लॉय एवं इंजीनियर संगठन के बैनरतले बिजली कर्मचारियों ने प्रदर्शन किया। इस दौरान कर्मचारी मंत्री जी वादा निभाओ लिखी तख्तियां हाथों में लिए थे और नारेबाजी कर रहे थे।

ये भी पढ़ें- एमपी का पीएफआई कनेक्शन, ये काम करने के मिलते थे पैसे, चारों आरोपियों को स्पेशल कोर्ट में किया पेश

ब्लैकआउट की चेतावनी

protest of electricians: प्रदर्शनकारियों का कहना है कि 23 अगस्त 2021 को ऊर्जा मंत्री ने एक महीने में 18 सूत्रीय मांगों का निराकरण करने का वादा किया था। लेकिन एक साल बीत गया, मांगों पर न तो कोई चर्चा हुई और न ही निराकरण किया गया। इसलिए यह सांकेतिक प्रदर्शन किया गया, ताकि ऊर्जा मंत्री मांगों पर ध्यान दे दें, वरना 2 अक्टूबर को प्रदेशभर में आंदोलन करेंगे जिसमे प्रदेश के करीब 70 हजार कर्मचारी शामिल होंगे। 2 अक्टूबर के आंदोलन के बाद भी हमारी मांगे पूरी नहीं हुई तो प्रदेश के सभी बिजली कर्मचारी कार्यबहिष्कार कर अनिश्चितकालीन आंदोलन पर चले जाएंगे और दिवाली पर ब्लैकआउट की स्थिति की जिम्मेदार ऊर्जा मंत्री की होगी।

ये भी पढ़ें- मानसून की विदाई, जाते-जाते जमकर बरसेंगे बदरा, इस साल पड़ेगी कड़ाके की ठंड

कर्मचारियों की प्रमुख मांगे

protest of electricians: संगठन ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को पत्र लिखकर ऊर्जा मंत्री सिंह की वादाखिलाफी पर नाराजगी जाहिर की है कर्मचारियों ने कहा की अब बातचीत सिर्फ सीएम से होगी उनके निचे किसी भी मंत्री या अधिकारी से नहीं करेंगे। क्योंकि ऊर्जा मंत्री और विभाग के प्रमुख सचिव संजय दुबे पर अब भरोसा नहीं रहा। बिजली कर्मचारियों पुरानी पेंशन की बहाली, संविदा कर्मचारियों के नियमितीकरण, गृह जिला ट्रांसफर नीति, कंपनी कैडर अधिकारी कर्मचारियों की वेतन विसंगति, आउटसोर्स कर्मचारियों का बिजली कंपनियों में संविलियन, आउटसोर्स कर्मचारियों का वेतन रिवाइज, संगठनात्मक संरचना का पुनर्गठन, सेवानिवृत्ति के उपरांत ग्रेविटी जीपीएफ ईएल इंकेसमेंट, अनुकंपा नियुक्ति चालू करने, पदोन्नति का लाभ देने की मांग कर रहे है।

IBC24 की अन्य बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करें