PFI's MP Connection: एमपी का पीएफआई कनेक्शन, ये काम करने के मिलते थे पैसे

एमपी का पीएफआई कनेक्शन, ये काम करने के मिलते थे पैसे, चारों आरोपियों को स्पेशल कोर्ट में किया पेश

PFI's MP Connection: एमपी का पीएफआई कनेक्शन, ये काम करने के मिलते थे पैसे, चारों आरोपियों को स्पेशल कोर्ट में किया पेश

Edited By: , September 23, 2022 / 12:00 PM IST

PFI’s MP Connection: भोपाल। कट्टरपंथियों की मदद के आरोप में पापुलर फ्रंट आफ इंडिया यानी पीएफआई से जुड़े प्रमुख लोगों पर देशभर में कार्रवाई की गई है। मध्य प्रदेश में इसका नेटवर्क सामने आया है। बताया जा रहा है कि प्रदेश में कट्टरपंथी विचारधारा के प्रचार-प्रसार के लिए युवाओं को तरह-तरह के प्रलोभन देकर जोड़ा जाता था। हर व्यक्ति को पीएफआइ की तरफ से एक से दो महीने के भीतर 7 हजार से 10 हजार रुपये तक दिए जाते थे। यह राशि उनके खाते में डाली जाती थी। एक व्यक्ति को अधिकतम 40 हजार रुपए तक इसके लिए दिए जाते थे। सूत्रों के अनुसार पीएफआइ की तरफ से यह राशि विचारधारा के प्रचार-प्रसार के लिए साहित्य तैयार कराने, इसे बंटवाने, इंटरनेट मीडिया और आने-जाने के खर्च के लिए दी जाती थी।

ये भी पढ़ें- मानसून की विदाई, जाते-जाते जमकर बरसेंगे बदरा, इस साल पड़ेगी कड़ाके की ठंड

चारों का हुआ मेडिकल टेस्ट

PFI’s MP Connection: पीएफआई से जुड़े चारों आरोपियों को NIA स्पेशल कोर्ट में पेश किया गया। इससे पहले PFI के चारों मेंबर का मेडिकल टेस्ट कराया गया। स्पेशल कमांडो की सुरक्षा व्यवस्था के बीच सफर में मेडिकल कराया गया। बता दें कि NIA ने एमपी के इंदौर से 3 और उज्जैन से 1 आरोपी गिरफ्तार किया था। एनआईए की जांच एमपी एटीएस कर रही है। बता दें कि इंदौर से संगठन का राज्य सरगना अब्दुल करीम, मोहमद खालिद,जावेद और उज्जैन से मोहम्मद जमील गिरफ्तार किया गया था। बताया जाता है कि आतंकी संगठन सूफा से जुड़े 11 लोगों के खिलाफ चार्जशीट पेश की जाएगी। जयपुर कोर्ट में NIA ने चार्जशीट दाखिल की है। 11 आरोपियों में से मुख्य आरोपी इमरान समेत 10 आरोपी मध्यप्रदेश के रहवासी है।

ये भी पढ़ें- आज का दिन खास, 12 घंटे का दिन, 12 घंटे की रात, आज से बदलेगा हवाओं का रूख

NIA ने किए कई बड़े खुलासे

PFI’s MP Connection: NIA की जांच में कई बड़े अहम खुलासे हुए है। खूंखार आतंकी संगठन आईएसआईएस (ISIS) से सभी आरोपी प्रभावित थे। मुख्य साजिशकर्ता इमरान मीटिंग और ट्रेनिंग करवाता था। 30 अप्रैल 2022 में 11 आरोपियों के पास से विस्फोटक सामग्री जप्त हुई थी। राजस्थान के चित्तौड़गढ़ से विस्फोटक सामग्री के साथ गिरफ्तार किए गए थे। मुख्य साजिशकर्ता इमरान समेत 10 आरोपी मध्यप्रदेश के रतलाम के रहवासी बताए जाते हैं। यह बात भी सामने आ रही है कि पीएफआई से मिली राशि के बड़े हिस्से का उपयोग इन युवाओं को प्रशिक्षण देने में भी किया जाता था।

IBC24 की अन्य बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करें