vishwakarma puja muhurat 2023

Vishwakarma Jayanti 2023: 50 साल बाद विश्वकर्मा पूजा पर बन रहा है ये खास संयोग, नौकरी- व्यवसाय में सफलता के लिए करें ये उपाय

vishwakarma puja muhurat 2023: 50 साल बाद विश्वकर्मा पूजा पर बन रहा है ये खास संयोग, नौकरी- व्यवसाय में सफलता के लिए करें ये उपाय

Edited By :   Modified Date:  September 15, 2023 / 04:15 PM IST, Published Date : September 15, 2023/4:15 pm IST

नई दिल्ली। vishwakarma puja muhurat 2023 हर साल 17 सितंबर को विश्वकर्मा पूजा मनाया जाता है। इस साल विश्वकर्मा पूजा 17 सितंबर 2023 को है। इस दिन विश्वकर्मा जयंती के नाम से जाना जाता है। विश्वकर्मा पूजा देवताओं के शिल्पकार भगवान विश्वकर्मा को समर्पित है। शिल्प के देवता भगवान विश्वकर्मा की जयंती हर साल कन्या संक्रांति के दिन मनाई जाती है। विश्वकर्मा पूजा पर ऑफिस, फैक्ट्री, अस्त्र-शस्त्र की विधिवत पूजा करने का विधि-विधान है, इसके साथ ही इस दिन नौकरी और व्यापार में सफलता प्राप्त करने के लिए कुछ विशेष उपाय कर सकते हैं, तो चलिए जानते हैं इस दिन कौन-से उपाय करना शुभ होगा

Read More: BJP leader accused of rape: भाजपा नेत्री ने अपने ही पार्टी के नेता पर लगाए दुष्कर्म के आरोप, सिविल लाइन थाने में दर्ज करवाई FIR

विश्वकर्मा पूजा डेट- 17 सितंबर 2023, रविवार

vishwakarma puja muhurat 2023 विश्वकर्मा पूजा का समय- 17 सितंबर को पूरे दिन भगवान विश्वकर्मा की पूजा की जाएगी। लेकिन इस दिन पूजन का शुभ मुहूर्त सुबह 10 बजकर 15 मिनट से दोपहर 12 बजकर 26 मिनट तक रहेगा। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार, इस अवधि में पूजन करने से शुभ फलों की प्राप्ति होगी।

Read More: IND vs BAN Asia Cup LIVE Update: भारत को मिली दूसरी सफलता, तन्जिद हसन 13 रन बनाकर लौटे पवेलियन 

औजारों की करते हैं पूजा-

इस दिन विशेष तौर पर औजार, निर्माण कार्य से जुड़ी मशीनों, दुकानों, कारखानों, मोटर गैराज, वर्कशॉप, लेथ यूनिट, कुटीर एवं लघु इकाईयों आदि में भगवान विश्वकर्मा की पूजा की जाती है।

Read More: IND vs BAN Asia Cup LIVE Update: बांग्लादेश के खिलाफ टीम इंडिया ने जीता टॉस, लिया पहले गेंदबाजी का फैसला 

विश्वकर्मा पूजा विधि-

इस दिन अपने कामकाज में उपयोग में आने वाली मशीनों को साफ करें। फिर स्नान करके भगवान विष्णु के साथ विश्वकर्माजी की प्रतिमा की विधिवत पूजा करनी चाहिए। ऋतुफल, मिष्ठान्न, पंचमेवा, पंचामृत का भोग लगाएं। दीप-धूप आदि जलाकर दोनों देवताओं की आरती उतारें।

Read More: Search for father of 10 children: 10 बच्चों के पिता से शादी करना चाहती है आधा दर्जन बच्चों की मां, जानिए क्या है वजह 

विश्वकर्मा पूजा का महत्व

श्रमिक वर्ग से जुड़े लोगों के लिए यह दिन बेहद खास होता है। इस दिन सभी कारखानों और औद्योगिक संस्थानों में विश्वकर्माजी की पूजा की जाती है। मान्यता है कि इस दिन भगवान विश्वकर्मा की पूजा-अर्चना करने से भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं साथ ही व्यापार में तरक्की और उन्नति प्राप्त होती है। इनकी पूजा करने से व्यक्ति में नई ऊर्जा का संचार होता है और व्यापार या निर्माण आदि जैसे कार्यों में आने वाली सभी समस्याएं और रुकावटें दूर होती हैं।

छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव में किसकी सरकार बनाएंगे आप, इस सर्वे में क्लिक करके बताएं अपना मत

 

देश दुनिया की बड़ी खबरों के लिए यहां करें क्लिक

 
Flowers