सिंधू बीडब्ल्यूएफ विश्व टूर फाइनल्स के फाइनल में, लक्ष्य सेमीफाइनल में हारे

सिंधू बीडब्ल्यूएफ विश्व टूर फाइनल्स के फाइनल में, लक्ष्य सेमीफाइनल में हारे

Edited By: , December 4, 2021 / 09:28 PM IST

बाली, चार दिसंबर ( भाषा ) भारतीय बैडमिंटन स्टार पी वी सिंधू ने जापान की अकाने यामागुची को शनिवार को कठिन मुकाबले में हराकर बीडब्ल्यूएफ विश्व टूर फाइनल्स के फाइनल में प्रवेश कर लिया ।

मौजूदा विश्व चैम्पियन और दो बार की ओलंपिक पदक विजेता सिंधू ने यह रोमांचक मुकाबला 21 . 15, 15 . 21, 21 . 19 से जीता ।

वह रविवार को फाइनल में कोरिया की एन सेयंग से भिड़ेंगी जिन्होंने थाईलैंड की पोर्नपावी चोचुवोंग को दूसरे सेमीफाइनल में 25 . 23 21 . 17 से हराया।

हालांकि युवा भारतीय खिलाड़ी लक्ष्य सेन पुरूष एकल सेमीफाइनल में डेनमार्क के मौजूदा ओलंपिक चैम्पियन और दुनिया के नंबर एक खिलाड़ी विक्टर एक्सेलसेन से 39 मिनट में 13 . 21 11 . 21 से हार गये।

वह सत्र के इस आखिरी टूर्नामेंट के फाइनल में तीसरी बार पहुंची है । उन्होंने 2018 में यह खिताब जीता था और यह उपलब्धि अपने नाम करने वाली वह अकेली भारतीय हैं ।

दुनिया की सातवें नंबर की खिलाड़ी सिंधू का तीसरे नंबर की जापानी खिलाड़ी के खिलाफ रिकॉर्ड 12 . 8 का था ।

तोक्यो ओलंपिक में कांस्य पदक जीतने के बाद सिंधू फ्रेंच ओपन, इंडोनेशिया मास्टर्स और इंडोनेशिया ओपन के सेमीफाइनल तक पहुंची । वह मार्च में स्विस ओपन फाइनल हार गई थी ।

वह मार्च में स्विस ओपन में उप विजेता रही थीं।

लेकिन सेयंग के खिलाफ फाइनल सिंधू के लिये आसान नहीं होगा क्योंकि दुनिया की छठे नंबर की खिलाड़ी इंडोनेशिया मास्टर्स और इंडोनेशिया ओपन में लगातार खिताब जीतने के बाद सत्र के अंतिम टूर्नामेंट में पहुंची हैं।

सेयंग ने अक्टूबर में डेनमार्क ओपन के क्वार्टरफाइनल में भी सिंधू को हराया था।

यामागुची के खिलाफ सिंधू पहले गेम में 0 . 4 से पिछड़ रही थीं लेकिन वह तेजी से 4 . 4 से बराबरी करने और फिर इसे 9 . 9 करने में सफल रहीं। दोनों बराबरी पर चल रही थीं पर सिंधू ने 15 . 14 की बढ़त को 18 . 15 कर दिया। इसके बाद उन्होंने लगातार तीन अंक जुटाकर पहला गेम अपने नाम किया।

दूसरे गेम में कड़ी टक्कर रही जिसमें दोनों खिलाड़ी 10.10 से बराबरी पर थीं। पर यामागुची ने बिना किसी परेशानी के इसे जीत लिया।

निर्णायक गेम में सिंधू और यामागुची 5 . 5 पर बराबरी पर थी। इसके बाद भारतीय खिलाड़ी ने लगातार सात अंक जुटा लिये। जापानी खिलाड़ी ने वापसी करने की कोशिश की और अंतर 11 . 13 कर दिया। पर सिंधू 17 . 12 से आगे हो गयीं।

यामागुची भी आसानी से हार मानने वाली नहीं थीं, उन्होंने स्कोर 19 . 19 से बराबर कर दिया। वहीं सिंधू ने अपना सर्वश्रेष्ठ अंत के लिये बचा रखा था और उन्होंने लगातार दो अंक जुटाकर तीसरा गेम जीतकर मैच जीत लिया।

पुरूष एकल के फाइनल में एक्सेलसेन थाईलैंड के कुनलावुत वितिदसर्ण से भिड़ेंगे जिन्होंने दूसरे समीफाइनल में आल इंग्लैंड चैम्पियन ली जि जिया को 21 . 18 21 . 18 से शिकस्त दी।

भाषा नमिता आनन्द

आनन्द