बालिग किसी भी धर्म में कर सकता है शादी, माता-पिता भी नहीं रोक सकते.. इस हाईकोर्ट का अहम फैसला

Adults can marry in any religion, even parents cannot stop it.. Important decision of this High Court

Edited By: , September 17, 2021 / 07:03 AM IST

इलाहाबाद, यूपी। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने शादी की उम्र को लेकर बड़ा फैसला सुनाया है। कोर्ट के मुताबिक भारत का संविधान प्रत्येक बालिग नागरिक को अपनी मर्जी से धर्म अपनाने व पसंद की शादी करने की आजादी देता है।

पढ़ें- जम्मू कश्मीर के उपराज्यपाल ने वैष्णोदेवी स्मारक सिक्का जारी किया

इस पर कोई वैधानिक रोक नहीं है। कोर्ट ने यह बात मुस्लिम युवती की हिंदू युवक से लिव इन रिलेशनशिप के मामले में कही। प्रेमी युगल ने कोर्ट से आग्रह किया था कि वो अपनी मर्जी से एक दूसरे के साथ हैं।

पढ़ें- पोर्नोग्राफी मामले में कुंद्रा की बढ़ी मुश्किलें, 1500 पन्नों की चार्जशीट दायर, करोड़ों कमाने की जानकारी के साथ लिखी गई ये बात

कोर्ट ने मुस्लिम युवती व उसके प्रेमी को सुरक्षा प्रदान करने का निर्देश देते हुए कहा कि सिर्फ विवाह के लिए धर्म परिवर्तन करना स्वीकार्य नहीं है। लेकिन अगर दो बालिग एक दूसरे को पसंद करते हैं तो उन्हें एक साथ जीने का अधिकार है।

पढ़ें- 1 साल तक महिला ने किसी से नहीं बनाए यौन संबंध, टेस्ट कराई तो निकली प्रेग्नेंट.. अब समझ नहीं आ रहा क्या करे 

इसमें उनके माता-पिता भी आपत्ति नहीं कर सकते। हालांकि कोर्ट ने ये भी कहा कि ये अंतिम निष्कर्ष नहीं है। वो युवती व य़ुवक की उम्र को देख ये बात कह रहे हैं। इस मामले में लड़की की उम्र 19 व उसके पार्टनर की 24 साल है।