भाजपा के 12 विधायकों के निलंबन पर न्यायालय का निर्णय एमवीए सरकार के चेहरे पर जोरदार तमाचा: फड़णवीस

भाजपा के 12 विधायकों के निलंबन पर कोर्ट का निर्णय एमवीए सरकार के चेहरे पर जोरदार तमाचा: फड़णवीस

भाजपा के 12 विधायकों के निलंबन पर न्यायालय का निर्णय एमवीए सरकार के चेहरे पर जोरदार तमाचा: फड़णवीस

: , January 28, 2022 / 02:43 PM IST

मुंबई, 28 जनवरी (भाषा) भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वरिष्ठ नेता देवेंद्र फड़णवीस ने शुक्रवार को उच्चतम न्यायालय के उस फैसले का स्वागत किया जिसमें उसने भाजपा के 12 विधायकों के महाराष्ट्र विधानसभा से निलंबन को ‘असंवैधानिक’ और ‘तर्कहीन’ करार दिया है।

पढ़ें- विदेश से आने वालों के लिए आइसोलेशन अवधि 21 से घटाकर 14 दिन की.. यहां के लिए फैसला

महाराष्ट्र विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष फड़णवीस ने कहा कि शीर्ष अदालत का फैसला शिवसेना, राकांपा और कांग्रेस की महा विकास आघाड़ी (एमवीए) सरकार की ”असंवैधानिक, अनैतिक, अनुचित, अवैध और अलोकतांत्रिक कार्रवाई” को लेकर उसके चेहरे पर ”एक और जोरदार तमांचा” है।

पढ़ें- सीएम बघेल आगरा-कैंट में कर रहे धुआंधार चुनाव प्रचार.. घर-घर जाकर लोगों से कांग्रेस प्रत्याशी को जिताने की अपील

उच्चतम न्यायालय ने शुक्रवार को कहा कि भाजपा के 12 विधायकों को जुलाई 2021 के शेष सत्र की अवधि के बाद निलंबित करने का प्रस्ताव ”असंवैधानिक” और ”तर्कहीन” है। शीर्ष अदालत ने 12 विधायकों की याचिकाओं पर अपना फैसला सुनाया, जिन्होंने राज्य विधानसभा से एक साल के निलंबन को चुनौती दी थी।

पढ़ें- ओमिक्रॉन के बाद अब सामने आया एक खतरनाक कोरोना वायरस, तेजी से हो रही मौत.. वैज्ञानिकों ने दी चेतावनी 

विधायकों को अध्यक्ष के कक्ष में पीठासीन अधिकारी भास्कर जाधव के साथ दुर्व्यवहार करने के आरोप में पिछले साल 5 जुलाई को विधानसभा से निलंबित कर दिया गया था।फड़णवीस ने शीर्ष अदालत के फैसले पर प्रतिक्रिया करते हुए ट्वीट किया,, ”सत्यमेव जयते। मॉनसून सत्र के दौरान महाराष्ट्र विधानसभा में ओबीसी के लिए लड़ने वाले हमारे 12 विधायकों के निलंबन को रद्द करने के उच्चतम न्यायालय के ऐतिहासिक फैसले का स्वागत करते हैं और अदालत का आभार व्यक्त करते हैं।”

पढ़ें- अवैध रेत खनन के खिलाफ तत्काल एक्शन नहीं होने पर अफसरों पर होगी कड़ी कार्रवाई, कलेक्टर-एसपी की होगी व्यक्तिगत जिम्मेदारी- सीएम बघेल

निलंबित किए गए 12 विधायकों में संजय कुटे, आशीष शेलार, अभिमन्यु पवार, गिरीश महाजन, अतुल भातखलकर, पराग अलवानी, हरीश पिंपले, योगेश सागर, जय कुमार रावत, नारायण कुचे, राम सतपुते और बंटी भांगड़िया शामिल हैं। फड़णवीस ने कहा कि उच्चतम न्यायालय के फैसले से लोकतांत्रिक मूल्यों की रक्षा होगी और यह असंवैधानिक, अनैतिक, अनुचित, अवैध और अलोकतांत्रिक कार्यों और गतिविधियों के लिए एमवीए सरकार के चेहरे पर एक और जोरदार तमांचा है।

 

 

#HarGharTiranga