डॉक्टर हैरान, बच्चे का 22 लीटर खून पी गए पेट के कीड़े, शरीर में हो रही थी खून की कमी..

Doctor surprised, worms drank 22 liters of blood of the child, there was a lack of blood in the body..

Edited By: , October 5, 2021 / 12:34 PM IST

worms that drank 22 litres blood

नई दिल्ली।  गंगाराम अस्पताल में एक 14 साल के बच्चे को लाया गया जिसका 22 लीटर (50 यूनिट) खून कीड़े पी गए। उत्तराखंड के हल्द्वानी के रहने वाले किशोर के पेट में कीड़े थे (एक तरह के कृमि) जो पिछले दो साल से उसकी खून चूस रहे थे। डॉक्टरों को उसकी बीमारी समझ नहीं आ रही थी।

पढ़ें- लोगों को गाड़ी से रौंदने का वीडियो अब हो रहा वायरल, प्रियंका गांधी ने सोशल मीडिया में किया शेयर, 8 की गई है जान 

अस्पताल के गैस्ट्रोलॉजी विभाग के चेयरमैन डॉ. अनिल अरोड़ा ने बताया कि जब से वे प्रैक्टिस कर रहे है, यह ऐसा पहला मामला है जो उनके सामने आया है। बच्चे की बीमारी इतनी बढ़ गई थी कि उसके शौच में भी खून आने लगा था जिससे उसमें आयरन की कमी हो गई थी और वह एनीमिया से पीड़ित हो गया था। 6 महीने पहले जब उसे इलाज के लिए यहां लाया गया तो उसके शरीर में हीमोग्लोबिन की मात्र 5.86 ग्राम प्रति डेसीलीटर रह गई थी।

पढ़ें- पेट्रोल-डीजल की कीमतों मेें फिर इजाफा, 26 राज्यों में 100 रुपए के पार पेट्रोल

उन्होंने कहा कि एंडोस्कोपी व क्लोनोस्कोपी जांच रिपोर्ट भी सामान्य आई। इसके बाद उसकी कैप्सूल एंडोस्कोपी की गई। जांच के दौरान कृमि नजर आए। दवा देकर उन कृमियों को मारा गया। डॉक्टर ने कहा कि कृमि की समस्या बहुत सामान्य है।

पढ़ें- कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी 28 घंटे बाद भी हिरासत में, प्रधानमंत्री को ट्वीट कर पूछा सवाल

गंदा पानी पीने, हाथ साफ किए बगैर भोजन करने व नंगे पांव चलने से पेट में खतरनाक कृमि उत्पन्न होते हैं लेकिन यह इतने खतरनाक साबित हो सकते हैं, यह पहली बार देखा। परिजनों ने बताया कि अब तक उसे 50 यूनिट खून चढ़ाया जा चुका है। हालांकि किशोर को पेट में दर्द, डायरिया या बुखार की परेशानी नहीं थी।

पढ़ें- एक नजर में भा जाएगी TATA Punch.. 20 को लॉन्चिंग, इलेक्ट्रिक मॉडल भी आएगी? जानिए इसकी खूबियां

इस समस्या के चलते उसके शरीर में खून की कमी के चलते हर माह के बाद उसे बार-बार खून चढ़ाना पड़ता था लेकिन हर बार कृमि खून पी जाते। जब परिजन सभी तरफ से परेशान हो गए तो किशोर को गंगाराम अस्पताल में डॉक्टरों को दिखाया। डॉक्टरों ने कैप्सूल एंडोस्कोपी से इस घातक बीमारी की पहचान की और उसका इलाज शुरू किया।