पृथ्वी की बदलती जलवायु पर एक नजर : कुड मॉडल अति संवेदनशील |

पृथ्वी की बदलती जलवायु पर एक नजर : कुड मॉडल अति संवेदनशील

पृथ्वी की बदलती जलवायु पर एक नजर : कुड मॉडल अति संवेदनशील

: , April 5, 2022 / 11:50 AM IST

ओलाफ मोर्गनस्टर्न, प्रिंसिपल साइंटिस्ट – एटमॉस्फियर एंड क्लाइमेट, नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वॉटर एंड एटमॉस्फेरिक रिसर्च

ऑकलैंड, पांच अप्रैल (द कन्वरसेशन) इंटरगवर्नमेंटल पैनल ऑन क्लाइमेट चेंज (आईपीसीसी) की रातों रात जारी की गई ताजा रिपोर्ट, इस दशक के अंत तक वैश्विक उत्सर्जन को आधा करने की जरूरत बताती है।

यह आईपीसीसी के छठे आकलन दौर में पहले की रिपोर्टों का अनुसरण करती है, जो एक बार फिर कहती है कि जलवायु परिवर्तन स्पष्ट और सर्वव्यापी है, इसके लिए मनुष्यों को दोषी ठहराते हुए कहा गया है कि जब तक हम उत्सर्जन में गहरी कटौती नहीं करते हैं, तब तक वार्मिंग को दो डिग्री सेल्सियस से नीचे रखने का पेरिस का लक्ष्य पूरा नहीं हो पाएगा।

भविष्य की वार्मिंग के अपने अनुमानों के लिए, आईपीसीसी जलवायु मॉडल पर बहुत अधिक निर्भर करता है – कंप्यूटर सिमुलेशन जो हमें यह समझने में मदद करते हैं कि अतीत में जलवायु कैसे बदल गई है और भविष्य में विभिन्न उत्सर्जन परिदृश्यों के तहत इसके कैसे बदलने की संभावना है।

इन मॉडलों को लगातार अद्यतन किया जाता है लेकिन कुछ नई पीढ़ी के मॉडल पिछले वाले की तुलना में उल्लेखनीय रूप से उच्च जलवायु संवेदनशीलता दिखा रहे हैं।

आईपीसीसी के अनुसार, हमारे ग्रह की वास्तविक जलवायु संवेदनशीलता उतनी बड़ी होने की संभावना नहीं है जितना कि ये मॉडल सुझाव देते हैं, जो यह सवाल उठाता है कि अगर उनकी जलवायु संवेदनशीलता अवास्तविक है तो हम उनका उपयोग क्यों कर रहे हैं।

जलवायु संवेदनशीलता का आकलन

जलवायु संवेदनशीलता बताती है कि मानव-जनित ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन के कारण वैश्विक तापमान में कितनी वृद्धि होगी।

2.5 से 4 डिग्री सेल्सियस की संभावित सीमा के साथ पूर्व-औद्योगिक कार्बन डाइऑक्साइड के स्तर को दोगुना करने पर वार्मिंग का सबसे सटीक अनुमान 3 डिग्री सेल्सियस है, लेकिन चल रहे शोध का उद्देश्य इस सीमा को कम करना है।

प्रसिद्ध मॉडलिंग केंद्रों द्वारा तैयार कई नए मॉडल, इस संभावित सीमा के बाहर जलवायु संवेदनशीलता दिखाते हैं और यह 2013 में आईपीसीसी के अंतिम मूल्यांकन के लिए उपयोग किए गए किसी भी मॉडल से अधिक हैं। नतीजतन वह 21 वीं शताब्दी के दौरान असामान्य रूप से अधिक और तेज़ वार्मिंग का इशारा करते हैं।

आलोचक जलवायु मॉडल को आम तौर पर जलवायु प्रणाली की जटिलताओं को पकड़ने के त्रुटिपूर्ण उपाय के रूप में देखते हैं, जो कि जलवायु नीतियों को निर्देशित करने के लिए वैज्ञानिक प्रमाण के रूप में पर्याप्त नहीं है।

हां, सभी जलवायु मॉडलों में खामियां हैं क्योंकि वे मॉडल हैं, वास्तविकता नहीं। लेकिन वे पिछले जलवायु परिवर्तन को पकड़ने में शानदार रूप से सफल रहे हैं।

फिर भी कुछ मॉडलों का भविष्य की जलवायु की तस्वीर को बढ़ा चढ़ाकर दिखाना चिंता का कारण है।

भूवैज्ञानिक साक्ष्य उच्च-संवेदनशीलता मॉडल दिखाते हैं जो अतीत के तापमान में उतार-चढ़ाव को बढ़ा-चढ़ाकर पेश करते हैं। उसी तरह से, कुछ बहुत कम संवेदनशीलता वाले मॉडल भी हैं, जिनके सही होने की संभावना नहीं है।

नवीनतम रिपोर्ट का निष्कर्ष है कि जलवायु संवेदनशीलता को अब बेहतर ढंग से समझा गया है, लेकिन यह उच्च-संवेदनशीलता मॉडल को पूरी तरह से खारिज नहीं करता है। इसके बजाय, यह कहता है कि ऐसे मॉडल ‘‘उच्च जोखिम, कम संभावना’’ के सिद्धांत का अनुसरण करते हैं, जिन्हें खारिज नहीं किया जा सकता है।

द कन्वरसेशन एकता एकता

एकता

 

(इस खबर को IBC24 टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

#HarGharTiranga