Boost consumption of lassi and sattu to increase employment

चाय नहीं, लस्सी और सत्तू पीजिए, लोगों को मिलेगा रोजगार, अर्थव्यवस्था भी होगी मजबूत, इस देश की सरकार ने लोगों को दी नसीहत

चाय नहीं, लस्सी और सत्तू पीजिए, लोगों को मिलेगा रोजगार! Boost consumption of lassi and sattu to increase employment

Edited By: , June 26, 2022 / 01:28 AM IST

लाहौर: Boost consumption of lassi  पाकिस्तान में एक शीर्ष शैक्षणिक निकाय ने नकदी की कमी वाले देश में रोजगार को बढ़ावा देने और चाय के आयात पर खर्च को कम करने के लिए लस्सी और सत्तू जैसे स्थानीय पेय की खपत को बढ़ावा देने के एक नए विचार का प्रस्ताव दिया है। जियो टीवी की खबर के मुताबिक, उच्च शिक्षा आयोग की कार्यवाहक अध्यक्ष डॉ. शाइस्ता सोहेल ने सार्वजनिक क्षेत्र के विश्वविद्यालयों के कुलपतियों को भेजे एक परिपत्र में उन्हें “नेतृत्व की भूमिका निभाने और निम्न-आय समूहों और अर्थव्यवस्था को राहत प्रदान करने के लिए अभिनव तरीकों के बारे में सोचने के लिए कहा है।”

Read More: फिर लगेगा लॉकडाउन? कोरोना संक्रमितों के आंकड़ों में बढ़ोतरी को देखते हुए इस राज्य के स्वास्थ्य मंत्री ने दिया ये निर्देश

Boost consumption of lassi  परिपत्र में, सोहेल ने “स्थानीय चाय बागानों और लस्सी व सत्तू जैसे पारंपरिक पेय को बढ़ावा देने का सुझाव दिया है, जिससे रोजगार बढ़ेगा और जनता के लिए इन पेय के निर्माण में शामिल आय भी उत्पन्न होगी। चाय के आयात पर होने वाला खर्च भी कम हो जाएगा।” स्टेट बैंक ऑफ पाकिस्तान के अनुसार, पाकिस्तान चालू खाता घाटे और घटते विदेशी मुद्रा भंडार से जूझ रहा है, जो 17 जून तक घटकर 8.2 बिलियन अमेरिकी डॉलर हो गया था।

Read More: शिवसेना में राजनीतिक संकट सच और झूठ की लड़ाई, लेकिन जीतेंगे तो हम ही: मंत्री आदित्य ठाकरे

इस महीने की शुरुआत में, पाकिस्तान के योजना, विकास और विशेष पहल मंत्री अहसान इकबाल ने नागरिकों से चाय की खपत में कटौती करने का आग्रह किया है ताकि देश के घटते विदेशी मुद्रा भंडार में सेंध लगाने वाले आयात भुगतान को कम करने में मदद मिल सके।  ‘द न्यूज इंटरनेशनल’ अखबार के अनुसार, इकबाल की अपील यह सामने आने के बाद आई कि पाकिस्तान ने वित्त वर्ष 2021-22 में 40 करोड़ अमरीकी डालर की चाय का सेवन किया।

Read More: MP Panchayat Election 2022: प्रदेश के 3 मतदान केंद्रों में होगा दोबारा मतदान, ये रही वजह 

मंत्री ने कहा कि दुनिया में चाय के सबसे बड़े आयातकों में से एक पाकिस्तान को इसके आयात के लिए पैसे उधार लेने पड़ते हैं। इकबाल ने कहा, “मैं देश से चाय की खपत में 1-2 कप की कटौती करने की अपील करता हूं क्योंकि हम कर्ज पर चाय का आयात करते हैं।” संघीय बजट दस्तावेज से पता चला है कि पाकिस्तान ने पिछले वित्त वर्ष की तुलना में इस साल चाय के आयात पर छह करोड़ अमरीकी डालर अधिक खर्च किए हैं। इकबाल के सुझाव की आलोचना हुई थी।

Read More: बड़ी खबर: एक्सिस बैंक में फर्जी चेक बुक से 16 करोड़ से अधिक की धोखाधड़ी, 2 बैंक मैनेजर सहित 7 लोग गिरफ्तार, 5 राज्यों में पुलिस ने बिछाई जाल

सोहेल को हालांकि उम्मीद है कि उनका यह विचार पाकिस्तान के आर्थिक संकट को कम करने में काफी मददगार साबित होगा। उन्होंने कहा, “मुझे यकीन है कि माननीय कुलपति रोजगार पैदा करने, आयात कम करने और आर्थिक स्थिति को आसान बनाने के लिए कई अन्य रास्ते तलाशने में सक्षम होंगे।” पाकिस्तान के प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ ने शुक्रवार को सीमेंट, स्टील और ऑटोमोबाइल जैसे बड़े पैमाने के उद्योगों पर 10 प्रतिशत “सुपर टैक्स” की घोषणा की। उन्होंने कहा कि इस कदम का उद्देश्य बढ़ती मुद्रास्फीति से निपटने और नकदी की कमी वाले देश को “दिवालिया” होने से बचाना था। प्रधानमंत्री ने राष्ट्र के नाम अपने संबोधन में कहा, उच्च निवल संपत्ति मूल्य वाले व्यक्तियों को भी “गरीबी उन्मूलन कर” देना होंगे।

Read More: मुंबई में कई नेताओं के कार्यालयों-आवास पर पुलिस तैनात, 10 जुलाई तक निषेधाज्ञा लागू… 

 

#HarGharTiranga