ईरान के राष्ट्रपति ने पुलिस हिरासत में महिला की मौत की जांच में ‘तेजी’ लाने का आह्वान किया |

ईरान के राष्ट्रपति ने पुलिस हिरासत में महिला की मौत की जांच में ‘तेजी’ लाने का आह्वान किया

ईरान के राष्ट्रपति ने पुलिस हिरासत में महिला की मौत की जांच में ‘तेजी’ लाने का आह्वान किया

: , September 23, 2022 / 10:25 AM IST

न्यूयॉर्क, 23 सितंबर (एपी) ईरान के राष्ट्रपति इब्राहिम रईसी ने बृहस्पतिवार को कहा कि देश में पुलिस हिरासत में महिला की मौत के मामले की जांच में निश्चित रूप से ‘तेजी’ लाई जानी चाहिए।

रईसी वर्तमान में संयुक्त राष्ट्र महासभा (यूएनजीए) के सत्र में हिस्सा लेने के लिए अमेरिका की यात्रा पर हैं। यूएनजीए में उन्होंने पूछा कि आखिर अमेरिकी पुलिस द्वारा मारे गए लोगों के संदर्भ में क्या कार्रवाई की गई है?

रईसी ने विश्व नेताओं की वार्षिक बैठक से इतर न्यूयॉर्क में एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘क्या मौत के इन सभी मामलों में जांच हुई? मानवाधिकार के मामले में पश्चिमी देशों का ‘दोहरा मापदंड’ रहा है।’’

महासा अमीनी की मौत के बाद ईरान में प्रदर्शनाकारियों एवं सुरक्षा बलों के बीच झड़पें हो रही हैं। ईरानी राष्ट्रपति ने कहा कि अधिकारी हर जरूरी कदम उठा रहे हैं।

उन्होंने कहा, ‘‘निश्चित रूप से मामले की जांच की जाएगी… मैंने पीड़िता के परिजनों से सबसे पहले संपर्क किया और उन्हें भरोसा दिलाया कि हम घटना की जांच में ‘तेजी’ लाएंगे… हमारी सबसे बड़ी चिंता सभी नागरिकों की सुरक्षा सुनिश्चित करना है।’’

एसोसिएटेड प्रेस (एपी) की खबर के अनुसार, अमीनी की मौत के बाद सप्ताहांत में प्रदर्शनकारियों और ईरानी सुरक्षा बलों के बीच हुई झड़प में नौ लोगों की मौत हो गई, जबकि कई अन्य घायल हो गए।

ईरान पुलिस का कहना है कि अमीनी को ड्रेसकोड का उल्लंघन करने के आरोप में हिरासत में लिया गया था और उसकी मौत दिल का दौरा पड़ने से हुई। पुलिस ने अमीनी को किसी भी तरह की प्रताड़ना दिए जाने से इनकार किया है। हालांकि, अमीनी के परिवार ने पुलिस के बयान पर संदेह जताया है।

रईसी ने बुधवार को संयुक्त राष्ट्र महासभा को औपचारिक रूप से संबोधित किया और कहा कि हर जगह अधिकारियों के हाथों बुरी चीजें होती हैं।

उन्होंने सवाल किया, ‘‘अमेरिकी अधिकारियों के हाथों आम अमेरिकी नागरिकों की मौत के मामले में क्या हुआ?’’

रईसी ने ब्रिटेन में महिलाओं की मौत का जिक्र किया और कहा कि इन मामलों की कभी जांच नहीं की गई। उन्होंने इस तरह की मौत के मामलों में कार्रवाई को लेकर दुनियाभर में ‘समान मापदंड’ अपनाए जाने का आह्वान किया।

एपी सुरभि पारुल

पारुल

 

(इस खबर को IBC24 टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)