क्रिसमस के दौरान तनाव में हैं तो ध्यान आपकी मदद कर सकता है |

क्रिसमस के दौरान तनाव में हैं तो ध्यान आपकी मदद कर सकता है

क्रिसमस के दौरान तनाव में हैं तो ध्यान आपकी मदद कर सकता है

: , December 22, 2021 / 05:39 PM IST

निकोलस टी. वैन डैम द्वारा, मेलबर्न विश्वविद्यालय

मेलबर्न, 21 दिसंबर (द कन्वरसेशन) सुखी परिवार, हंसते मुस्कुराते लोग, उत्साहपूर्ण त्यौहार और बहुत से तोहफे, यह तो क्रिसमस होना चाहिए, है ना, हालांकि यह संकेत आशा और उत्साह से जुड़े हैं, लेकिन साथ ही वे हमें तनाव, दायित्वों, योजना और पारस्परिक संघर्षों की भी याद दिला सकते हैं।

हमारे 𝕎𝕙𝕒𝕥𝕤 𝕒𝕡𝕡 Group’s में शामिल होने के लिए यहां Click करें.

परिवार और दोस्तों के साथ समारोहों में मनमुटाव और असहमति हो सकती है। लगभग दो वर्षों के कोविड प्रतिबंधों के बाद व्यस्त सार्वजनिक दुनिया में फिर से लौटने के दौरान सामाजिक असहजता भी इन्हें बढ़ा सकती है।

जैसे-जैसे दुनिया भर में लोग अपने घरों से बाहर निकलना शुरू करेंगे, कई लोग चिंता और कुछ अकेलेपन का अनुभव करेंगे। खोए हुए प्रियजनों, सीमित यात्रा के अवसर, और पारिवारिक मतभेद गहन आत्म-प्रतिबिंब और आगे क्या होगा, इसके बारे में अनिश्चितता की एक सतत जटिल भावना पैदा कर सकते हैं।

आप उम्मीद कर रहे होंगे कि माइंडफुलनेस के साथ की गई मेडिटेशन आपको त्योहारों के इस जगमग मौसम में फिर से लौटा लाने का तरीका हो सकती है। लेकिन यह आपकी सभी परेशानियों का जवाब नहीं हो सकता है।

अति उत्साह से बचें

हर कोई माइंडफुलनेस की परिभाषा से सहमत नहीं है। लेकिन इसे आम तौर पर किसी विशेष तरीके से, कहीं ध्यान केंद्रित करने का गुण माना जाता है। ध्यान से तात्पर्य कुछ ऐसी क्रियाओं से है, जिनके माध्यम से किसी विशेष वस्तु या अनुभव पर ध्यान केंद्रित किया जाता है।

माइंडफुलनेस मेडिटेशन ध्यान के अभ्यास में माइंडफुलनेस के गुणों को लाता है, आमतौर पर कहीं शांत बैठे, आंखें बंद करके, सांसों पर ध्यान केंद्रित करते हुए।

माइंडफुलनेस और मेडिटेशन के बारे में बहुत प्रचार किया गया है। हालांकि माइंडफुलनेस मेडिटेशन बहुत फायदा करता है, लेकिन यह कोई जादू की छड़ी नहीं है – कुछ लोग इसे साबित करते हैं।

माइंडफुलनेस मेडिटेशन जातिवाद, वित्तीय असमानता, काम की खराब स्थिति, मानवाधिकारों के हनन या चिकित्सा देखभाल तक पहुंच की कमी जैसे प्रणालीगत सामाजिक मुद्दों को ठीक नहीं कर सकता है।

व्यक्तियों को माइंडफुलनेस मेडिटेशन का उपयोग करने के लिए प्रोत्साहित करना सामाजिक परिवर्तन के लिए एक साधन प्रदान कर सकता है जैसे कि असमानता के बारे में अधिक जागरूकता या हमारे ग्रह और एक दूसरे की देखभाल करने के लिए एक बड़ी प्रतिबद्धता।

लेकिन केवल ध्यान को एक बेकार संदर्भ में सम्मिलित करने से चीजों को ठीक करने के लिए ज्यादा कुछ नहीं होगा और इससे चीजें खराब हो सकती हैं।

इस तरह के गलत कदम का एक उदाहरण अमेज़ॅन के जेन बूथ हैं, जो तनावग्रस्त श्रमिकों को माइंडफुलनेस मेडिटेशन का अभ्यास करने के लिए एक जगह प्रदान करते हैं। लेकिन उन्होंने उन मुद्दों को हल करने के लिए कुछ नहीं किया जिनके कारण श्रमिकों को तनाव हुआ था।

इसी तरह, छुट्टियों के दौरान माइंडफुलनेस मेडिटेशन से आपके और आपके परिवार के बीच सामाजिक या राजनीतिक विचारों को लेकर मतभेद दूर नहीं होंगे।

हालाँकि, ध्यान करने से आपके लिए उन लोगों के बीच सामान्य मानवता को पहचानना आसान हो सकता है जिनसे आप असहमत हैं। सकारात्मक भावनात्मक गुणों को विकसित करने पर केंद्रित ध्यान करुणा के साथ अधिक जुड़ा होता है और यह व्यक्ति को किसी के बारे में कोई राय बनाने से पहले सोचने की शक्ति देता है।

इसे आजमाने के लिए क्रिसमस तक इंतजार न करें।

जबकि माइंडफुलनेस मेडिटेशन तकनीकों का उपयोग इस समय किया जा सकता है, ये तकनीकें आमतौर पर औपचारिक, नियमित ध्यान अभ्यास के दौरान सीखे या हासिल किए गए कौशल पर निर्भर करती हैं।

क्रिसमस की खुशी की तलाश है?

कलह और तनाव के बीच, हो सकता है कि आप कुछ अतिरिक्त छुट्टियों के उत्साह की तलाश में हों। दुर्भाग्य से, इस बात की कोई गारंटी नहीं है कि माइंडफुलनेस मेडिटेशन के परिणामस्वरूप अत्यधिक शांति, आनंद या राहत का अचानक अनुभव होगा।

नियमित रूप से ध्यान का अभ्यास करने वाले लोगों के सर्वेक्षण से संकेत मिलता है कि ये अनुभव असामान्य नहीं हैं। हालांकि, अन्य शोध से पता चलता है कि 25% से अधिक नियमित ध्यान करने वाले अप्रिय घटनाओं का अनुभव करते हैं जैसे कि बढ़ी हुई चिंता या अवसाद, या स्पष्ट रूप से सोचने या निर्णय लेने में कठिनाई।

शुरुआती दौर में दिमाग भटकना और इस कारण निराशा का महसूस करना भी अविश्वसनीय रूप से आम है, कभी-कभी उन्हें यह मानने के लिए प्रेरित करता है कि ध्यान काम नहीं करता है। भटकता हुआ मन असफल ध्यान की नहीं, बल्कि मानव होने की निशानी है।

अच्छी खबर यह है कि माइंडफुलनेस मेडिटेशन प्रशिक्षण कार्यक्रम चिंता, अवसाद और संकट में मामूली कमी के साथ-साथ अच्छी सोच में वृद्धि करने में काफी भरोसेमंद हैं।

ध्यान आपकी छुट्टियों को संपूर्ण नहीं बनाएगा, लेकिन अगर यह आपके लिए कारगर है, तो यह उन्हें थोड़ा कम तनावपूर्ण और शायद थोड़ा अधिक सार्थक बना सकता है। ?

द कन्वरसेशन एकता

एकता

 

(इस खबर को IBC24 टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

#HarGharTiranga