'काश मैं जितिन प्रसाद और सिंधिया का दिमाग पढ़ लेता...',कांग्रेस नेता मनीष तिवारी ने आखिर ऐसे क्यों कहा? | 'I wish I could read the mind of Jitin Prasad and Scindia...', why did Congress leader Manish Tewari say like this?

‘काश मैं जितिन प्रसाद और सिंधिया का दिमाग पढ़ लेता…’,कांग्रेस नेता मनीष तिवारी ने आखिर ऐसे क्यों कहा?

कांग्रेस से जाकर भाजपा में शामिल हुए जितिन प्रसाद योगी कैबिनेट में मंत्री बन गए हैं।जितिन के कैबिनेट का हिस्‍सा बनने के बाद मनीष तिवारी ने उनके हृदय

: , September 27, 2021 / 02:59 PM IST

नई दिल्‍ली। कांग्रेस से जाकर भाजपा में शामिल हुए जितिन प्रसाद योगी कैबिनेट में मंत्री बन गए हैं।जितिन के कैबिनेट का हिस्‍सा बनने के बाद मनीष तिवारी ने उनके हृदय परिवर्तन की वजह जाननी चाही। इसमें उन्‍होंने ज्‍योतिरादित्‍य सिंधिया को भी शामिल किया।

read more: मुस्लिम पति द्वारा पत्नी को तलाक देने के एकतरफा अधिकार को चुनौती देने वाली याचिका खारिज
कांग्रेस नेता मनीष तिवारी ने जितिन और ज्‍योतिरादित्‍य सिंधिया को टैग करते हुए लिखा- ‘जितिन प्रसाद ने कांग्रेस में 2004-14 तक एक पीढ़ी में बदलाव का प्रतिनिधित्‍व किया है। वह यूपीए सरकार में मंत्री रह चुके हैं। आज वह बीजेपी के मंत्री हैं। वह ज्‍योतिरादित्‍य सिंधिया की राह पर चले। दोनों के दिल कैसे बदल गए। काश मैं उनके दिमाग की बातें पढ़ लेता। जिंदगी आपको हमेशा चौंकाती रहती है। उम्‍मीद करता हूं कि जितिन को नए अवतार में संतोष मिले।’

read more: गाजियाबाद से कोविड-19 के टीके चोरी कर नोएडा में लगाने के आरोप में दो लोग गिरफ्तार
मनीष तिवारी ने आखिर ऐस क्यों कहा यह तो वही बता सकते हैं, लेकिन, यह सच है कि पिछले कुछ समय से वह पार्टी आलाकमान से नाराज चल रहे हैं। इसके कुछ घंटे पहले भी उन्‍होंने पंजाब में कैबिनेट विस्‍तार पर हमला किया। वरिष्‍ठ कांग्रेस नेता ने चरणजीत सिंह चन्‍नी की कैबिनेट से सीनियर नेता बलबीर सिंह सिद्धू को बाहर करने के फैसले पर सवाल उठाए।

read more: राजनीतिक दल कर रहे आपराधिक छवि के नेताओं को उम्मीदवार बनाये जाने के नफे-नुकसान का आकलन
तिवारी ने ट्वीट करते हुए लिखा, ‘मंत्री कौन होना चाहिए या कौन नहीं होना चाहिए यह सीएम का विशेषाधिकार है। हालांकि, मैं यह कहने के लिए विवश हूं कि बलबीर सिंह सिद्धू ने स्वास्थ्य मंत्री के रूप में कोविड-19 के सबसे बुरे दिनों में शानदार काम किया। जिस निस्वार्थ भाव से उन्‍होंने काम किया, उसकी तुलना नहीं की जा सकती।’