Vice President Venkaiah Naidu Farewell Ceremony in delhi

‘भगवान के बाद सबसे ज्यादा इन दो नेताओं को मानता हूं, मगर कभी पैर नहीं छुए’, PM मोदी के सामने बोले वेंकैया नायडू

Venkaiah Naidu: उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू को सोमवार को विदाई दी गई। इस दौरान जीएमसी बालयोगी सभागार में आयोजित विदाई समारोह में...

Edited By: , August 9, 2022 / 04:04 AM IST

Venkaiah Naidu: उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू को सोमवार को विदाई दी गई। इस दौरान जीएमसी बालयोगी सभागार में आयोजित विदाई समारोह में नायडू ने अपने कई पुराने किस्से सुनाए। उन्होंने सांसदों और मंत्रियों को सीख और सलाह देते हुए कहा कि मेहनत करने से ही सफलता मिलती है। आपकी मेहनत ही आपको पहचान दिलाएगी। आपको आगे ले जाएगी। । नायडू ने कहा कि मैंने कभी किसी के पैर नहीं छुए। वे भगवान के बाद सबसे ज्यादा अटलजी और आडवाणी जी को मानते थे, लेकिन कभी भी उनके पैर नहीं छुए।

हालांकि, उन दोनों के लिए मेरे मन में सम्मान और लगाव वैसा ही रहा। उन्होंने आगे कहा कि मैं ये बात इसलिए कह रहा हूं, क्योंकि कड़ी मेहनत से आप सफलता के सोपान तय कर सकते हैं। आपकी मेहनत की आपको सफलता दिलाएगी। उन्होंने कहा कि मैंने 5 साल जिम्मेदारी संभाली। एक तरफ उपराष्ट्रपति की भूमिका थी तो दूसरी तरफ अपर हाउस। मैंने हमेशा एक गरिमा बनाए रखने की कोशिश की। मैं खुद देवियो-सज्जनों या ब्रदर्स और सिस्टर्स अथवा लेडीज या जेंटलमैन के साथ संबोधित करता था। आप सभी से नमस्ते के साथ अभिवादन होता था। ये हमारी भारतीय संस्कृति का हिस्सा है।

Read more : Gehna vashisht: गहना वशिष्ठ ने बाथरूम में बिन कपड़ों के दिए पोज, देखकर फैंस के छूट गए पसीने 

नायडू ने कहा कि वे एक साधारण किसान परिवार से आते हैं और रोजाना 3 किलोमीटर पैदल चलकर स्कूल जाते थे। उन्होंने एक और किस्सा सुनाया। नायडू ने 5 साल पहले पीएम नरेंद्र मोदी के उस फोन कॉल का जिक्र किया, जिसमें पार्टी की तरफ से नायडू को उपराष्ट्रपति के लिए चुना गया था। उन्होंने कहा कि जिस दिन पीएम मोदी ने फोन कर बताया कि मुझे उपराष्ट्रपति के लिए चुना जा रहा है, तब मेरी आंखों में आंसू आ गए। ये आंसू सिर्फ इस बात पर आ रहे थे कि मुझे अपनी पार्टी छोड़नी पड़ेगी।

Read more : हिंदू परिवार पर हमला, दुर्व्यवहार का वीडियो सोशल मीडिया पर किया वायरल, लोगों के हंगामे के बाद जांच के आदेश जारी 

‘…तो मैं पोस्टर चिपकाता था’

वेंकैया नायडू ने ये भी बताया कि जब शहर में पार्टी के बड़े नेता आते थे तो मैं पोस्टर चिपकाता था। रात में दीवारों पर लिखा करता था। उन्होंने कहा कि जब हमारे यहां अटल बिहारी वाजपेयी की सभा हुई तब मैंने तांगा पर बैठकर प्रचार किया और पोस्टर लगाए। मैं पार्टी में सामान्य कार्यकर्ता से एमएलए, मंत्री से लेकर पार्टी का अध्यक्ष तक बना। ये हमारे लोकतंत्र की खूबसूरती है। उन्होंने संसद सदस्यों से कड़ी मेहनत करने के लिए कहा। इसके साथ ही लोगों से मिलने और उनकी बातें सुनने की अपील की। कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला, राज्यसभा के उपसभापति हरिवंश, पीयूष गोयल, कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे समेत अन्य नेता मौजूद थे। बता दें कि उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू के कार्यकाल का आज आखिरी दिन था।

Read more : बेखौफ बदमाश: राजधानी में एक युवक की दिनदहाड़े पीट-पीटकर हत्या की, परिजन ने थाने में शव रखकर किया जमकर हंगामा, फिर पुलिस…

और भी है बड़ी खबरें…