Gujarat Election 2022: मिनी अफ्रीका है गुजरात का जंबूर गांव, यहां हो रही स्पेशल वोटिंग का वीडियो देख दंग रह जाएंगे आप |

Gujarat Election 2022: मिनी अफ्रीका है गुजरात का जंबूर गांव, यहां हो रही स्पेशल वोटिंग का वीडियो देख दंग रह जाएंगे आप

Gujarat Election 2022: यहां के नागरिकों के अनुसार “यह हमारे लिए बहुत खुशी की बात है कि चुनाव आयोग ने हमारे लिए मतदान करने के लिए एक विशेष बूथ बनाने का फैसला किया है। हम वर्षों से इस गांव में रह रहे हैं, लेकिन ऐसा पहली बार हो रहा है जिससे हमें बहुत खुशी हो रही है”।

Edited By: , December 1, 2022 / 04:08 PM IST

Gujarat Election 2022 1st Phase: गुजरात विधानसभा चुनाव के पहले चरण में आज 89 पर मतदान जारी है, बाकी सीटों पर दूसरे चरण में पांच दिसंबर को मतदान किया जाएगा। गुजरात में भारत के मिनी अफ्रीकी गांव जंबूर में मतदाता आज पहली बार अपने विशेष आदिवासी बूथ में मतदान करेंगे, जम्बूर गांव के एक वरिष्ठ नागरिक ने इसके लिए खुशी जता रहे हैं।

यहां के नागरिकों के अनुसार “यह हमारे लिए बहुत खुशी की बात है कि चुनाव आयोग ने हमारे लिए मतदान करने के लिए एक विशेष बूथ बनाने का फैसला किया है। हम वर्षों से इस गांव में रह रहे हैं, लेकिन ऐसा पहली बार हो रहा है जिससे हमें बहुत खुशी हो रही है”।

बता दें कि सिद्धि आदिवासी समुदाय के लोगों ने बताया कि हमारे पूर्वज अफ्रीका से हैं और हम कई साल पहले भारत आए थे, जब जूनागढ़ में किला बन रहा था, तब हमारे पूर्वज यहां काम करने आए थे, पहले हम रतनपुर गांव में बसे और फिर धीरे-धीरे जांवर गांव में आ गए, हमें यहां नागिरक होने का दर्जा मिल गया है।

आदिवासी प्रत्याशी ने बतायी ये बात

उनके पूर्वज अफ्रीका से होने के बावजूद भारत और गुजरात की परंपरा का पालन करते हैं, यह गांव दो नदियों के बीच में स्थित है, यहां सब एक साथ रहते हैं। हमें भारत का अफ्रीका कहा जाता है, हमें सिद्धि आदिवासी समुदाय के रूप में जाना जाता है, सरकार आदिवासियों को मदद देती रहती है, इसमें कोई समस्या नहीं है, लेकिन हमारे स्थानीय समुदाय को यहां भुगतना पड़ता है, हमें उतनी सुविधाएं नहीं मिलती हैं।

प्रत्याशी मगुज भाई के अनुसार आदिवासी अपने रास्ते पर चलते हैं, हमने स्थानीय लोगों की समस्याओं के बारे में सरकार से बात की है और इसे लिखित रूप में भी दिया है। मगुज भाई ने कहा कि खेती समुदाय का मुख्य व्यवसाय है, “खेती के अलावा, हमारे समुदाय के लोग स्थानीय जस सिद्धि आदिवासी नृत्य करते हैं। जहां भी पर्यटक आते हैं, विभिन्न स्थानों पर कार्यक्रम किए जाते हैं, यह हमारी आय का स्रोत भी है”

read more: श्वेता तिवारी ऑन कैमरा अपने ही बेटे के साथ की ऐसी हरकत, सोशल मीडिया पर वायरल हो गई तस्वीर

read more: विश्व कप ग्रुप में शीर्ष पर रहकर ब्राजील से भिड़ने से बचना चाहेगा पुर्तगाल