The last solar eclipse of the year will take place on this day, the doors

last solar eclipse of the year ; इस दिन लगेगा साल का आखिरी सूर्य ग्रहण, 17 घंटे बंद रहेंगे मंदिरों के कपाट, भूलकर भी न करे ये काम

The last solar eclipse of the year will take place on this day, the doors of the temples will be closed for 17 hours, do not do this work even by forgetting

Edited By: , November 29, 2022 / 02:32 AM IST

last solar eclipse 2022: दीपावली के अलगे दिन 25 अक्टूबर को सूर्य ग्रहण लगेगा. यह इस साल का आखिरी सूर्य ग्रहण होगा, जिसका आंशिक असर भारत में भी देखने को मिलेगा। जिसके कारण शहर के सभी मंदिर बंद रहेंगे। ग्रहण का सूतक 24 अक्टूबर की रात 2.30 बजे से शुरू होगा। ग्रहण का स्पर्श 25 अक्टूबर को दोपहर 2.28 बजे से होगा और मोक्ष शाम 6.32 बजे तक होगी। अर्चना प्रारंभ होगी और भक्त दर्शन कर सकेंगे। बता दें कि 27 साल पहले 1995 में अक्टूबर में दीपावली पर इस तरह सूर्यग्रहण हुआ था। खास बात यह है कि उस समय भी तुला राशि में चार ग्रह थे। 25 अक्टूबर को भी चार ग्रह तुला राशि में एक साथ रहेंगे।

यह भी पढ़े: Balrampur Accident News: Truck ने Bike को मारी टक्कर | हादसे में पति-पत्नी की मौके पर मौत

27 साल पहले भी ऐसा ही सूर्यग्रहण हुआ था

last solar eclipse 2022; सूर्यग्रहण की वजह से मंदिरों के पट दीपावली की रात 12 बजे के बाद से ही बंद कर दिए जाएंगे, जो अगले दिन ग्रहण की समाप्ति के बाद खुलेंगे। मंदिरों का शुद्धीकरण होगा। भगवान को नहलाकर पोशाक बदली जाएगी। उसके बाद ही पूजा,अर्चना प्रारंभ होगी और भक्त दर्शन कर सकेंगे। 27 साल पहले 1995 में अक्टूबर में दीपावली पर इस तरह सूर्यग्रहण हुआ था। खास बात यह है कि उस समय भी तुला राशि में चार ग्रह थे। 25 अक्टूबर को भी चार ग्रह तुला राशि में एक साथ रहेंगे।

यह भी पढ़े; Cricket Betting in Narmadapuram: सट्टा खिलाते 2 आरोपी गिरफ्तार | आरोपियों के पास से 16000 जब्त

ग्रहण में शुभ कार्य ना करें

last solar eclipse 2022: कहा जाता है कि ग्रहण के दौरान कोई भी शुभ काम नहीं करना चाहिए। जबकि सूर्य ग्रहण के दौरान वैदिक मंत्र का उच्चारण करना चाहिए. इसके अलावा धार्मिक किताबें भी पढ़ सकते हैं. इससे ग्रहण का प्रभाव जीवन पर न के बराबर पड़ता है. ग्रहण मोक्ष के उपरांत पवित्र नदी या तालाब में स्नान करना चाहिए. सूतक या ग्रहण के दौरान कोई भी शुभ कार्य नहीं किया जाता है।