Madhya Pradesh BJP president will also change before elections

2023 की अग्निपरीक्षा.. जामवाल करेंगे समीक्षा! चुनाव से पहले मध्यप्रदेश बीजेपी में भी होगा बदलाव?

Madhya Pradesh BJP president will also change before elections

Edited By: , August 10, 2022 / 11:03 PM IST

(रिपोर्टः सुधीर दंडोतिया) Madhya Pradesh BJP president  भोपालः बीजेपी ने मध्य प्रदेश में फिर से सत्ता वापसी और छत्तीसगढ़ में सत्ता परिवर्तन के लिए अजय जामवाल को बड़ी जिम्मेदारी दी है। जामवाल छत्तीसगढ़ के दौरे के बाद इन दिनों मध्य प्रदेश में हैं। मिशन-2023 के मद्देनज़र वो बड़े नेताओं के साथ यहां रणनीति बना रहे है..वो दो दिनों तक भोपाल में प्रदेश के पदाधिकारियों, सांसदों, विधायकों से फीड बैक लेंगे..जिससे वो समझ सकें कि यहां राजनीति में और जनता के मूड में चल क्या रहा है? बहरहाल कांग्रेस को इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ रहा है वो जामवाल के दौरे को बीजेपी और संघ की चिंता बता रही है?

Read more : क्लीनिक में महिला के साथ डॉक्टर कर रहे थे ये काम, तभी आ पहुंची पुलिस, फिर…

Madhya Pradesh BJP president  छत्तीसगढ़ दौरे के बाद अजय जामवाल मिशन एमपी पर हैं। MP-CG के क्षेत्रीय संगठन महामंत्री बनने के बाद जामवाल पहली बार भोपाल पहुंचे। 2023 में होने वाले विधानसभा चुनाव की तैयारियों के लिहाज से इनका दौरा काफी अहम माना जा रहा है। जामवाल यहां बीजेपी के संगठन के कामकाज और सरकार की परफॉर्मेंस की समीक्षा करने वाले हैं।

Read more :  स्वतंत्रता दिवस 2022 : राजधानी रायपुर में ध्वजारोहण करेंगे सीएम भूपेश, जानिए आपके जिले में कौन से मंत्री फहराएंगे तिरंगा 

जामवाल के भोपाल दौरे की चर्चा इसलिए भी हो रही है क्योंकि छत्तीसगढ़ में उनके दौरे के बाद ही बड़ा बदलाव हुआ। संगठन ने विष्णुदेव साय को हटाकर अरुण साव को नया प्रदेश अध्यक्ष नियुक्त किया। मध्यप्रदेश में बीजेपी भले चुनाव हारने के बाद सरकार बना ली हो पर 2018 के चुनाव में हार की समीक्षा कर उन कमियों को दूर करना चाहती है. हालांकि कांग्रेस इस कवायद के बजाय प्रदेश में एन्टीइन्कम्बेंसी के जरिये बीजेपी को सत्ता से बेदखल होने की उम्मीद लगाए बैठी है।

Read more :  शादी के बंधन में बंधे ये मशहूर सिंगर, इस अभिनेत्री के साथ लिए सात फेरे, यहां देखें शादी की तस्वीरें 

जाहिर तौर पर अजय जामवाल मध्यप्रदेश में बीजेपी के मिशन 2023 की तैयारियों का जायजा लेंगे। इनमे 51 फीसदी वोट शेयर, त्रिदेव फार्मूला के साथ बूथों के डिजिटलाइजेशन के काम की समीक्षा की जायेगी। इसके अलावा वो मंत्रियों के कामकाज और विधायक,सांसदों के काम का भी मूल्यांकन करेंगे। कुल मिलाकर जामवाल के भोपाल दौरे को लेकर भी सबकी निगाह है। लेकिन बड़ा सवाल है कि क्या 2023 से पहले छत्तीसगढ़ की तरह मध्यप्रदेश बीजेपी के कोई बदलाव देखने को मिलेगा?