क्या तीन संतान वालों को नौकरी से निकालेगी सरकार? 60 हजार से ज्यादा सरकारी कर्मचारियों की अटकी सांसें

60 हजार से ज्यादा सरकारी कर्मचारियों की अटकी सांसें! Will the government remove those with three children from the job?

Edited By: , August 3, 2021 / 07:58 PM IST

भोपाल: एमपी में सरकार के मंत्रियों या कांग्रेस नेताओं की जासूसी पर नहीं बल्कि सरकारी कर्मचारियों की कथित जासूसी को लेकर हो हल्ला मच रहा है। सरकार पर ये सनसनीखेज़ आरोप उन कर्मचारियों ने लगाया है कि जिनकी तीन तीन औलादें हैं। अब सवाल ये है कि कर्मचारी ऐसा आरोप क्यों लगा रहे हैं?

Read More: छत्तीसगढ़ में अब तक की सबसे बड़ी ऑनलाइन ठगी, CSEB के रिटायर्ड कर्मचारी को लगाया इतने का चूना

मध्यप्रदेश में यूं तो कई कर्मचारी संगठन हैं जो अपनी मांगों को लेकर आए दिन मोर्चा निकालते हैं लेकिन इन सबके बीच एक ऐसा संगठन है जिसके सदस्यों की दो से ज्यादा संतानें हैं। संगठन का नाम है तृतीय संतान शासकीय लोक सेवक संघ, जिसे डर है कि तीन संतान होने पर कहीं सरकार उन्हें नौकरी से चलता ना कर दे। आप खुद सुनिए तीन संतान वाले सरकारी कर्मचारियों का दर्द।

Read More: कश्मीर प्रीमियर लीग: PoK पर पाकिस्तान की ये चाल हुई नाकाम, पनेसर ने छोड़ा साथ, कह डाली ये बात! देखें ट्वीट

दहशत में 60 हजार से अधिक कर्मचारी

तीन संतान वाले कर्मचारियों को डर है कि सरकार इनकी जासूसी कराकर नौकरी से निकाल देगी। हालांकि ये कर्मचारी का महज वहम है, लेकिन यूपी के बाद देश में तीसरी संतान को लेकर छिड़ी बहस से इन कर्मचारियों को अनजाना डर सता रहा है कि कहीं मध्यप्रदेश में भी ऐसा ना हो जाए। घबराए कर्मचारियों ने कृषि मंत्री कमल पटेल से गुहार लगाई है। कृषि मंत्री का कहना है कि कर्मचारियों को भी नफा नुकसान का ख्याल रखना था। सरकार तो नियम और कानून से चलती है, उधर, कांग्रेस कर्मचारियों के समर्थन में सरकार के खिलाफ मोर्चा खोलने की धमकी दे रही है।

Read More: ‘BJP सहित सभी दलों के नेता लगे हैं अवैध शराब बेचने में’ भाजपा विधायक ने अपनी ही पार्टी को घेरा

रिपोर्ट में बड़ा खुलासा

एक रिपोर्ट की माने तो प्रदेश में तीन संतान वाले साठ हजार से ज्यादा सरकारी कर्मचारी हैं, जिनका आरोप है कि अफसर उन्हें आए दिन 3 संतान के नाम पर धमकाते हैं। हालांकि कृषि मंत्री कमल पटेल ने उन्हें जांच कराने का भरोसा दिया है की आखिर उनकी जासूस कौन कर रहा है?

Read More: दुनियाभर में पूर्ण या आंशिक रूप से स्कूल बंद, UNICEF की रिपोर्ट में हुआ खुलासा