प्रशांत किशोर का क्या है ट्रेड सीक्रेट, आपने कभी कल्पना भी नहीं की होगी

Edited By: , May 5, 2022 / 03:04 PM IST

बरुण सखाजी

प्रशांत किशोर का ऐलान कई मायनों में भारत की राजनीति के लिए अच्छे संकेत कहा जा सकता है। आरोप-प्रत्यारोप, एक दूसरे को नकारा सिद्ध करने की सियासत। साजिशों का जंजाल बन पड़ी राजनीति में कुछ बदलाव चाहिए हैं। एक बदलाव का सपना अरविंद केजरीवाल ने दिखाया था, जो आगे-पीछे जाकर वही ढाक के तीन पात सिद्ध हुआ। लेकिन पीके से देश उम्मीद कर सकता है। पीके की अगर हम मूलभूत अच्छाइयों और मजबूतियों की बात करें तो वे केजरीवाल की तुलना में बहुत अधिक स्पष्ट और कारगर हैं।

मोदी की इन बातों में छिपा है कल क्या होने वाला है…

लोगों को सुनते हैैं, भ्रमित नहीं करते, बोलने देते हैं

केजरीवाल लोगों की सुनकर उन्हें भ्रमित करते हैं। प्रशांत किशोर लोगों को सिर्फ सुनते हैं। सुनने में भी वे उन्हें यथावत सुनते हैं, उनमें कोई करैक्शन नहीं करते। न टोकते। जो व्यक्ति बोलता है उसे पूरा सुनकर अपनी रणनीति में वैसी चीजें जोड़ना शुरू करते हैं।

इन चार कारणों को खत्म कर दें तो न अजान बंद होगी न हनुमान चालीसा

सिस्टम बनाने में महारत

प्रशांत किशोर की एक बड़ी गुणवत्ता सिस्टम बनाने की है। वे कम्युनिकेशन का सही फ्लो कैसे हो  और लोगों से कही गई बात साकार कैसे हो इस पर फॉर्मूले बनाने के मास्टर हैं। वे इस तरह का सिस्टम बनाते हैं, जिसके अनुपालन और फॉलोअप में प्रशासनिक मशीनरी को दिक्कत नहीं होती।

श्रीलंका को खा गया वंशवाद, भारत में भी मंडरा रहा है भारी खतरा… कोई नहीं अछूता

आरोप, झूठ को बुनियाद में नहीं रखते

मोदी के रणनीतिक सलाहकार से लेकर ममता के सलाहकार तक प्रशांत का नेता आरोपों में गुडमिक्स रखता है। मोदी मनमोहन सरकार की बुराइयों को बताने के साथ ही अपने गुजरात मॉडल को समानांतर पेश कर रहे थे। ऐसे ही ममता ने भाजपा के तमाम आरोपों के बीच भी अपनी सरकार के जन-जन  तक पहुंचे लाभ को बताने में ज्यादा रुचि ली।

केजरीवाल ने फिर किया बवाल, विज्ञापन देकर बताया अपना सीक्रेट प्लान

लोगों को खारिज नहीं करते

वे अपने फीडबैक के फॉर्मेट में सैंपल डाटा बहुत बड़ा रखते हैं, लेकिन इस डाटा को वे कभी भी उलझाते नहीं। जो लोग कह रहे हैं, बता रहे हैं, समझा रहे हैं उसे जैसा का तैसा आने देते हैैं। किसी स्तर पर किसी को खारिज नहीं करते।

व्यवहारिक फॉर्मूले बनाते हैं

प्रशांत किशोर धरातल के कार्यकरण के फॉर्मूले बनाते हैं। वे कभी भी हवाहवाई न तो फॉर्मेट देते हैं न इनमें ज्यादा उलझाते। पार्टी हो या नेता हो वे उसकी ओवरऑल ग्रूमिंग पर ध्यान देते हैं। नेता की छवि से  लेकर पार्टी की सोच तक को सकारात्मक दिशा में ले जाने की ओर बढ़ते हैं।

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं। इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति IBC24 News उत्तरदायी नहीं है। इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं। इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार IBC24 News के नहीं हैं, तथा IBC24 News उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है।