सैकड़ों ग्रामीणों ने किया कलेक्ट्रेट ​का घेराव, रिफाइनरी प्लांट में रोजगार की मांग को लेकर किया विरोध |

सैकड़ों ग्रामीणों ने किया कलेक्ट्रेट ​का घेराव, रिफाइनरी प्लांट में रोजगार की मांग को लेकर किया विरोध

सरगुजा जिले के चिराग गांव में लगने वाले मां कुदरगढ़ी एल्यमुनियम रिफाइनरी प्लांट को लेकर मंगलवार को कलेक्टर जनदर्शन में सैकड़ों ग्रामीणों ने कलेक्टर कार्यालय का घेराव किया।

Edited By: , January 17, 2023 / 04:41 PM IST

Hundreds of villagers surrounded the collectorate

अंबिकापुर। सरगुजा जिले के चिराग गांव में लगने वाले मां कुदरगढ़ी एल्यमुनियम रिफाइनरी प्लांट को लेकर मंगलवार को कलेक्टर जनदर्शन में सैकड़ों ग्रामीणों ने कलेक्टर कार्यालय का घेराव किया। इस दौरान ग्रामीणों ने की मांग है कि गांव में स्थापित होने वाले प्लांट में स्थानीय ग्रामीणों को नौकरी दी जाए। उनका कहना है कि ग्रामीणों ने अपनी जमीन प्लांट को दे दी है। ऐसे में प्लांट नहीं लग पाने के कारण न तो उन्हें जमीन का लाभ मिल पा रहा है और ना ही उन्हें रोजगार मिल रहा है।

read more:  ‘गंगा विलास क्रूज’ पर जयराम रमेश की आपत्ति.. पूछा ‘देश का कौन गरीब देगा एक रात सफर के 50 लाख रुपए’?

जमीन के बदले नौकरी दिलाने की मांग

इसी मांग को लेकर आज सैकड़ों ग्रामीणों ने कलेक्टर कार्यालय का घेराव करते हुए जल्द ही उनकी जमीन के बदले नौकरी दिलाने की मांग की। दरअसल, चिरगा गांव में लगने वाले प्लांट को लेकर कुछ ग्रामीण इसका विरोध कर रहे हैं, तो कई इसके समर्थन में हैं यही कारण है कि प्रस्तावित प्लांट यहां स्थापित नहीं हो पा रहा। ऐसे में जो ग्रामीण अपनी जमीन प्लांट को देना चाहते हैं। वह भी इसका लाभ नहीं ले पा रहे न तो उन्हें उनकी जमीन का लाभ मिल रहा है और ना ही उन्हें रोजगार उपलब्ध हो पा रहा है। ऐसे में ग्रामीणों ने जल्द से जल्द उन्हें रोजगार दिलाने की मांग की है।

read more:  The World Economic Forum 2023: वर्ल्ड इकॉनमिक फोरम की वार्षिक बैठक शुरू, सर्वे रिपोर्ट में जताई गई वैश्विक मंदी की आशंका…

इधर प्रशासन की टीम ने इस मामले में जांच के बाद उचित कार्रवाई की बात कही है। हम आपको बता दें कि चिरगा प्लांट को लेकर लगातार विवाद की स्थिति बनी हुई है। कुछ गांव के लोग तो इसका विरोध कर रहे हैं। मगर इसके समर्थन में भी लोगों की तादाद काफी ज्यादा है। ऐसे में समर्थन और विरोध के बीच यहां कई बार गांव में अप्रिय स्थिति बनने की स्थिति आ चुकी है।