भूपेश सरकार के दो साल! संसदीय सचिव रेखचंद जैन ने कहा ‘पहले विश्वास फिर विकास’ के मूलमंत्र पर कार्य कर रही सरकार

भूपेश सरकार के दो साल! संसदीय सचिव रेखचंद जैन ने कहा 'पहले विश्वास फिर विकास' के मूलमंत्र पर कार्य कर रही सरकार

Edited By: , March 28, 2021 / 10:10 AM IST

नारायणपुर। राज्य सरकार के दो वर्ष पूरे होने पर आज कलेक्टर कार्यालय के सभा कक्ष में संसदीय सचिव रेखचंद जैन के द्वारा पत्रकारवार्ता कर सरकार की उपलब्धि को बताया गया। इस दौरान स्थानीय विधायक चंदन कश्यप भी मौजूद रहे, किसानों के हितों में चलाई जा रही योजनाओं के साथ छत्तीसगढ़ की संस्कृति के संवर्धन के लिए सरकार के प्रयासों पर फोकस करते हुए उन्होंने बताया कि विधानसभा चुनाव के दौरान प्रदेश की जनता से 36 वादे कर चुनाव में ऐतिहासिक जीत दर्ज किया गया। दो साल के दौरान 24 वादों को पूरा कर दिया गया है।

ये भी पढ़ें:किसान सम्मेलन में बोले CM शिवराज, कोई ताकत नहीं बंद कर सकती मंडी, नए कृषि कानूनों से अपनी मर्जी क…

उन्होंने कहा कि तीन साल के अंदर बचे हुए सारे वादे एक एक कर पूरा कर दिया जाएगा। पिछले एक साल से कोरोना के साथ लड़ी जा रही जंग का जिक्र करते हुए रेखचंद जैन ने बताया कि सरकार आम आदमी तक पहुंच रही है। प्रमुखता के आधार पर विकास कार्य किये जा रहे है। ‘पहले विश्वास फिर विकास’ के मूलमंत्र को अपनाकर छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की सरकार कार्य कर रही है। बस्तर में सालों से बंद पड़ी स्कूलों के पट खुलने लगे हैं। जगरगुंडा तक पहुंच मार्ग बनाया गया गया है।

ये भी पढ़ें:19 दिसंबर को पूरे प्रदेश में ‘विरोध दिवस’ मनायेगी कांग्रेस, कृषि का…

बोधघाट परियोजना शुरू करने से पहले ग्रामीणों का दिल जीतकर विकास के द्वारा खुलने की बात कहते रेखचंद जैन ने बताया कि शराबबंदी के लिए सामाजिक और राजनीतिक स्तर पर मंथन किया जा रहा है। सरकार के द्वारा समिति बनाई गई है। जिसमें विपक्षी दल के लोगों को भी रखा गया है। भाजपा के लोग बाहर से शराबबंदी का विरोध तो करते हैं लेकिन समिति की बैठक में बात रखने से कतराते हैं।

ये भी पढ़ें:PCC चीफ कमलनाथ बोले- उद्योगपति और व्यापारियों का शिकार नहीं बनना चा…

उन्होंने नक्सल उन्मूलन अभियान के बारे में सरकार की ओर से किये जा रहे प्रयासों को बताते हुए कहा कि स्थानीय युवाओं को बस्तर बटालियन में भर्ती कर एक बड़ा कैडर तैयार किया जा रहा है। जिससे नक्सल अभियान में बहुत बड़ा असर होगा, वहीं अबूझमाड़ का सर्वे प्रमुखता से कराए जाने की बात कही। उन्होंने कहा कि धान खरीदी को पूरी पारदर्शिता के साथ किया जा रहा है।