आसमान को रौशनी से भर देने वाले सौर तूफान, प्रौद्योगिकी के साथ तबाही मचा सकते हैं |

आसमान को रौशनी से भर देने वाले सौर तूफान, प्रौद्योगिकी के साथ तबाही मचा सकते हैं

आसमान को रौशनी से भर देने वाले सौर तूफान, प्रौद्योगिकी के साथ तबाही मचा सकते हैं

:   Modified Date:  May 16, 2024 / 01:25 PM IST, Published Date : May 16, 2024/1:25 pm IST

(जिम वाइल्ड, अंतरिक्ष भौतिकी के प्रोफेसर, लैंकेस्टर यूनिवर्सिटी)

लैंकेस्टर (यूके), 16 मई (द कन्वरसेशन) सप्ताहांत में, दुनिया भर में लाखों लोगों की आंखों ने मंत्रमुग्ध कर देने वाला एक नजारा देखा, जब ऑरोरा बोरेलिस और ऑरोरा ऑस्ट्रेलिस से आकाश भर गया। यह ऐसी रोशनी होती है, जो अमूमन पृथ्वी के ध्रुवों के आसपास एकदम शीर्ष क्षेत्रों में देखी जाती है, लेकिन सूर्य की बढ़ती गतिविधि के कारण मध्य अक्षांशों की ओर चली गई।

ऑरोरा उत्पन्न करने वाले वही भू-चुंबकीय तूफान हमारे ग्रह के मानव-निर्मित बुनियादी ढांचे में विनाश का कारण बन सकते हैं। सूर्य के उच्च ऊर्जा कणों के हमारे वायुमंडल से टकराने के कारण आने वाले इन तूफानों में विद्युत ग्रिडों और उपग्रहों को नष्ट करने की क्षमता होती है। तो हाल ही में अंतरिक्ष में आए इस तूफ़ानी मौसम के प्रभाव क्या थे?

8 मई के आसपास, सूर्य के एक सक्रिय क्षेत्र में विस्फोट हुआ, जिससे चुंबकीय और विद्युत आवेशित सामग्री का एक अरब टन का बादल पृथ्वी की ओर उड़ गया, जिसे कोरोनल मास इजेक्शन (सीएमई) के रूप में जाना जाता है। यह लगातार कई सीएमई में से पहला साबित हुआ, जो बाद में एक एकल, विशाल संरचना में विलय हो गया।

यह हमारे ग्रह के मैग्नेटोस्फीयर से टकरा गया। यह पृथ्वी के निकट अंतरिक्ष का ऐसा क्षेत्र है, जो स्थलीय चुंबकीय क्षेत्र पर हावी है। जैसे ही सीएमई से उप-परमाणु कणों को नीचे की ओर धकेला जाता है, आयनमंडल के रूप में पहचाने जाने वाले वायुमंडल के हिस्से के माध्यम से बहने वाले विद्युत प्रवाह के चैनल तीव्र हो जाते हैं।

ऑरोरल डिस्प्ले को ट्रिगर करने के अलावा, यह पृथ्वी की सतह पर शक्तिशाली चुंबकीय उतार-चढ़ाव का कारण बन सकता है। परिणामस्वरूप, बिजली ग्रिड, पाइपलाइनों और रेलवे लाइनों के माध्यम से विद्युत धाराएँ प्रवाहित हो सकती हैं, जो संभावित रूप से सामान्य संचालन को बाधित कर सकती हैं।

सीएमई से निकलने वाले उप-परमाणु कण सौर पैनलों और उपग्रहों के इलेक्ट्रॉनिक्स को नुकसान पहुंचा सकते हैं। शनिवार को, एलोन मस्क ने कहा कि उनकी कंपनी स्पेसएक्स के स्टारलिंक इंटरनेट उपग्रह तूफान के कारण ‘‘बहुत दबाव में’’ थे, ‘‘लेकिन अब तक टिके हुए हैं’’।

आयनमंडल में गड़बड़ी सूर्य पर ‘‘फ्लेयर’’ नामक उज्ज्वल विस्फोटों की एक श्रृंखला से बढ़ गई थी, जिसने पृथ्वी के सूर्य के प्रकाश वाले हिस्से पर उच्च ऊर्जा विकिरण डाला था। फ़्लेयर गतिविधि रेडियो ब्लैकआउट से जुड़ी है जो उच्च-आवृत्ति रेडियो संचार में हस्तक्षेप कर सकती है, जो कि ट्रांस-महासागरीय उड़ानों के समय विमानों के बीच होता है। ऐसे संकेत हैं कि तूफान के कारण ट्रान्साटलांटिक उड़ानों में कुछ व्यवधान आया है, लेकिन इन रिपोर्टों का अभी भी आकलन किया जा रहा है।

कोलोराडो में नेशनल ओशनिक एंड एटमॉस्फेरिक एडमिनिस्ट्रेशन (एनओएए) में स्पेस वेदर प्रेडिक्शन सेंटर के सेवा समन्वयक शॉन डाहल ने यूएस नेशनल पब्लिक रेडियो को बताया कि पावर ग्रिड ऑपरेटर ‘‘बिना किसी व्यवधान के उचित, विनियमित प्रवाह को बनाए रखने के लिए काम करने’’ में व्यस्त थे।

उन्होंने यह भी कहा कि कुछ जीपीएस सिस्टम को स्थानों को लॉक करने में कठिनाई हुई और उन्होंने गलत स्थिति पेश की। ऐसा प्रतीत होता है कि इन जीपीएस समस्याओं के कारण अमेरिका में कृषि उपकरणों में नेविगेशनल प्रणालियों में व्यवधान उत्पन्न हुआ है। कई ट्रैक्टर किसी खेत में सटीक पंक्तियाँ लगाने, अंतराल और ओवरलैप से बचने के लिए जीपीएस का उपयोग करते हैं। समस्याएँ मध्यपश्चिम और कनाडा में रोपण के चरम के दौरान हुईं।

इनमें से कुछ हॉलीवुड आपदा फिल्म की तरह लग सकते हैं। फिर भी, जबकि जीपीएस समस्याओं ने कृषि में व्यवधान पैदा किया, लेकिन इसका प्रभाव पूरी पृथ्वी पर व्यापक नहीं हुआ। कई या अधिकांश के लिए, ऐसा लगता है कि जीवन बिना किसी अवरोध के चलता रहा।

ऐसा कैसे? जागरूकता और तैयारियों से निश्चित रूप से मदद मिली। हमने अभी जो अनुभव किया, वह निस्संदेह एक असामान्य रूप से मजबूत अंतरिक्ष मौसम घटना थी। अभी शुरुआती दिन हैं और वैज्ञानिक आने वाले वर्षों के लिए मई 2024 के तूफान का विश्लेषण करेंगे। हालाँकि, शुरुआती संकेत हैं कि पिछले सप्ताहांत का भू-चुंबकीय तूफान अक्टूबर 2003 के ‘‘हैलोवीन तूफान’’ के बाद सबसे शक्तिशाली था। आकाश में खूबसूरत रोशनी के अलावा, 2024 के तूफान के नकारात्मक प्रभाव अभी तक पूरी तरह से स्पष्ट नहीं हैं।

इस स्तर पर, ऐसा नहीं लगता कि कोई भयावह विफलता हुई, लेकिन बुनियादी ढांचा संचालक यह समझने के लिए जायजा लेंगे कि क्या और कैसे, उनके सिस्टम प्रभावित हुए थे।

पर्दे के पीछे, एनओएए और यूके में मौसम कार्यालय जैसी राष्ट्रीय एजेंसियां ​​गतिविधि की निगरानी कर रही थीं, इच्छुक पार्टियों को पूर्वानुमान और अलर्ट जारी कर रही थीं और विशेषज्ञों और सरकारों के साथ संपर्क कर रही थीं। जवाब में, बुनियादी ढांचा ऑपरेटरों ने सेवाओं की निरंतरता सुनिश्चित करने और अपने उपकरणों की सुरक्षा के लिए कदम उठाए।

और भी बड़े तूफ़ान

हालाँकि, हमने अभी जो अनुभव किया है वह अब तक देखी गई ऐसी सबसे बड़ी घटना नहीं थी। सबसे बड़ी घटना सितंबर 1859 के ‘‘कैरिंगटन इवेंट’’ को कहा जाता है, जिसमें एक विशाल सीएमई (या संभवतः सीएमई की एक जोड़ी) ने एक विशाल भू-चुंबकीय तूफान को जन्म दिया, जिसने अरोरा बोरेलिस को कैरिबियन के दक्षिण में धकेल दिया और तांबे में शक्तिशाली धाराओं को प्रेरित किया। टेलीग्राफ लाइनों के कारण कम से कम एक ऑपरेटर को गंभीर बिजली का झटका लगा – हालाँकि उसकी जान बच गई।

कुछ मैट्रिक्स के अनुसार, कैरिंगटन घटना उस तूफ़ान से दो से तीन गुना अधिक शक्तिशाली थी जो हमने अभी देखा है। ऐसी विशाल घटनाएँ दुर्लभ हैं, संभवतः हर दो सौ वर्षों में एक बार होती हैं, मई 2024 के तूफान के विपरीत जो हर दो दशकों में एक बार देखे जाने वाले पैमाने का था।

मानव प्रौद्योगिकी अपेक्षाकृत शक्तिशाली अंतरिक्ष मौसम की घटनाओं से निपटने में सक्षम है, लेकिन आधुनिक प्रौद्योगिकियों और बुनियादी ढांचे ने कैरिंगटन घटना जैसा अनुभव कभी नहीं किया है। यही कारण है कि शोधकर्ता अंतरिक्ष के मौसम को बेहतर ढंग से समझने और हमारे समाज पर इसके प्रभाव की भविष्यवाणी करने और उसे कम करने और बेहतर पूर्वानुमान उपकरण विकसित करने के लिए एजेंसियों और सरकार के साथ काम करने का प्रयास करते हैं।

द कन्वरसेशन एकता एकता

एकता

 

(इस खबर को IBC24 टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

Flowers