यहां खुद पेरेंट्स बच्चों को देते हैं ‘ड्रग्स’, कहीं गांजा तो कहीं कोकीन, इन 10 देशों में सबसे ज्यादा नशा करते हैं लोग

यहां खुद पेरेंट्स बच्चों को देते हैं ‘ड्रग्स’, कहीं गांजा तो कहीं कोकीन! Worlds top 10 most addicted countries

: , October 4, 2021 / 12:00 AM IST

नई दिल्ली: दुनियाभर के देशों में बहुत से लोग ड्रग्स की लत से जूझ रहे हैं, इनमें ज्यादातर संख्या युवाओं की है। ड्रग्स की अधिक मांग और इनके महंगा बिकने के कारण कई देशों में मादक पदार्थों की खेती तक की जाती है। हैरानी की बात ये है कि अफीम जैसी चीजों की खेती सरकार के प्रतिबंध के बावजूद छिपाकर की जाती है। इस मामले में अफगानिस्तान पहले स्थान पर आता है (most drug addicted countries)। यही कारण है कि ड्रग्स की लत से ग्रसित लोगों की संख्या हर दिन बढ़ रही है। इस लत के घातक परिणाम भी देखने को मिलते हैं। भविष्य के युवाओं को इससे बचाने के लिए अंतरराष्ट्रीय समुदाय काफी प्रयास कर रहा है, लेकिन समस्या फिर भी खत्म नहीं हो रही। चलिए अब उन दस देशों के बारे में जान लेते हैं, जहां के लोग सबसे अधिक नशा करते हैं।

Read More: को-मोर्बिडीटी से मृतकों के परिजन भी मुआवजे के लिए कर सकते है आवेदन, जोन कार्यालय में मिलेगा फॉर्म

मेक्सिको
ड्रग्स के इस्तेमाल के मामले में मेक्सिको दुनिया का दसवां देश है। यहां सबसे ज्यादा मेथ का सेवन किया जाता है। यहां से मेथ के अलावा दूसरे ड्रग्स की तस्करी भी होती है। मेथ नाम का ड्रग्स काफी खबरनाक होता है। साल 2010 और 2011 में इसका इस्तेमाल मेक्सिको और अमेरिका में बढ़ा है। मेक्सिको को मेथ उत्पादन का केंद्र माना जाता है और इसकी उपभोक्ता संख्या दिन-ब-दिन बढ़ती जा रही है (Drug Addiction in Mexico)। विशेष रूप से यह संख्या 2012 में टॉप पर पहुंच गई थी। एक सर्वे के अनुसार मेक्सिको के 3,60,000 लोगों ने अपने जीवन में कम से कम एक बार मेथ का सेवन किया है।

ब्राजील
यहां ऑक्सी नाम के ड्रग्स का सबसे अधिक सेवन होता है। ऑक्सी ज्यादा मशहूर नहीं है और इसका कोकेन की तरह इस्तेमाल होता है। ऑक्सी में कोकेन पेस्ट, गैसोलीन और ऑक्साइड होते हैं, जो किसी को भी नशे की लत लगा देते हैं। ब्राजील में ऑक्सी इसलिए ज्यादा मशहूर है क्योंकि इससे कोकेन से भी अधिक नशा होता है। अगर वक्त रहते सरकार ने इसपर रोक लगाने के लिए कुछ नहीं किया, तो भविष्य में ब्राजील को काफी संकट का सामना करना पड़ सकता है।

Read More: कोच ने पहले 14 वर्षीय बैडमिंटन खिलाड़ी का पकड़ा हाथ, फिर…, पुलिस ने किया गिरफ्तार

अमेरिका
अमेरिका में ड्रग्स का सेवन सीधे तौर पर ना करके डॉक्टर की सलाह पर दवा के तौर पर किया जाता है। ऐसा माना जाता है कि हर 10 में से 7 अमेरिकी दवा के रूप में ड्रग्स का सेवन करते हैं। गोलियों का इस्तेमाल ज्यादातर मेडिकेशन, मधुमेह, टीबी, नींद से जुड़ी दिक्कतों, डिप्रेशन और अस्थमा के इलाज के लिए किया जाता है (Drug Pills in US)। लेकिन डॉक्टर की सलाह पर ली जाने वाली इन गोलियों का इस्तेमाल हर दिन बढ़ रहा है। बीते कुछ वर्षों में ये संख्या 44 फीसदी से बढ़कर 48 फीसदी पर पहुंच गई है।

कनाडा
यहां गांजे का सेवन सबसे ज्यादा होता है, इसे कनाडा में पॉट कहा जाता है। करीब 44.3 फीसदी कनाडाई लोग अपने जीवन में एक बार इसका इस्तेमाल करते हैं (most addicted countries)। हाल में सामने आए आंकड़े बताते हैं कि कनाडा में गांजे की खपत पिछले कई वर्षों में कम हो गई है, विशेष रूप से खपत में साल 2004 के उच्च स्तर के बाद 2011 में 39.4 फीसदी तक की गिरावट आई है। नशीली दवाओं की लत की शुरुआत ज्यादातर टीनेज अवस्था में होती है और फिर बढ़ती जाती है। कनाडा ड्रग्स के उपयोग को कम करने के लिए प्रभावी उपाय अपना रहा है लेकिन फिर भी देश में नियमित तौर पर 23,000 लोग गांजा लेते हैं।

Read More: क्रूज जहाज में ड्रग्स पार्टी मामलाः आयोजकों और जहाज के अधिकारियों पर भी गिर सकती है गाज, पूछताछ के लिए एनसीबी कर सकती है तलब

अफगानिस्तान
हेरोइन नामक ड्रग्स के साथ लिस्ट में अफगानिस्तान छठे नंबर पर है। ये देश बड़े स्तर पर अफीम की खेती भी करता है। एक सर्वे के अनुसार लगभग 3,50,000 अफगानों को हेरोइन की लत है और यह संख्या तेजी से बढ़ रही है। एक हैरान करने वाली बात ये भी है कि अफगानिस्तान में हेरोइन लेने वाले करीब 75 फीसदी माता-पिता अपने बच्चों को भी ड्रग्स देते हैं, जिन्होंने देश के बेहतर भविष्य के लिए भी खतरा पैदा कर दिया है (Afghanistan Drugs Problem)। अफगानिस्तान के लोगों को ड्रग्स की लत इसलिए भी ज्यादा है क्योंकि इस तक पहुंच आसान है, ड्रग्स सस्ता पड़ता है और देश में जारी हिंसा के कारण लोग तनाव होने पर इसका सेवन करते हैं।

रूस
यहां बीते कई दशक से शराब का काफी सेवन किया जाता है और हाल के वर्षों में लोगों ने वोडका का इस्तेमाल भी काफी ज्यादा शुरू कर दिया है (Most Alcohol Addicted Countries)। अत्यधिक शराब के सेवन के कारण रूस में प्रीमेच्योर अवस्था में जन्म लेने वाले बच्चों की संख्या बढ़ी है। 50 के करीब उम्र वाले ज्यादातर लोगों की मौत का कारण शराब है। क्योंकि इसके सेवन से लीवर से जुड़ी बीमारी होती, आत्महत्या के मामले बढ़े हैं और हार्ट अकैट की समस्या भी देखी गई है।

Read More: लखीमपुर खीरी की घटना में अब तक 8 की मौत, मारे गए लोगों में 4 किसान और 4 भाजपा कार्यकर्ता

स्लोवाकिया
ड्रग्स की लत के मामले में स्लोवेकिया दुनिया में चौथे स्थान पर है। यहां टॉल्यूइन का काफी इस्तेमाल होता है, यह पेंट थिनर जैसा नशीला पदार्थ है। इससे व्यक्ति के लीवर को भारी नुकसान हो सकता है और पहली बार इस्तेमाल करने वाले ज्यादातर लोगों की इसके घातक प्रभाव के कारण मौत भी हो जाती है।

फ्रांस
ये देश इस मामले में तीसरे स्थान पर है। यहां के लोग अमेरिकियों से भी ज्यादा इलाज की गोलियों के नाम पर ड्रग्स का सेवन करते हैं। इस तरह की गोली आसानी से मिल जाती हैं और इनका दाम भी कम होता है। फ्रांसीसी लोग अत्यधिक गोलियों का उपयोग करते हैं। लोग जब एक बार ऐसी गोलियों का सेवन करते हैं, तो उन्हें बाद में बार-बार इसका इस्तेमाल करने की लत लग जाती है। इनमें ज्यादातर नींद की गोलियां, एंटी-डिप्रेशन और दूसरी बीमारियों के इलाज से संबंधित गोलियां शामिल हैं।

Read More: आर्यन की गिरफ्तारी के बाद शाहरुख खान से मिलने ‘मन्नत’ पहुंचे सलमान खान, वीडियो हुआ वायरल

ब्रिटेन
यूके में अनुमानित 1.6 मिलियन लोग शराब पीते हैं। इसी वजह से इसे ‘ड्रिंकिंग कंट्री’ तक कहा जाता है। ब्रिटेन में शराब पहले की तुलना में 45 फीसदी कम सस्ती हो गई है। शराब की लत वाले लोगों की इलाज तक कम पहुंच होती है और 52 फीसदी पुरुष और महिलाएं जरूरत से अधिक शराब का सेवन करते हैं।

ईरान
सबसे अधिक नशा करने वाले देशों में ईरान पहले स्थान पर है (most drug use countries)। यहां करीब 14 मिलियन नागरिकों को ड्रग्स की लत है। ईरान में हेरोइन तक पहुंच मुश्किल है लेकिन दूसरी तरह के ड्रग्स आसानी से मिल जाते हैं। ईरान सीमा बलों ने तस्करी पर बहुत हद तक नियंत्रित कर लिया है लेकिन फिर भी समस्या को पूरी तरह खत्म करने के लिए अभी और प्रयास किए जाने की जरूरत है।

Read More: लो साहब ऐसे लगाएंगे जुआरियों पर लगाम! आलीशान होटल में जुआ खेलते पकड़ाए SI सहित तीन आरक्षक