यहां लगाया गया सख्त लॉकडाउन, दोपहर 3 बजे ही सो जाते हैं लोग, दाने-दाने को हुए मोहताज

यहां लगाया गया सख्त लॉकडाउन, दोपहर 3 बजे ही सो जाते हैं लोग! Zero Covid Policy: Impose Strict Lockdown in Across Country

Edited By: , January 14, 2022 / 06:55 PM IST

पेइचिंग: Zero Covid Policy कोरोना संक्रमण ने दुनिया के कई देशों में जमकर तबाही मचाई है। चीन का भी यही हाल है, जिसके चलते चीन की सरकार ने देशभर में जीरो कोविड पॉलिसी लागू कर दी है। लेकिन सरकार की जीरो कोविड पॉलिसी के चलते लोगों की जान पर बन आई है। लोग यहां दाने-दाने को मोहताज हो रहे हैं। बताया जा रहा है कि इसके लिए चीनी सरकार सभी हदें पार करने के लिए भी तैयार है। फिर चाहें लोगों को घरों को कैद करना हो या स्टील के बक्से में। सरकार की ओर से नियमों को और ज्यादा कड़ा कर दिया गया है और लोग अभी भी अपने घरों से बाहर नहीं निकल पा रहे हैं।

Read More: कोरोना पॉजिटिव डॉक्टर कर थी मरीजों का इलाज, स्वास्थ्य विभाग ने क्लिनिक को किया सील 

Zero Covid Policy हालत यह है कि लोगों के पास खाने जैसी मूलभूत चीजें भी खत्म हो चुकी हैं और अब वे त्राहि-त्राहि कर रहे हैं। गत 9 जनवरी को द एपोच टाइम्स से बात करते हुए शिआन के यांटा जिले की एक निवासी ने कहा कि मैं कभी कोरोना पॉजिटिव हुई ही नहीं, तो फिर मेरा दरवाजा क्यों सील किया गया है? काई जियायिंग ने कहा कि हमारे आवासीय परिसर को 21 दिनों के लिए बंद कर दिया गया है। लॉकडाउन के शुरुआत में मैंने खुद को सांत्वना दी। लेकिन कुछ दिनों बाद मैं निराश हो गई और आज सुबह मैं पागल हो गई।

Read More: अब भी रेल यात्रियों को नहीं मिल रहा MST सुविधा का लाभ, पनप रहा आक्रोश 

उन्होंने बताया कि बीते तीन दिनों में वह और उनके पति सिर्फ थोड़ा-सा खाना ही खरीद पाए हैं और उन्हें नहीं पता कि अब कब कुछ और खरीद पाएंगे। काई ने कहा कि मुझे चिंता है कि हमारे पास जल्द ही खाने के लिए कुछ नहीं होगा। हम अपना पेट नहीं भर सकते। हम हर रोज खाने के बाद शाम को 3 से 4 बजे तक सो जाते हैं। हम खाना बचाने के लिए ज्यादा से ज्यादा सोते हैं। उन्होंने बताया कि परिवार के पास खाने के लिए सिर्फ एक कटोरी चावल, करीब पांच किग्रा आटा, सात कप नूडल्स और थोड़ा-सा मीट बचा हुआ है।

Read More: नर्सिंग कॉलेजों में प्रदर्शक और सहायक प्राध्यापकों की भर्ती का मामला, हाईकोर्ट ने अगली सुनवाई तक लगाई रोक 

इतने राशन में काई का परिवार मुश्किल से एक हफ्ते तक खाना खा सकता है। फोन पर दिए इंटरव्यू में हर किसी के पास एक दर्दनाक कहानी है। चीन के शून्य कोविड रणनीति के कारण पूरे देश में करीब दो करोड़ लोग अपने-अपने घरों में कैद हैं। इनमें शियान के अलावा आन्यांग और युझोउ शहर भी शामिल हैं। इन शहरों के लोगों को खाने-पीने का सामान खरीदने तक के लिए बाहर निकलने की अनुमति नहीं है।

Read More: ऑफलाइन क्लासेस बंद, ऑनलाइन माध्यमों से होगी पढ़ाई, इस राज्य की सरकार ने जारी किया आदेश 

ओमीक्रोन के दो मामले सामने आने के बाद चीन ने सोमवार देर रात 55 लाख लोगों के शहर आन्यांग में लॉकडाउन लगा दिया था। बीबीसी की रिपोर्ट के अनुसार, चीन हजारों की संख्या में लोगों को शियान शहर के बाहरी इलाकों में बने क्वारंटीन शिविरों में कैद कर रहा है। इन शिविरों में कैद रहे लोगों ने रिपोर्ट में बताया है कि वहां गर्भवती महिलाओं, बुजुर्ग और बच्चों को भी रखा गया है। उन लोगों ने जीरो कोविड राज्य में डिटेंशन कैंपों की भयावहता को भी बताया है।

Read More: मलाइका अरोड़ और अर्जुन कपूर का हुआ ब्रेकअप? अब मलाइका ने सोशल मीडिया पर कही ये बात

ऑनलाइन शेयर किए जा रहे एक वीडियो में लोगों को लकड़ी के बिस्तर और शौचालय से सुसज्जित छोटे बक्से में दिखाया गया है। इस जगह पर उन्हें दो हफ्तों तक रहने के लिए मजबूर किया जाता है। इन शिविरों में कैद लोगों को पीपीई किट पहने कुछ लोग खाना देते नजर आ रहे हैं। जिन लोगों को इन क्वारंटीन कैंप्स में कैद किया गया था, उन लोगों ने बताया है कि उन्हें बहुत कम खाना दिया जाता था।

Read More: धरने पर बैठे किसानों ने भाजपा का समर्थन लेने से किया इनकार, मंत्री चौबे बोले – ‘किस मुंह से गए थे BJP नेता’