बेबस बाप FIR लिखवाने के लिए नवजात बच्चे का शव लेकर पहुंचा पुलिस थाने , योगी की पुलिस ने नहीं दर्ज किया केस, फिर... |The helpless father reached the police station with the dead body of his newborn child to get the FIR registered.

बेबस बाप FIR लिखवाने के लिए नवजात बच्चे का शव लेकर पहुंचा पुलिस थाने , योगी की पुलिस ने नहीं दर्ज किया केस, फिर…

धनीराम और गांव के दो रिश्तेदार से विवाद हो गया। जिसमें उन लोगों ने धनीराम व उसकी गर्भवती पत्नी की पिटाई की। जिसके बाद से पत्नी की हालत बिगड़ गई। रिपोर्ट के अनुसार आगरा के निबोहरा थाना अंतर्गत लालगढ़ के 23 वर्षीय धनीराम की पत्नी को 20 जून सोमवार को दो लोगों ने बुरी तरह पीटा ।

Edited By: , July 3, 2022 / 05:00 PM IST

आगरा: उत्तर प्रदेश के आगरा में एक बेबस बाप एफआईआर लिखवाने के लिए अपने नवजात बच्चे का शव लेकर पुलिस थाने पहुंचा।  यह घटना यूपी में आगरा जिले के निबोहरा थाने की है। जहां धनीराम और गांव के दो रिश्तेदार से विवाद हो गया। जिसमें उन लोगों ने धनीराम व उसकी गर्भवती पत्नी की पिटाई की। जिसके बाद से पत्नी की हालत बिगड़ गई। रिपोर्ट के अनुसार आगरा के निबोहरा थाना अंतर्गत लालगढ़ के 23 वर्षीय धनीराम की पत्नी को 20 जून सोमवार को दो लोगों ने बुरी तरह पीटा था।

Read More: चलन से बाहर हो जाएगा 500 रुपए का नोट? RBI ने कही ये बड़ी बात, बैंकों को भी दिया ये निर्देश

जिससे उसके पेट में तेज दर्द होने लगा। धनीराम अपनी पत्नी को पास के एक नर्सिंग होम में ले गया। जहां एक डॉक्टर ने सर्जरी की और तुरंत उसके बच्चे को जन्म दिया। लेकिन छ: महीने में ही डिलीवरी होने के चलते जन्म के कुछ समय बाद ही बच्चे की मौत हो गई। इसको लेकर धनीराम हमलावरों, गुड्डू और रामास्वामी के खिलाफ शिकायत दर्ज करने के लिए पुलिस स्टेशन पहुंचा। लेकिन पुलिस अधिकारियों ने उनकी शिकायत दर्ज करने से इनकार कर दिया।

Read More: कल से 15 दिनों तक बंद रहेंगे सभी स्कूल, तेजी से बढ़ते कोरोना संक्रमण के चलते जिला प्रशासन ने लिया बड़ा फैसला

इसके बाद वह स्थानीय निवासियों के साथ अपनी नवजात बेटी के शव को गोद में लेकर वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक के कार्यालय पहुंचा। पीड़ित पिता धनीराम का आरोप है कि, पुलिस ने उनकी कोई सुनवाई नहीं की। बाद में एसएसपी कार्यालय में वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक प्रभाकर चौधरी ने धनीराम की बात सुनी, और आश्वासन दिया कि उन्हें न्याय मिलेगा। एसएसपी प्रभाकर चौधरी ने सीओ फतेहाबाद को मामले में जांच के बाद कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार धनीराम ने  बताया था कि उनकी पत्नी छह महीने की गर्भवती थी। घटना के वक्त वह काम पर जा रहे थे।

Read More: खेत में सुलगती दिखी आदिवासी महिला, गांव के दबंगों ने महिला को किया आग के हवाले 

धनीराम ने  बताया कि “पिटाई के कारण, मेरी पत्नी की तबीयत बिगड़ने लगी थी। मैं तुरंत उसे पास के एक नर्सिंग होम में ले गया। जहां से उसे एक सरकारी अस्पताल में स्थानांतरित कर दिया गया। मेरी पत्नी का ऑपरेशन किया गया था। लेकिन बाद में नवजात शिशु को मृत घोषित कर दिया गया। अभी इस मामले में पुलिस जांच कर रही है।

Read More: बुरे फंसे आदित्य, आतंकी कसाब से कर दी बागी विधायकों की तुलना, बढ़ सकती हैं मुश्किलें…

 

#HarGharTiranga