Death toll due to poisonous liquor rises to 11 in Bihar

जहरीली शराब से मरने वालों की संख्या 11 पहुंची.. और बढ़ सकती है मृतकों की संख्या

बिहार में जहरीली शराब से मरने वालों की संख्या 11 हुई

: , January 16, 2022 / 04:41 PM IST

बिहारशरीफ, 16 जनवरी (भाषा) बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के गृह जिला नालंदा में जहरीली शराब पीने से सात और व्यक्तियों की मौत हो जाने से इससे मरने वालों की संख्या बढ़कर 11 हो गई है। बिहार पूर्णशराबबंदी वाला राज्य है।

पढ़ें- पूर्व विधायक सुखदेव प्रसाद का निधन.. पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के सहयोगी और जनसंघ के विधायक भी रहे 

नालंदा के पुलिस अधीक्षक अशोक मिश्रा के अनुसार संबंधित थाने सोहसराय के थानाध्यक्ष को निलंबित कर दिया गया है और आठ मृतकों के शव पोस्टमार्टम के बाद परिजनों को सौंप दिए गए हैं। उन्होंने कहा, ‘‘शनिवार तड़के चार लोगों की मौत हुई जबकि शाम को इतनी ही मौतें हुईं। आज सुबह तीन और लोगों की मौत हुई।’’

पढ़ें- पाकिस्तान की ‘लेडी अलकायदा’ आफिया सिद्दीकी? रिहाई के लिए US में 4 लोग बनाए गए बंधक

पुलिस अधीक्षक ने कहा, ‘‘सभी मौतें नालंदा जिला मुख्यालय बिहारशरीफ शहर के छोटी पहाड़ी और पहाड़ी तल्ली इलाकों में हुई हैं।’’ उन्होंने कहा कि रविवार सुबह दम तोड़ने वाले तीन व्यक्तियों के शवों को पोस्टमॉर्टम के लिए भेजा गया है। मृतकों के परिजनों का आरोप है कि इन लोगों ने शुक्रवार रात शराब का सेवन किया था।

पढ़ें- एयरपोर्ट के वरिष्ठ अफसर पर यौन हमले का केस दर्ज, महिला कर्मचारी ने लगाए गंभीर आरोप

बिहार में अप्रैल 2016 से शराब की बिक्री और सेवन पूरी तरह से प्रतिबंधित है। यह घटना जहरीली शराब के सेवन से उत्तरी बिहार के चार जिलों में 40 से अधिक लोगों की मौत के करीब दो महीने बाद हुई है।

पढ़ें- साइकिल चला रहे दो लड़के कुएं में जा गिरे.. दोनों की मौत

इस बीच बिहार में सत्ताधारी भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की पार्टी जदयू पर निशाना साधते हुए कहा, ‘‘नालंदा जिले में जहरीली शराब से 11 मौतें हो चुकी हैं। परसों मुझसे जहरीली शराब पर जदयू प्रवक्ता ने प्रश्न पूछा था। आज मेरा प्रश्न उस दल से है कि क्या इन 11 लोगों के पूरे परिवार को जेल भेजा जाएगा क्योंकि अगर कोई जाकर उनके यहां सांत्वना देता तो आपके लिए अपराध है।’’

पढ़ें- मामूली सी बात में बेटी की पीट-पीट कर हत्या.. महिला और पति को उम्रकैद

उन्होंने कहा, ‘‘ अगर शराबबंदी लागू करना है तो सबसे पहले नालंदा प्रशासन द्वारा गलत बयान देने वाले उस बड़े अफसर की गिरफ्तारी होनी चाहिए क्योंकि प्रशासन का काम जिला चलाना होता है ना कि जहरीली शराब से मृत व्यक्तियों को अजीबोगरीब बीमारी से मरने का कारण बताना।’’

 

 

#HarGharTiranga