JNU campus defaced with anti-Brahmin slogans : JNU delhi latest news

खून बहेगा… ब्राह्मणों वापस जाओ, हम आ रहे हैं बदला लेने’, JNU की दीवारों पर लिखे नारे, विद्यार्थियों से लेकर प्रोफेसर तक को धमकी, जानें पूरा मामला

JNU campus defaced with anti-Brahmin slogans : JNU में लिखा है ‘ब्राह्मण-बनिया, हम आ रहे हैं बदला लेने’। एक जगह लिखा है ‘ब्राह्मण परिसर छोड़ो।

Edited By: , December 1, 2022 / 08:27 PM IST

JNU campus defaced with anti-Brahmin slogans : नई दिल्ली। दिल्ली का जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (JNU) एक बार फिर विवादों में है। विश्वविद्यालय परिसर में स्थित कई इमारतों की दीवारों पर विवादास्पद नारे लिखे गए। इसके साथ ही कुछ प्रोफेसरों के चैंबरों के गेट पर विश्वविद्यालय के बजाए राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) में जाने के लिए कहा गया है। इसका फोटो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है।

read more : Gujarat assembly election 2022: अब EVM को लेकर छिड़ी रार, पहले फेज का चुनाव खत्म होते ही निर्वाचन आयोग के पास पहुंची कांग्रेस, कर दी ऐसी शिकायत 

JNU campus defaced with anti-Brahmin slogans : छात्रों ने दावा किया कि विश्वविद्यालय परिसर के स्कूल ऑफ इंटरनेशनल स्टडीज- II भवन की दीवारों पर ब्राह्मण और वैश्य समुदायों के खिलाफ नारे लिखे गए हैं। एक जगह लिखा है ‘ब्राह्मण-बनिया, हम आ रहे हैं बदला लेने’। एक जगह लिखा है ‘ब्राह्मण परिसर छोड़ो, ब्राह्मण भारत छोड़ो’। वहीं, एक जगह ‘अब खून बहेगा’ लिखा हुआ है।

read more : मुंबई इंटरनेशनल एयरपोर्ट का सर्वर डाउन, 40 मिनट तक रही सामान्य सेवाएं बंद, यात्रियों का हाल हुआ बेहाल 

JNU campus defaced with anti-Brahmin slogans : वहीं, तीन प्रोफसरों के चैंबर के गेट पर ‘शाखा में जाओ’ लिखा गया है। इसको लेकर विश्वविद्यालय प्रशासन की ओर से कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है। वहीं, संघ से जुड़े छात्र संगठन अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (ABVP) ने इसे वामपंथियों की बर्बरता बताया है।

read more : Girlfriend के सामने बीच बजार में खुल गई लुंगी, युवती ने दिया ऐसा Reaction …देखें वीडियो

JNU एबीवीपी के अध्यक्ष रोहित कुमार ने कहा, “एबीवीपी कम्युनिस्ट गुंडों द्वारा अकादमिक स्थानों में बड़े पैमाने पर जातिसूचक नारे लिखने की निंदा करता है। कम्युनिस्टों ने स्कूल ऑफ इंटरनेशनल स्टडीज- II बिल्डिंग में जेएनयू की दीवारों पर अपशब्द लिखे हैं। उन्होंने उन्हें डराने के लिए स्वतंत्र सोच वाले प्रोफेसरों के कक्षों को विरूपित किया है।” रोहित कुमार ने कहा, “हमारा मानना है कि अकादमिक जगहों का इस्तेमाल बहस और चर्चा के लिए होना चाहिए, न कि समाज और छात्रों के समुदाय में जहर घोलने के लिए। यहाँ नफरत और गाली के लिए कोई स्थान नहीं है।”