SC On NEET Paper Leak Case: नीट परीक्षा मामले में सुप्रीम कोर्ट ने जताई चिंता, इतने दिन के भीतर NTA से मांगा जवाब

SC On NEET Paper Leak Case: नीट परीक्षा मामले में सुप्रीम कोर्ट ने जताई चिंता, इतने दिन के भीतर NTA से मांगा जवाब

  •  
  • Publish Date - June 18, 2024 / 03:00 PM IST,
    Updated On - June 18, 2024 / 03:00 PM IST

SC On NEET Paper Leak Case: नई दिल्ली। देशभर में नीट परीक्षा को लेकर सियासत गरमाई हुई है। इस धांधली को लेकर कांग्रेस लगातार केंद्र सरकार पर हमला बोल रही है। वहीं, आज नीट-यूजी 2024 परीक्षा में हुई गड़बड़ी की शिकायत पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई। सुनवाई के दौरान SC ने चिंता भी जाहिर की है।

Read More: Rahul Gandhi on NEET Exam Scam: ‘भाजपा शासित राज्य पेपर लीक का एपिसेंटर बन चुके हैं..’ नीट परीक्षा में धांधली पर बोले राहुल गांधी 

याचिकाकर्ता ने दलील दी है कि परीक्षा में धांधली हुई है, इसलिए परीक्षा की जांच हो। इससे पहले सर्वोच्च न्यायालय ने एनटीए (NTA) को नोटिस जारी करके 8 जुलाई तक जवाब मांगा था। वहीं, सुनवाई के दौरान आज भी कोर्ट ने केंद्र सरकार और एनटीए को नोटिस जारी कर स्कैम के मामले में जवाब मांगा है। कोर्ट ने कहा कि अगर किसी की ओर से 0.001 प्रतिशत लापरवाही हुई है तो इससे पूरी तरह निपटा जाना चाहिए। इतना ही नहीं कोर्ट ने छात्रों को लेकर चिंता जाहिर की है।

Read More: Lawrence Bishnoi Viral Video: लॉरेंस बिश्नोई ने पाकिस्तानी गैंगस्टर को जेल से दी ईद की बधाई! सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा वीडियो 

सुप्रीम कोर्ट ने चिंता जताते हुए कहा, कि बच्चों की मेहनत को भूल नहीं सकते। SC ने मौखिक रूप से एनटीए को कहा, कि “कल्पना कीजिए कि सिस्टम के साथ धोखाधड़ी करने वाला व्यक्ति डॉक्टर बन जाता है, वह समाज के लिए ज्यादा हानिकारक होगा।वहीं, सुप्रीम कोर्ट में अब इस मामले पर अगली सुनवाई 8 जुलाई को होनी है।

Read More: Narendra Modi ke liye Dandvat Yatra: दंडवत यात्रा कर मां दंतेश्वरी के धाम पहुंचा आदिवासी युवक, नरेंद्र मोदी को तीसरी बार पीएम और केंद्र में भाजपा की सरकार के लिए की थी कामना

बता दें, कि NTA ने 5 मई को नीट परीक्षा कराई थी, लेकिन जब 4 जून को रिजल्ट जारी किया तो देशभर में हंगामा हो गया। दरअसल, परीक्षा में 67 छात्रों को 720 में से पूरे 720 अंक मिले थे। ऐसा NEET-UG के इतिहास में कभी नहीं हुआ था। परीक्षा में बैठे 1563 छात्रों को ग्रेस मार्क्स दिए गए थे। ग्रेस मार्क्स 10 या 20 नहीं बल्कि 100 से 150 दिए थे। ग्रेस मार्क्स पाए इन्हीं 67 छात्रों के पूरे 720 अंक आए थे। ग्रेस मार्क्स के चलते कई बच्चे मेरिट लिस्ट से बाहर हो गए। सरकारी मेडिकल कॉलेजों में उनका प्रवेश मुश्किल हो गया था। दिल्ली में 10 जून को बड़ी संख्या में छात्रों ने प्रदर्शन किया था। आरोप है कि ग्रेस मार्क्स के चलते 67 छात्रों ने टॉप किया है।

IBC24 की अन्य बड़ी खबरों के लिए हमारे फेसबुक फेज को भी फॉलो करें

IBC24 की अन्य बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करें

Follow the IBC24 News channel on WhatsApp