Bhopal Gas Tragedy: 38 years of gas tragedy, 15 thousand people died

भोपाल गैस त्रासदी : 38 साल पहले जहरीली गैस ने छीन ली थी 15 हजार से ज्यादा लोगो की जिंदगी, काली रात को यादकर आज भी सहम जातें है लोग

Bhopal Gas Tragedy:  2-3 दिसंबर 1984 की दरमियानी रात हुए गैसकांड का जख्म आज भी पीड़ितों के जहन में है और यह जख्म हर साल बरसी आने पर ताजे

Edited By: , December 2, 2022 / 03:05 PM IST

भोपाल : Bhopal Gas Tragedy:  2-3 दिसंबर 1984 की दरमियानी रात हुए गैस कांड का जख्म आज भी पीड़ितों के जहन में है और यह जख्म हर साल बरसी आने पर ताजे हो उठते है। गैस कांड के 38 साल बाद भी गैस पीड़ित आज भी कई तरह की बीमारियों से जूझ रहे है, जिनके इलाज की व्यवस्था करने का दावा तो मप्र सरकार करती है लेकिन अव्यवस्थाओं के फेर में उलझ कर गैस पीड़ितों को न तो इलाज मिल पाता है और न ही जरूरी व्यवस्था।

यह भी पढ़ें :  येलो सूट में सोनम कपूर ने बिखेरा हुस्न का जलवा, तस्वीरें देख मदहोश हुए फैंस

पीड़ितों को नहीं मिल रहा योजना का लाभ

Bhopal Gas Tragedy: मप्र सरकार ने गैस पीड़ितों का इलाज आयुष्मान योजना के तहत इलाज कराने की व्यवस्था तो की है पर कागजों और नियमों के फेर में उलझ कर गैस पीड़ितों को इस योजना का लाभ नहीं मिल पा रहा है। इस बारे में गैस पीड़ितों के लिए काम करने वाली सामाजिक कार्यकर्ता ने बताया कि कई गैस विक्टिम ऐसे है जिन्हें वह दिक्कतें है जो आयुष्मान योजना के दायरे में नहीं है। कई गैस पीड़ित ऐसे है जो गरीबी रेखा के नीचे नहीं आते है। इन्हीं सब शर्तों में उलझ कर गैस पीड़ित अपने इलाज के लिए अस्पताल से अस्पताल भटकते रहते है। सुप्रीम कोर्ट ने मप्र सरकार को निर्देश दिए थे कि सभी गैस पीड़ितों का इलाज मुफ्त होना चाहिए पर प्रदेश सरकार के पेचीदा फैसलों के कारण गैस पीड़ित परेशान ज्यादा हुए है।

यह भी पढ़ें :  स्वामी आत्मानंद अंग्रेजी स्कूलों में प्रतिनियुक्ति पर पोस्टिंग, बड़ी संख्या में शिक्षक और क्लर्क का तबादला 

15 हजार से अधिक लोगों की हुई थी मौत

Bhopal Gas Tragedy: बता दें कि, 2 दिसंबर, 1984 की रात को यूनियन कार्बाइड इंडिया लिमिटेड (यूसीआईएल) के कीटनाशक कारखाने से निकलने वाली गैस के कारण 15 हजार से अधिक लोगों की मौत हुई। रासायनिक विज्ञान की भाषा में गैस को मिथाइल आइसोसाइनेट (एमआईसी) नाम दिया गया। 38 साल पहले लीक हुई गैस के कारण मंजर ऐसा खौफनाक बना मानो पूरा भोपाल शहर गैस चैंबर में बदल गया हो। यह भारत की पहली बड़ी औद्योगिक आपदा थी।

यह भी पढ़ें : प्रदेश में सरकारी विभागों में खाली पदों पर भर्तियां शुरू, सीधी भर्ती को लेकर कर्मचारियों ने किया विरोध, सरकार को खिलाफ खोलने जा रहे मोर्चा 

6 लाख से अधिक लोगों हुए थे प्रभावित

Bhopal Gas Tragedy: रिपोर्ट्स के मुताबिक कम से कम 30 टन मिथाइल आइसोसाइनेट गैस के कारण 15,000 से अधिक लोगों की मौत के अलावा 6,00,000 से अधिक श्रमिकों की सेहत पर भयानक असर हुआ। भोपाल गैस त्रासदी को दुनिया की सबसे भीषण औद्योगिक आपदा के रूप में जाना जाता है। त्रासदी से पहले चेतावनी की घंटी मिलने के बावजूद प्रबंधकों और कीटनाशक कारखाने की लापरवाही के कारण हजारों मासूम लोग काल के गाल में समा गए।

IBC24 की अन्य बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करें