bageshwar dham me arji kaise lagaye Online

बागेश्वर धाम वाले धीरेंद्र शास्त्री के दिव्य दरबार में कैसे लगती है ‘अर्जी’, यहां हुआ खुलासा

आज हम आपको बताते हैं कि धीरेंद्र शास्त्री के दिव्य दरबार में कैसे अर्जी लगती है! bageshwar dham me arji kaise lagaye Online

Edited By: , January 24, 2023 / 05:21 PM IST

नई दिल्ली: bageshwar dham me arji kaise lagaye Online बागेश्वर धाम सरकार वाले धीरेंद्र शास्त्री इन दिनों चर्चा में बने हुए हैं। सबसे ज्यादा चर्चा उनके दिव्य दरबार की होने लगी है, जहां धीरेंद्र शास्त्री अर्जी लगाने वालों की समस्याओं का समाधान करते हैं। दिव्य दरबार में जो होता है, उसे कुछ लोग चमत्कार मानते हैं तो कुछ इसे जादू मानते हैं। वहीं, कुछ ऐसे लोग भी हैं जो ये मानते हैं कि बागेश्वर धाम वाले धीरेंद्र शास्त्री ढोंग करते हैं, जिन्हें वे दिव्य दरबार के मंच पर बुलाते हैं वो उनके पहचान वाले होते हैं। तो चलिए आज हम आपको बताते हैं कि धीरेंद्र शास्त्री के दिव्य दरबार में कैसे अर्जी लगती है।

Read More: IND VS NZ 3rd ODI Live Score : टीम इंडिया ने न्यूजीलैंड को 386 रन का टारगेट दिया 

bageshwar dham me arji kaise lagaye Online आपको बता दें कि धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री का बागेश्वर धाम मध्य प्रदेश के छतरपुर जिला मुख्यालय से तकरीबन 30 किलोमीटर दूर गढ़ा गांव के पास मौजूद है। धीरेंद्र शास्त्री के ‘दिव्य दरबार’ के दौरान धाम में उनसे मिलने के लिए टोकन लेने की व्यवस्था है। आवेदक को इस धाम के परिसर में लगे बॉक्स में अपने से जुड़ी तमाम जानकारियां मसलन नाम, पिता का नाम, पता और मोबाइल नंबर इत्यादि डालनी होती हैं। फिर धाम की टीम इन आवेदकों में से जिसे बुलाना चाहती है, उससे संपर्क करती है और उन्हें एक निश्चित तिथि पर दरबार में आने के लिए आने के लिए कहती है। इसके लिए कुछ लोग कई दिनों तक वहां रुके रहते हैं, तो कइयों अपने घर लौट आते हैं और फोन आने पर बागेश्वर धाम चले जाते हैं।

Read More: बॉयफ्रेंड ने महीनों छिपाए रखा इस अंग से जुड़ा सीक्रेट, पता चलने पर लड़की के उड़े होश 

खास बात यह है कि अपॉइंटमेंट की यह प्रक्रिया कलर कोडेड है। मतलब शास्त्री से मिलने के इच्छुक लोगों को एक लाल कपड़े में, विवाह संबंधी मामलों के लिए एक पीले कपड़े में और आत्माओं से परेशान होने पर एक काले कपड़े में एक नारियल रखना होता है। यहां कुछ वर्षों के भीतर देश दुनिया के कोने कोने से आने वाले श्रद्धालुओं की संख्या काफी बढ़ गई है। इस स्थान पर हनुमान भक्त धीरेंद्र शास्त्री ‘राम कथा’ का वाचन करते और दिव्य दरबार लगाकर भक्तों के मन की बात उनके बिना पूछे ही एक कागज पर लिख देते। लेकिन अब धाम के अलावा दूसरे राज्यों और देशों में भी उनकी कथाओं और दरबार लगने लगे हैं, जिससे अब यह तय नहीं किया जा सकता कि अर्जी लगाने वाले श्रद्धालु की पेशी कब तक होगी। बता दें कि आगामी 2 साल तक शास्त्री की होने वाली कथाओं का शेड्यूल तय हो चुका है।

Read More: IND VS NZ 3rd ODI Live Score : टीम इंडिया लड़खड़ाई, शार्दुल ठाकुर के बाद हार्दिक पांड्या हुए आउट…

दिलचस्प बात यह है कि धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री ने यह भी कहा कि उन्होंने कभी भी चमत्कार करने का दावा नहीं किया। शास्त्री कहते हैं, मैं केवल सनातन धर्म का प्रचार कर रहा हूं, जो संविधान के तहत मेरा अधिकार है। मैं केवल अपने भगवान से संकट में पड़े लोगों की मदद करने की प्रार्थना करता हूं। लोग चादर बिछाते हैं और मोमबत्तियां जलाते हैं। इसे तर्कहीन क्यों नहीं माना जाता?” बागेश्वर धाम की एक वेबसाइट भी है जो श्रद्धालुओं के लिए तमाम सेवाएं प्रदान करती है।

 

 

देश दुनिया की बड़ी खबरों के लिए यहां करें क्लिक