विश्व की सबसे बड़ी स्वच्छता प्रतियोगिता में छत्तीसगढ़ का लगातार तीसरे साल भी उत्कृष्ट प्रदर्शन, 20 नवंबर को राष्ट्रपति के हाथों होगा सम्मान

Chhattisgarh's excellent performance in the world's biggest cleanliness competition for the third consecutive year

: , November 14, 2021 / 01:14 PM IST

रायपुर। आजादी की 75वीं वर्षगांठ पर 20 नवंबर 2021 को नई दिल्ली के विज्ञान भवन में आजादी का अमृत महोत्सव के अंतर्गत आयोजित स्वच्छ अमृत महोत्सव में राष्ट्रपति रामनाथ कोविद द्वारा छत्तीसगढ़ को भारत के स्वच्छतम् राज्यों की श्रेणी में पुरस्कृत किया जाएगा। भारत सरकार द्वारा आयोजित विश्व की सबसे बड़ी स्वच्छता प्रतियोगिता में छत्तीसगढ़ ने इस बार भी बाजी मारी है। इससे पहले वर्ष 2019 एवं 2020 में भी छत्तीसगढ़ स्वच्छता के मामले में अग्रणी राज्य रहा है। भारत सरकार की ओर से केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी द्वारा मुख्यमंत्री भूपेश बघेल तथा नगरीय प्रशासन मंत्री डॉ. शिवकुमार डहरिया को पुरस्कार ग्रहण करने के लिए नई दिल्ली आमंत्रित किया गया है।

पढ़ें- पीसीसी चीफ कमलनाथ ने किया ‘बाल कांग्रेस’ का गठन, 16-20 आयु वर्ग के सैकड़ों सदस्यों के साथ शुरुआत

भारत सरकार के आवासन एवं शहरी कार्यमंत्रालय द्वारा हर साल देश के समस्त शहरों एवं राज्यों के मध्य स्वच्छ सर्वेक्षण का आयोजन किया जाता है। इसमें विभिन्न मापदंडों के अंतर्गत शहरी स्वच्छता का आंकलन किया जाता है। मुख्य रूप से घर-घर से कचरा एकत्रीकरण, कचरे का वैज्ञानिक रीति से निपटान, खुले में शौच मुक्त शहर, कचरा मुक्त शहर आदि का थर्ड पार्टी के माध्यम से आँकलन करते हुए नागरिकों के फीडबैक को भी इसमें शामिल किया जाता है। इसी आधार पर राज्यों एवं शहरों की रैंकिंग जारी कर उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले राज्यों तथा शहरों को पुरस्कृत किया जाता है।

पढ़ें- लोकवाणी की 23वीं कड़ी में आम जनता से रूबरू हुए सीएम बघेल, जानिए मुख्यमंत्री ने क्या बड़ी बातें कही

भारत सरकार द्वारा छत्तीसगढ़ राज्य को सूचित किया गया है कि इस वर्ष छत्तीसगढ़ ने पुनः स्वच्छता के क्षेत्र में अपना परचम लहराते हुए देश के स्वच्छ्तम राज्य के अपने दर्जे को बरकरार रखते हुए सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया है। छत्तीसगढ़ को न सिर्फ़ राज्य के रूप में, बल्कि यहां के 61 शहरों को भी इनके उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिए पुरस्कृत किया जाएगा। छत्तीसगढ़ ऐसा राज्य होगा जिसके सबसे ज्यादा निकाय पुरस्कृत किए जाएंगे।

पढ़ें- जीका वायरस के लिए नई गाइडलाइन, मरीज के 400 मीटर के इलाके बनेंगे कंटेनमेंट जोन, होम आइसोलेशन में रहने की सलाह 

छत्तीसगढ़ देश का ऐसा एक मात्र प्रदेश है जहां पर नरवा, गरूवा, घुरवा एवं बाड़ी के सिद्धांतों के अनुरूप 9000 से अधिक स्वच्छता दीदियों द्वारा घर-घर से 1600 टन गीला एवं सूखा कचरा एकत्रीकरण करते हुए वैज्ञानिक रीति से कचरे का निपटान किया जाता है। इसके अतिरिक्त, भारत सरकार द्वारा छत्तीसगढ़ को देश का प्रथम ओडीएफ़ प्लस प्लस राज्य निरूपित किया गया है।

पढ़ें- पत्रकार ने की थी अस्पतालों की धांधली उजागर.. सड़क किनारे मिला अधजला शव

इस महत्वपूर्ण उपलब्धि के लिए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने प्रदेशवासियों को बधाई देते हुए इस सफलता का श्रेय प्रदेश की जागरूक जनता तथा यहां के कर्मवीर सफ़ाई कर्मचारियों तथा अधिकारियों के परिश्रम को दिया है। नगरीय प्रशासन एवं विकास विभाग के मंत्री डॉ शिवकुमार डहरिया ने भी इस सफलता हेतु राज्य की जनता द्वारा किए गए प्रयासों की सराहना करते हुए, स्वच्छता से जुड़े सभी अधिकारियों तथा कर्मचारियों को बधाई दी है।

पढ़ें- पखांजूर एनकाउंटर में मारा गया 50 लाख का इनामी नक्सली कमांडर मिलिंद तेलतुम्‍बडे, 27 माओवादी ढेर

उन्होंने कहा है कि हम सभी मिलकर आगे भी छत्तीसगढ़ को स्वच्छता का सिरमौर बनाए रखेंगे। नगरीय प्रशासन एवं विकास विभाग की सचिव मती अलरमेलमंगई डी ने भी विभाग की ओर से मुख्यमंत्री भूपेश बघेल जी तथा विभागीय मंत्री डॉ. शिवकुमार डहरिया के प्रति आभार व्यक्त करते हुए आगे भी इसी प्रकार का प्रदर्शन दोहराने की बात कही है।