Board Exams 2022 update: 10वीं-12वीं बोर्ड की फिजिकल परीक्षाएं होंगी रद्द? 15 से ज्यादा राज्यों की याचिका पर SC करेगा सुनवाई

Board Exams 2022 update: 10वीं-12वीं बोर्ड की फिजिकल परीक्षाएं होंगी रद्द? 15 से ज्यादा राज्यों की याचिका पर SC करेगा सुनवाई

Board Exams 2022 update: 10वीं-12वीं बोर्ड की फिजिकल परीक्षाएं होंगी रद्द? 15 से ज्यादा राज्यों की याचिका पर SC करेगा सुनवाई

Edited By: , February 22, 2022 / 01:50 PM IST

Board Exams update 2022 : नई दिल्ली। 10वीं 12वीं बोर्ड की फिजिकल परीक्षाएं रद्द हो सकती है। सुप्रीम कोर्ट इस मसले पर बुधवार को सुनवाई करेगा। बता दें 15 से अधिक राज्यों के कक्षा 10वीं और 12वीं के छात्रों द्वारा दायर याचिका में आगामी बोर्ड परीक्षाओं के लिए एक वैकल्पिक मूल्यांकन पद्धति की मांग की गई है।

हमारे 𝕎𝕙𝕒𝕥𝕤 𝕒𝕡𝕡 Group’s में शामिल होने के लिए यहां Click करें.

सुप्रीम कोर्ट राज्यों, ICSE और CBSE समेत सभी 10वीं और 12वीं बोर्ड्स की फिजिकल परीक्षाओं को रद्द करने के मामले में बुधवार को सुनवाई करने के लिए तैयार हो गया है। कोर्ट में दायर की गई याचिका में कोरोना महामारी का हवाला देते हुए राज्य बोर्डों, सीबीएसई और आईसीएसई की ऑफलाइन परीक्षाओं को रद्द करने की मांग की गई है।

पढ़ें- 100 रुपए दैनिक SIP योजना लोगों के लिए साबित होगी किफायती, स्कीम में टाटा के साथ ये बैंक भी हैं शामिल

अदालत ने याचिकाकर्ता से कहा है कि वह अपनी याचिका की प्रति CBSE को भी दें। इस मामले की सुनवाई सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस ए एम खानविलकर की बेंच बुधवार को करेगी। सोमवार को सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले पर सुनवाई के लिए रजामंदी दे दी थी और कह दिया था कि जस्टिस खानविलकर की पीठ को ये मामला सुनवाई के लिए भेजा जा रहा है।

पढ़ें- बारातियों से भरी एसयूवी की ट्रक से भीषण टक्कर.. हादसे में 4 की मौत, 7 घायल

आपको बता दें कि केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड ने कक्षा 10वीं और 12वीं की टर्म 2 परीक्षा की तारीखों की घोषणा भी कर दी है। टर्म 2 की परीक्षा 26 अप्रैल से होगी। इस बीच, काउंसिल फॉर द इंडियन स्कूल सर्टिफिकेट एग्जामिनेशन द्वारा ICSE कक्षा 10 और ISC कक्षा 12वीं की परीक्षा अप्रैल के अंतिम सप्ताह में आयोजित करने की संभावना है।

पढ़ें- जापान ने की रूस की निंदा, प्रतिबंधों सहित संभावित ‘गंभीर कार्रवाई’ पर करेगा विचार

15 से अधिक राज्यों के कक्षा 10वीं और 12वीं के छात्रों द्वारा दायर याचिका में आगामी बोर्ड परीक्षाओं के लिए एक वैकल्पिक मूल्यांकन पद्धति की मांग की गई है। पिछले साल, सीबीएसई, सीआईएससीई, अन्य राज्य बोर्डों ने वैकल्पिक मूल्यांकन मानदंडों के आधार पर छात्रों का मूल्यांकन करने का फैसला लिया था। छात्रों का मूल्यांकन आंतरिक परीक्षा और बोर्ड द्वारा तैयार किए गए एक तय मानक के आधार पर किया गया।

 

 

#HarGharTiranga