चिड़ियाघर के शेर ‘डेल्टा’ वैरिएंट से संक्रमित, शेरों में सांस लेने की समस्या, नाक बहना और सूखी खांसी के लक्षण

संक्रमित पशु संचालकों से चिड़ियाघर के शेर कोरोना वायरस के ‘डेल्टा’ स्वरूप से हुए संक्रमित: अध्ययन

: , January 19, 2022 / 10:41 AM IST

जोहानिसबर्ग, 19 जनवरी (भाषा) दक्षिण अफ्रीका के एक निजी चिड़ियाघर के ऐसे संक्रमित पशु संचालकों, जिनमें कोविड-19 के कोई लक्षण नहीं थे उनसे वहां के शेर कोरोना वायरस के ‘डेल्टा’ स्वरूप से संक्रमित हो गए। इन शेरों में सांस लेने में समस्या, नाक बहना और सूखी खांसी जैसे लक्षण भी दिखे। प्रिटोरिया विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों के एक दल द्वारा हाल ही में किए गए एक अध्ययन में यह बात सामने आई है।

पढ़ें- तीसरी लहर: किन राज्यों में कब आएगा कोरोना का पीक.. IIT प्रोफेसर ने बताया.. जानिए

पत्रिका ‘वायरसेज’ में हाल ही में प्रकाशित इस अध्ययन में अनुसंधानकर्ताओं ने लोगों से आग्रह किया है कि अगर वे कोरोना वायरस से संक्रमित हैं, तो अपनी पालतू बिल्लियों और कुत्तों के संक्रमित होने की आशंका के बारे में सतर्क रहें।

पढ़ें- वरुण धवन को सदमा.. ड्राइवर की हार्ट अटैक से मौत, एक्टर संग शूटिंग सेट पर था मौजूद

इस दल का नेतृत्व यूनिवर्सिटी के मेडिकल वायरोलॉजी विभाग में अर्बो-एंड रेस्पिरेटरी वायरस कार्यक्रम, ज़ूनोटिक की प्रमुख प्रोफेसर मारिएटजी वेंटर और पशु चिकित्सा विज्ञान संकाय में वन्यजीव स्वास्थ्य की एसोसिएट प्रोफेसर काटजा कोप्पेल ने किया। उन्होंने 2021 के अंत में दक्षिण अफ्रीका में कोविड-19 वैश्विक महामारी की तीसरी लहर के दौरान चिड़ियाघर में तीन बीमार शेरों पर एक अध्ययन किया।

पढ़ें- Amazon Great Republic Day Sale 2022: स्मार्टफोन्स पर 40% तक छूट, SBI क्रेडिट कार्ड पर 10% की अतिरिक्त छूट.. जल्द करें

विश्वविद्यालय ने एक बयान में कहा, ‘‘ ट्रांसडिसिप्लिनरी (अंतःविषय) वैज्ञानिकों के दल ने पाया कि गौतेंग (प्रांत) के एक निजी चिड़ियाघर में ऐसे संक्रमित पशु संचालक, जिनमें कोविड-19 के कोई लक्षण नहीं थे उनसे वहां के शेर कोरोना वायरस के ‘डेल्टा’ स्वरूप से संक्रमित हो गए। जानवरों के ‘डेल्टा’ स्वरूप से संक्रमित होने से एक गंभीर बीमारी का जन्म हो सकता है। यह जानवर बीमार होने के सात सप्ताह बाद तक पीसीआर जांच में संक्रमित पाए गए।’’ वैज्ञानिकों ने कहा कि उनके लंबे समय तक संक्रमित रहने से खतरा बढ़ गया था और इसलिए संक्रमित ना होने की पुष्टि होने तक उन्हें पृथक रखा गया था।

पढ़ें- Gold Price: गोल्ड के दाम में रिकॉर्ड गिरावट, 8 हजार रुपए सस्ता हुआ सोना.. जल्द करें खरीददारी

कोप्पेल ने कहा कि शेरों को 15 दिन तक सांस लेने में समस्या, नाक बहना और सूखी खांसी जैसे लक्षण थे। इन पर कड़ी नजर रखी गई और 15 से 25 दिन में जाकर तीन शेर पूरी तरह ठीक हुए। सभी कर्मचारियों और शेरों के नमूनों का जीनोम अनुक्रमण किया गया था, जिसमें उनके ‘डेल्टा’ स्वरूप से संक्रमित होने की पुष्टि हुई। गौरतलब है कि करीब एक साल पहले चिड़ियाघर में दो कूगर (प्यूमा) भी कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए थे।