This great calamity is coming from the sky towards the earth.

11 दिन बाद दुनिया में होगा बड़ा विनाश! आसमान से धरती के तरफ आ रही है ये बड़ी आफत

Comet moving to Earth Update: इस धूमकेतु का नाम C/2017 K2 (PANSTARRS) यानी कि K2 रखा गया है,2017 में यह धूमकेतु पहली बार दिखाई पड़ा था।

Edited By: , July 3, 2022 / 05:14 AM IST

नई दिल्ली। Comet moving to Earth Update:  क्या 11 दिन बाद दुनिया खत्म हो जाएगी। धूमकेतुओं में से एक तेजी से धरती की ओर बढ़ रहा है। वहीं एक्सपर्ट के अनुसार अनुमान लगाया जा रहा है कि पृथ्वी से टकराने के बाद बड़ा विनाश हो सकता है। इस धूमकेतु का नाम C/2017 K2 (PANSTARRS) यानी कि K2 रखा गया है,2017 में यह धूमकेतु पहली बार दिखाई पड़ा था। चलिए आपको बताते हैं कि पृथ्वी को कितना खतरा है।

यह भी पढ़ें:  गुस्से में महिला ने पति की हत्या कर शव आंगन में ही गाड़ दिया और.. इस बात को लेकर हुआ था विवाद

स्पेसडॉटकॉम की रिपोर्ट के मुताबिक

Comet moving to Earth Update:  स्पेसडॉटकॉम की रिपोर्ट के अनुसार 2017 में इस धूमकेतु को पहली बार देखा गया था, उस समय धूमकेतु पृथ्वी से लगभग 168 मिलियन मील (270 मिलियन किलोमीटर) दूर था। इसे लोग 14 जुलाई के शाम 6:15 बजे के करीब वर्चुअल टेलीस्कोप प्रोजेक्ट के लाइव वेबकास्ट में ट्यून करके ऑनलाइन देख सकेंगे।

यह भी पढ़ें:  Video viral : सड़क पर खतरनाक स्टंट दिखाना पड़ा महंगा, पुलिस ने सिखाया ऐसे सबक

5 सालों से बढ़ रहा धरती की ओर..

Comet moving to Earth Update:  जानकारी के अनुसार यह धूमकेतु लगातार 5 सालों से धरती के तरफ बढ़ रहा है धूमकेतु, जो ज्यादातर जमी हुई गैसों, चट्टान और धूल से बनते हैं, और सूर्य के निकट आते ही और भी ज्यादा सक्रिय होने लगते हैं। सूर्य की गर्मी से धूमकेतू बहुत ही जल्दी गर्म हो जाते हैं, जिससे इसके ठोस बर्फ गैस के रुप में परिवर्तित हो जाते हैं और इसके चारों ओर बादल बन जाते हैं जिसे कोमा भी कहते हैं।

यह भी पढ़ें: रेप केस में पूर्व विधायक का भाई गिरफ्तार, अन्य आरोपियों को पकड़ने पुलिस ने बिछाया जाल

सबसे सक्रिय धूमकेतुओं में से एक है ये

Comet moving to Earth Update:  सबसे रोचक बात यह है कि K2 नामक यह धूमकेतु सबसे सक्रिय धूमकेतुओं में से एक है, जो कि वर्ष 2017 में पहली बार दिखाई पड़ा था और जिसकी दूरी सूर्य से करीब 1.49 बिलियन मील (2.4 बिलियन किमी) है। जानकारी के अनुसार इस धूमकेतु मे एक बहुत बड़ा कोमा मौजूद था, और साथ ही कनाडा-फ्रांस-हवाई टेलीस्कोप (CFHT) ने जो सुझाव दिया उसके मुताबिक K2 का नाभिक 18 से 100 मील (30 से 160 किमी) चौड़ा हो सकता है।

और भी है बड़ी खबरें…

 

#HarGharTiranga