उम्र 66 बरस.. 138 बच्चों का बाप है यह शख्स! अब इस लक्ष्य को करना चाहता है पूरा

उम्र 66 बरस.. 138 बच्चों का बाप है यह शख्स! अब इस लक्ष्य को करना चाहता है पूरा

: , January 27, 2022 / 04:09 PM IST

नई दिल्ली।  इन दिनों ब्रिटेन के एक शख्स के खूब चर्चे हैं जो स्पर्म डोनेशन का काम कर-कर के अब तक 129 बच्चों का पिता बन चुका है। 66 साल के क्लाइव जोन्स पिछले 10 सालों से स्पर्म डोनेशन का काम कर रहे हैं।

हमारे 𝕎𝕙𝕒𝕥𝕤 𝕒𝕡𝕡 Group’s में शामिल होने के लिए यहां Click करें.

उनके इस योगदान से वो अब तक 129 बच्चों के बायोलॉजिकल पिता बन चुके हैं और जल्द ही 9 बच्चे और पैदा होने वाले हैं जिससे वो 138 बच्चों को बाप बन जाएंगे। क्लाइव का कहना है कि वो 150 तक कर के फिर इस काम को अलविदा कह देंगे। मगर ये सब कुछ क्लाइव के लिए इतना आसान नहीं है।

पढ़ें- भाजपा विधायक को गिरफ्तारी से 10 दिन का मिला संरक्षण, इस दिन करना होगा सरेंडर

द सन वेबसाइट की रिपोर्ट के मुताबिक क्लाइव आधिकारिक रूप से स्पर्म डोनर नहीं बन सकते हैं क्योंकि ब्रिटेन में डोनर बनने की अधिकतम आयु 45 वर्ष है। इस वजह से वो फेसबुक के जरिए अपने ग्राहकों से जुड़ते हैं और उनकी जरूरतों को पूरा करते हैं।

पढ़ें- हॉकी टीम के कप्तान रहे चरणजीत सिंह का निधन.. टोक्यो ओलंपिक में दिलाया था गोल्ड.. खेल जगत में शोक

ह्यूमन फर्टिलाइजेशन एंड एंब्रयोलॉजी अथॉरिटी ने क्लाइव की इस हरकत पर एक चेतावनी जारी की है। दरअसल, क्लाइव स्पर्म डोनेशन का काम अपनी वैन से चलाते हैं और अथॉरिटी के सख्त निर्देश हैं कि सभी डोनर्स और मरीजों को ब्रिटेन की लाइसेंस्ड क्लिनिक के माध्यम से ही स्पर्म डोनेशन और खरीदने का काम करना होगा। अथॉरिटी का कहना है कि क्लिनिक के जरिए ऑपरेट करने से डोनर और ग्राहक दोनों को स्पर्स डोनेशन के इफेक्ट, और अन्य जरूरी बातें बताई जा सकती हैं। क्लाइव का इस बारे में कहना है कि वो वैन से ऑपरेट कर सीधे अपने ग्राहकों को स्पर्म थमा देते हैं।

पढ़ें- जिगोलो बनना चाहता था युवक.. लुटा बैठा लाखों रुपए.. पुरुष वेश्यावृत्ति के नाम पर ठगी

बड़ी बात ये है कि वो अपनी इस सर्विस के लिए पैसे नहीं चार्ज करते। उनका कहना है कि उन्हें किसी को खुशी देकर, किसी का परिवार बसाकर बहुत खुशी मिलती है। उनको ये आइडिया 9-10 साल पहले अखबार में एक आर्टिकल पढ़कर आया जब उन्होंने देखा कि लोगों को बिना बच्चे के कितना मानसिक दर्द झेलना पड़ता है।