जिगोलो बनना चाहता था युवक.. लुटा बैठा लाखों रुपए.. पुरुष वेश्यावृत्ति के नाम पर ठगी

जिगोलो बनना चाहता था युवक.. लुटा बैठा लाखों रुपए.. पुरुष वेश्यावृत्ति के नाम पर ठगी

: , January 27, 2022 / 02:11 PM IST

नई दिल्ली।  एक युवक जिगोलो यानी पुरुष वेश्या बनना चाहता था। इसी चाहत ने उसे 1,54,000 रुपये का चूना लगा दिया। यानी वो ठगी का शिकार हो गया। पीड़ित नौजवान ने नोएडा के सेक्टर 49 में एफआईआर दर्ज कराई है। वह नौजवान लड़का जिगोलो बनना चाहता था। वह पुरुष वेश्यावृत्ति करना चाहता था।

पढ़ें- Aadhaar Card में घर बैठे आसानी से बदलें मोबाइल नंबर या नाम-पता, देखिए पूरी प्रक्रिया

इसी काम की तलाश में एक रोज उसने विज्ञापन देखा। जिसमें जिगोलो बनाए जाने के ऑफर दिए गए थे। बस उसी विज्ञापन के जाल में वो लड़का फंस गया और जिगोलो बनने की चाहत में उसने लाखों रुपये गंवा दिए। बाद में पता चला कि जो कंपनी जिगोलो बनाने का दावा कर रही थी, वह फर्जी थी और वो ठगी का शिकार बन चुका था।

पढ़ें- इसी महीने कार लेने का कर रहे हैं प्लान.. SuV कारों पर मिल रहा बंपर डिस्काउंट, देखिए कारों की पूरी सूची और ऑफर

मामला नोएडा के सेक्टर 49 इलाके का है। एफआईआर के मुताबिक उसे जिगोलो बनाने का ऑफर दिया गया और रजिस्ट्रेशन के नाम पर उससे अपने खाते में 1,54,430 रुपये ट्रांसफर करवा लिए। साइबर ठगों ने पीड़ित को इस बात का लालच भी दिया था कि उसे इस धंधे से मोटी कमाई होगी और नई-नई लड़कियों से उसकी मुलाकात भी हुआ करेगी।

पढ़ें- 20 साल की लड़की से सरेआम गैंगरेप, पीड़िता के बाल काटे.. फिर कालिख पोतकर सड़कों में घुमाया

जिगोलो बनाने के नाम पर ठगी का ये पहला मामला नहीं है.. आजकल ऐसे तमाम विज्ञापन देखे जा सकते हैं, जो सोशल मीडिया पर मौजूद हैं और दावा करते हैं कि बलिष्ठ, हष्ट-पुष्ट और बॉडी बिल्डिंग करने वाले नौजवानों को ऐश ओ आराम के साथ-साथ जिगोलो का काम भी करना होगा। उन्हें लुभाया जाता है कि लाखों रुपये की कमाई के साथ-साथ हर रोज नई-नई लड़कियों से उनकी मुलाकात भी हुआ करेगी।

पढ़ें- महिलाओं और पुरुषों को हर महीने 3000 रुपए मिलेंगे.. केंद्र की शानदार योजना.. देर न करें आज ही करें अप्लाई.. देखिए पूरी प्रक्रिया 

इस लुभावने ऑफर के बाद युवकों से रजिस्ट्रेशन के नाम पर मोटी रकम वसूली जाती है। कई मामलों में ऐसा भी देखा गया है कि युवकों से उनकी निजी तस्वीरें भी हासिल की गई। जिसके नाम पर उन्हें ब्लैकमेल किया गया। नोएडा पुलिस का साइबर सेल इस पूरे मामले की जांच कर रहा है।