Sensex surges 418 points

रॉकेट की तरह चढ़ा शेयर बाजार, 60 हजार के पार पहुंचा सेंसेक्स, इन निवेशकों की हुई बल्ले-बल्ले

तीस शेयरों पर आधारित बीएसई सेंसेक्स 417.92 अंक यानी 0.70 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 60,260.13 अंक पर बंद हुआ

Edited By: , August 17, 2022 / 05:53 PM IST

मुंबई।  Sensex surges 418 points :  बीएसई सेंसेक्स में बुधवार को लगातार चौथे कारोबारी दिन तेजी का सिलसिला जारी रहा और लगभग चार महीने बाद यह एक बार फिर 60,000 अंक के स्तर के पार निकल गया। विदेशी निवेशकों की बाजारों में लगातार लिवाली और कच्चे तेल की कीमतों में नरमी से शेयर बाजार में तेजी आई। कारोबारियों के अनुसार, रुपये और एशियाई बाजारों में मजबूती से भी घरेलू बाजार को समर्थन मिला। तीस शेयरों पर आधारित बीएसई सेंसेक्स 417.92 अंक यानी 0.70 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 60,260.13 अंक पर बंद हुआ।

यह भी पढ़ेंः संदिग्ध हालत में कुटिया में मिला साधु का शव, हालत देख चौंके ग्रामीण, पुलिस ने शुरू की जांच

इस साल पांच अप्रैल के बाद पहली बाद सेंसेक्स ने पहली बार 60,000 अंक का मनोवैज्ञानिक आंकड़ा पार किया गया है। इसी तरह, नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी भी 119 अंक यानी 0.67 प्रतिशत चढ़कर 17,944.25 अंक पर बंद हुआ। इसमें लगातार सातवें कारोबारी सत्र में तेजी दर्ज की गई है। निफ्टी में शामिल 50 शेयरों में से 33 लाभ में रहे।

सेंसेक्स की कंपनियों में बजाज फिनसर्व का शेयर सबसे अधिक 5.74 प्रतिशत चढ़ गया। बजाज फाइनेंस, भारती एयरटेल, टेक महिंद्रा, एचसीएल टेक्नोलॉजीज, एनटीपीसी, एचयूएल और विप्रो के शेयर भी लाभ में रहे। दूसरी तरफ, नुकसान में रहने वाले शेयरों में महिंद्रा एंड महिंद्रा, अल्ट्राटेक सीमेंट, मारुति, टाटा स्टील, कोटक बैंक, पावर ग्रिड और टाइटन शामिल हैं।

यह भी पढ़ेंः  नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी में छात्रों ने किया हंगामा, इस मामले को लेकर कर रहे विरोध

जियोजीत फाइनेंशियल सर्विसेज के शोध प्रमुख विनोद नायर ने कहा, ‘‘घरेलू शेयर बाजार में तेजी का प्रमुख कारण विदेशी संस्थागत निवेशकों की लगातार लिवाली है। पश्चिमी बाजारों के मुद्रास्फीति से प्रभावित होने के बावजूद भारतीय अर्थव्यवस्था मजबूत बनी हुई है, जिससे विदेशी निवेशकों का भारत को लेकर रुख बदला है।’’

उन्होंने कहा, ‘‘जिंसों और कच्चे तेल की कीमतों में नरमी से भी विदेशी निवेशकों का भरोसा बढ़ा है।’’ इसके अलावा बीएसई मिडकैप 0.64 प्रतिशत और स्मॉलकैप 0.53 प्रतिशत चढ़ गया। एशिया के अन्य बाजारों में चीन का शंघाई कंपोजिट, जापान का निक्की तथा हांगकांग का हैंगसेंग लाभ में रहे, जबकि दक्षिण कोरिया का कॉस्पी नुकसान में रहा।

यह भी पढ़ेंः बारिश ने खोली दावों की पोल, राजधानी में गड्ढों में सड़क, रोजाना होते हैं हादसे

वहीं, यूरोप के प्रमुख बाजारों में कारोबार में सुस्ती का रुख रहा। अमेरिकी शेयर बाजार मंगलवार को बढ़त के साथ बंद हुए। इस बीच, अंतरराष्ट्रीय तेल मानक ब्रेंट क्रूड 0.13 प्रतिशत की गिरावट के साथ 92.22 डॉलर प्रति बैरल पर आ गया। शेयर बाजार के आंकड़ों के अनुसार, विदेशी संस्थागत निवेशक (एफआईआई) भारतीय पूंजी बाजार में शुद्ध लिवाल रहे। उन्होंने मंगलवार को 1,376.84 करोड़ रुपये मूल्य के शेयर खरीदे।

और भी है बड़ी खबरें…