UP Samuhik vivah Yojana : UP government will get more than 12 thousand daughters married,

12 हजार से अधिक बेटियों का विवाह कराएगी यूपी सरकार, आशीर्वाद देने पहुंचेंगे सीएम योगी, जाने कब आयोजित होगा समारोह

UP government will get 12 thousand daughters married : लखनऊ। उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना कई गरीब बेटियों की शादी का

Edited By: , May 23, 2022 / 11:11 AM IST

UP Samuhik vivah Yojana 2022 : लखनऊ। उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना कई गरीब बेटियों की शादी का सपना पूरा कर रही है। बीते पांच वर्षों से यूपी सरकार इस योजना के तहत गरीब परिवारों की बेटियों की शादी करवा रही है। इस आयोजन के लिए हर जिले में योगी सरकार की सराहना की जा रही है।

यह भी पढ़े : अनाज कारोबारी से 50 लाख लूटने मुंशी ने दी थी मास्टरमाइंड देवेंद्र धृतलहरे को जानकारी, अब पहुंचा हवालात

12 हजार से अधिक बेटियों की शादी करवाएगी योगी सरकार

इसी क्रम में योगी सरकार गरीब परिवारों की 12 हजार से अधिक बेटियों की शादी करवाने वाली है। मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना के तहत आने वाले 10 जून और 17 जून प्रदेश के सभी जिलों में शादी समारोह का आयोजन किया जाएगा। सरकार ने प्रत्येक जिले को अपने यहां 150 सामूहिक विवाह कराने का लक्ष्य दिया है। 10 जून और 17 जून को मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना के तहत होने वाले शादी समारोह में सांसद, विधायक और जिले के प्रतिष्ठित लोग शामिल होंगे और यह सभी लोग वर-वधू को आशीवार्द देंगे।

यह भी पढ़े : भोजपुरी एक्ट्रेस नम्रता मल्ला ने बिकिनी में शेयर की फोटोज, सोशल मीडिया पर लगाई आग

2017 से चल रही है योजना

योगी सरकार अक्टूबर 2017 से गरीब बेटियों की शादी कराने के लिए मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना चला रही है। इस योजना के तहत विभिन्न समुदाय एवं धर्मों के रीति-रिवाजों के अनुसार वैवाहिक कार्यक्रम कराए जाते हैं। इस योजना का उद्देश्य गरीब परिवारों की बेटियों की ऐसी शादी कराना जिसका इंतजाम जिले के वीआईपी करें। मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना के तहत सरकार प्रत्येक जोड़े की शादी पर 51 हजार रुपये खर्च करती है।

यह भी पढ़े : सेक्स रैकेट का भांडाफोड़, होटल के कमरे में संदिग्ध अवस्था में युवकों के साथ मिली युवतियां

लड़कियों को मिलते है 35 हजार रुपए

UP Samuhik vivah Yojana : जिसके तहत शादी करने वाले जोड़े के दांपत्य जीवन में खुशहाली एवं गृहस्थी की स्थापना के लिए कन्या के खाते में 35 हजार रुपए दिए जाते हैं। विवाह संस्कार के लिए आवश्यक सामग्री जैसे कपड़े, बिछिया, पायल, बर्तन आदि के लिए 10 हजार रुपये खर्च दिया है। इसके अलावा प्रत्येक जोड़े के विवाह आयोजन पर सरकार छह हजार रुपये खर्च करती है।

यह भी पढ़े : फिल्म ‘जुग जुग जीयो’ का ट्रेलर हुआ रिलीज, देखने को मिलेगा कॉमेडी और फैमली ड्रामा का तड़का 

पहले 27 मई को होना था विवाह समारोह

अब इसी योजना के तहत योगी सरकार ने 12 हजार से अधिक बेटियों की शादी कराने पर सहमति जता दी है। पहले यह विवाह समारोह 27 मई और 10 जून को होने थे, लेकिन विधानसभा का सत्र चलने के चलते इनकी तिथि बदलकर अब 10 और 17 जून तय की गई है। सर्वाधिक शादियां 10 जून को कराई जाएंगी। इसके बाद जो शादियां बच जाएंगी उसे 17 जून को संपन्न कराया जाएगा।

यह भी पढ़े : भक्त माता कर्मा के नाम पर होगा बालोद का महिला महाविद्यालय, जिला स्तरीय कर्मा महोत्सव में सीएम भूपेश ने किया ऐलान 

सभी जिलों के समाज कल्याण अधिकारियों को दिया गया है लक्ष्य

राज्य के समाज कल्याण निदेशक राकेश कुमार के अनुसार सभी जिलों के समाज कल्याण अधिकारियों को लक्ष्य के अनुसार अपने-अपने यहां सामूहिक विवाह कराने के निर्देश दिए गए हैं। विवाह के लिए सभी अधिकारी अपने यहां पंजीकरण करेंगे। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और दोनों उप मुख्यमंत्री भी 10 और 17 जून को होने वाले शादी समारोह में किसी एक जिले में हिस्सा लेकर वर-वधू को आशीर्वाद देंगे।

 

#HarGharTiranga