सेहत के लिए धुएं के छल्ले! क्या महिला, क्या पुरुष…दम लगाने लगती है लाइन, हुक्का से होता है गंभीर बीमारियों का इलाज

हुक्का से होता है गंभीर बीमारियों का इलाज! Hospital where hookah is used to treat serious diseases in ujjain

Edited By: , July 30, 2021 / 09:01 PM IST

उज्जैन: कहा जाता है कि धूम्रपान से श्वास, दमा और फेफड़े संबंधी रोग होते हैं, लेकिन कहें कि हुक्का से कई रोगों का इलाज हो रहा है तो शायद आपको हैरानी होगी। जी, हां यह सच है। आयुर्वेद पद्धति में हुक्के के माध्यम से ही इन रोगों का इलाज संभव है।

Read More: 9 अगस्त तक लॉकडाउन, बंद रहेंगे स्कूल-कॉलेज और शिक्षण संस्थान, संक्रमण की स्थिति को देखते हुए यहां जारी हुआ आदेश

देश का पहला हुक्का उपचार केंद्र

दरअसल उज्जैन के शासकीय धन्वंतरि आयुर्वेदिक चिकित्सालय में धूम्रपान चिकित्सा इकाई वर्ष 2018 से शुरू किया गया, जिसमें विभिन्न जड़ी-बूटियों का उपयोग कर श्वास या दमा रोग का इलाज किया जाता है। यह देश की प्रथम ऐसी इकाई है, जहां धूम्रपान से श्वास, दमा और फेफडे़ संबंधी रोगों का इलाज किया जा रहा है।

Read More: 7th Pay Commission: कर्मचारियों के वेतन में होगी भारी वृद्धि, सरकार ने योजना तैयार करने का दिया निर्देश, रक्षाबंधन के पहले भर जाएगी जेब

जानिए क्या कहते हैं डॉ निरंजन सराफ

हुक्के से कई बीमारियों का इलाज करने वाले डॉ. निरंजन सराफ ने बताया कि आयुर्वेदिक धूम्रपान का उपयोग श्वास रोग में करने से श्वास रोग में अत्यंत लाभ मिलता है, साथ ही फेफड़ों के स्वास्थ्य में सुधार होने से पूरे शरीर में ऑक्सीजन मिलती है। आयुर्वेदिक धूम्रपान प्राचीनकाल में दिनचर्या का हिस्सा था। यह लंबे समय तक उपयोग के बाद परखा जा चुका है। यह श्वास व दमा रोग में प्रभावी होने के साथ शरीर को कोई दुष्प्रभाव भी नहीं देता है।

Read More: वाहन चालक हो जाएं सावधान! सरकार ने परिवहन विभाग को दिया साढ़े 3 हजार करोड़ वसूली का टारगेट

इलाज करवा चुके शख्स ने कही ये बात

वहीं दमा की बीमारी से ग्रस्त मरीज आशीष ने बताया कि उसे बचपन से ही दमे की बीमारी है, जिसकी वजह से उसे सांस लेने में समस्या आती थी। लेकिन जब से धूम्रपान कर रहा हूं, मुझे सास लेने में परेशानी नही होती है।

Read More: प्रदेश में आज मिले हाथों की अंगुलियों बराबर कोरोना मरीज, नहीं हुई एक भी मौत, 34 हजार 535 लोगों को लगी वैक्सीन

इन जड़ी बूटियों से होता है उपचार

डॉक्टर निरंजन सराफ ने बताया कि हुक्के में जटामासी, नागरमूला, पीपल की छाल, बरगद की छाल , वासा, छोटी–बड़ी इलायची का उपयोग किया जाता है।

Read More: कबूतर खाना बनकर रह गया करोड़ों की लागत से बना मल्टी आर्ट सेंटर, बनाया गया था इस उद्देश्य से

 

 

View this post on Instagram

 

A post shared by IBC24 News (@ibc24.in)